दूधेश्वर महादेव - Dudheshwar Mahadev

प्राचीन, पुराणों मे वर्णित, त्रेता युग से ही स्थापित हिरण्यगर्भ सिद्धपीठ श्री दूधेश्वरनाथ महादेव के स्वरूप को धारण किए यह मंदिर श्री दूधेश्वरनाथ मंदिर के नाम से प्रसिद्ध हैं। यह शिवलिंग त्रेता युग मे श्री राम के जन्म से पहले माना जाता है। तथा मान्यता के अनुसार यहाँ रावण ने भी भगवान शिव की आराधना की है।

मंदिर परिसर के साथ ही गौशाला एवं प्रसिद्ध गुरुकुलम भी स्थापित है। महा शिवरात्रि, काँवड़ यात्रा तथा सावन/श्रावण के सोमवार मंदिर के सबसे बड़े त्यौहार हैं, जिसके अंतर्गत यहाँ लाखों की संख्या मे भक्तगण भोले बाबा के दर्शन के लिए आते हैं।

वैकुंठ चतुर्दशी के दिन संवत 1511 में यहाँ एक धूना गद्दी की स्थापना हुई। मंदिर परिसर मे अभी से पूर्व सभी गद्दीपती अर्थात प्रमुख महंत की समाधि स्थापित की गई है, तथा उन समाधियों पर महंतजी का नाम तथा कार्यकाल अंकित किया गया है।

मंदिर के बाहरी परिसर मे शनि धाम, नवग्रह धाम, गुरुकुलम, यज्ञशाला, गौशाला एवं संत निवास स्थित हैं। मंदिर तक पहुँचने के लिए नया बसअड्डा मेट्रो स्टेशन अत्यधिक सुविधाजनक है। तथा गाज़ियाबाद रेलवे स्टेशन मंदिर से 1 किलो मीटर से भी कम दूरी पर स्थित है। यातायात की सुविधा की दृष्टि से मंदिर तक पहुँचना बस, मेट्रो तथा रेलवे से समान रूप से सुविधाजनक है।

हिरण्यगर्भ दूधेश्वर ज्योतिर्लिंग प्रादुर्भाव पौराणिक कथा!
द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अतिरिक्त अनेक ऐसे हिरण्यगर्भ शिवलिंग हैं, जिनका बड़ा अदभुत महातम्य है। इनमें से अनेक बड़े चमत्कारी और मनोकामना को पूर्ण करने वाले हैं तथा सिद्धपीठों में स्थापित हैं। ऐसे ही सिद्धपीठ श्री दूधेश्वर नाथ महादेव मठ मंदिर के अतिपावन प्रांगण में स्थापित हैं। स्वयंभू हिरण्यगर्भ दूधेश्वर शिवलिंग। कथा को विस्तार मे पढ़ने के लिए क्लिक करें

प्रचलित नाम: श्री दूधेश्वरनाथ महादेव मंदिर, सिद्धपीठ श्री दूधेश्वरनाथ महादेव मठ मंदिर

समय - Timings

दर्शन समय
4:00 AM - 12:00 PM, 5:00 PM - 9.00 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

दूधेश्वर महादेव

Dudheshwar Mahadev in English

Ancient Puranas varnit Hiranyagarbha Jyotirlinga is pray as Siddhapeeth Shri Dudheshwarnath Mahadev Math Mandir, It was the age of treta yuga before the birth of Shri Ram.

जानकारियां - Information

मंत्र
ॐ हिरण्यगर्भाय विदमहे दूग्धेश्वराये धीमहि तन्नो रुद्रः प्रचोदयात्।
धाम
Shri Radha KrishnaShri Ram PariwarSinduri HanumanMata GayatriMaa KaaliShri Gauri ShankarBhagwan SatyanarayanMaa DurgaShri Lakshmi GaneshMaa AnnapurnaMaa Mahishasur Mardhani
Guru DronacharyaJagatguru ShankaracharyShri Gautam RishiBhagwan ParashuramMaharshi Gautam
Shri Shani DhamShri Navgrah Dham
Holly WellDhuna GaddiMaa TulsiBanana Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water Coolar, RO, Power Backup, Office, CCTV Security, Shoe Store, Washroom, Solar Light, Sitting Benches
धर्मार्थ सेवाएं
श्री रामायण भवन, गौशाला, श्री दूधेश्वर वेद विद्यापीठ, श्री महंत रामगिरि औषधालय, सत्संग भवन
स्थापना
त्रेता युग
समर्पित
भगवान शिव
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

क्रमवद्ध - Timeline

3 November 1454

मंदिर का पुनः प्रादुर्भाव

June 1979

श्री रामायण भवन - हरि कीर्तन सभा स्थापना

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Gaushalla Road, Jassipura, Madhopura Ghaziabad Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
GT Road (NH 91) >> Gaushalla Road
रेलवे 🚉
Ghaziabad
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Hindon, Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.662446°N, 77.421878°E
दूधेश्वर महादेव गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/dudheshwar-mahadev

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय सन्तोषी माता: आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

🔝