पौष बड़ा उत्सव | आज का भजन!

श्री किलकारी भैरव नाथ मंदिर - Shri Kilkari Bhairav Nath Mandir


Dec 09, 2019 00:44 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री किलकारी बाबा भैरव नाथ जी पांडवों कालीन मंदिर, बाबा भैरव नाथ जी को समर्पित हैं, जोकि भगवान शिव का एक उग्र अवतार माने जाते हैं। बाबा भैरव नाथ को भैरों, भेरों, भैरों को भी गलत तरीके से बुलाया जाता है। महाभारत युद्ध जीतने के बाद, पांडवों ने इस क्षेत्र में मंदिर की शुरुआत की।

मंदिर इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन, पुराण किला और प्रगति मैदान के पास है। पांडव पुत्र भीम ने यहां सिद्धियां प्राप्त की थी। प्राचीन मंदिर के दो अलग-अलग खंड हैं जिनमे से एक दुधिया भैरव मंदिर जहाँ दूध चढ़ाया जाता है, और दूसरा किलकारी भैरव मंदिर है जहाँ शराब अर्पित की जाती है।

इस मंदिर में सभी मूर्तियों का निर्माण संगमरमर से किया गया है। भैरव मंदिर एकमात्र मंदिर है जहाँ भक्त देवता को शराब चढ़ा सकते हैं। यह शराब भक्तों को स्थानीय प्रसाद के रूप में वितरित भी की जाती है। यहाँ मदिरा प्रसाद रूप में चढ़ाई जाती है, परंतु यहां मदिरा बेचने पर मनाही है।

दुधिया भैरव मंदिर के महंत के अनुसार, किलकारी भैरव नाथ मंदिर मे शराब चढ़ाने का आश्चर्यजनक कारक है कि, लोग शराब की आदत छोड़ने पर अंतिम शराब भगवान पर प्रतिज्ञा के रूप में अर्पित करते हैं, प्रभु मेरी इस बुरी आदत का अर्पण स्वीकार करें

कुत्ते को भगवान भैरव का वाहन माना जाता है, इसलिए आपको मंदिर परिसर में कई कुत्ते घूमते हुए मिलना स्वाभाविक है. यहां कंक्रीट की बनी गाय, जोकि पीने वाले पानी के नल के रूप मे बनाई गई है, अत्यधिक दिलचस्प है।

भगवान भैरव को सिद्धियों के भंडार के रूप में जाना जाता है। अतः तांत्रिक सिद्धियों में रुचि रखने वाले भक्त यहाँ नियमित रूप से बाबा के दर्शन के लिए आते रहते हैं।

प्रचलित नाम: श्री किलकारी बाबा भैरव नाथ जी पांडवों कालीन मंदिर

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • बाबा भैरव नाथ जी का दिल्ली मे सबसे प्रसिद्ध मंदिर।
  • महाभारत काल से दिल्ली का प्रसिद्ध बाबा भैरव मंदिर।
  • अपनी बुरी आदतों को अर्पण करने के लिए प्रसिद्ध मंदिर।

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 3:00 - 9:00 PM; Sunday: 5:00 AM - 10:00 PM (most crowdy day)

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Trishul at the Top of the Shikhar

Trishul at the Top of the Shikhar

Elephant as The Wall Decoration

Elephant as The Wall Decoration

Main Entry Gate of Temple From Purana Qila

Main Entry Gate of Temple From Purana Qila

Sindoor Shop outside The Temple

Sindoor Shop outside The Temple

Temple View From Purana Kila

Temple View From Purana Kila

Shikhar of Main Entry Gate

Shikhar of Main Entry Gate

Ride (सवारी) of Baba Bherav Ji

Ride (सवारी) of Baba Bherav Ji

Pratham Shri Ganesh at The Top of Main Gate

Pratham Shri Ganesh at The Top of Main Gate

Beautiful View of Bheron Temple

Beautiful View of Bheron Temple

Main Shikhar

Main Shikhar

Shri Kilkari Bhairav Nath Mandir in English

Shri Kilkari Baba Bhairav ​​Nath Ji Pandvon Kalin Mandir dedicated to Baba Bhairav ​​Nath Ji an fierce incarnation of Lord Shiv.

जानकारियां - Information

धाम
Shivling with Shiv FamilyMaa Kali Shri Hanuman Ji MaharajShri Ganesh JiBaba Ki Gaddi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, CCTV Security, Book Stall, Shoe Store
संस्थापक
पांडव
स्थापना
महाभारत काल
समर्पित
बाबा भैरवनाथ
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Puran Qila (Kila), Near Pragati Maidan Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Mahatma Gandhi Marg / Mathura Road >> Bhairon Marg
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.610753°N, 77.244632°E
श्री किलकारी भैरव नाथ मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/kilkari-bhairav-nath-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

माँ अन्नपूर्णा की आरती

बारम्बार प्रणाम, मैया बारम्बार प्रणाम । जो नहीं ध्यावे तुम्हें अम्बिके, कहां उसे विश्राम । अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो..

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी!

स्तुति श्री हिंगलाज माता और श्री विंध्येश्वरी माता सुन मेरी देवी पर्वतवासनी...

श्री भैरव देव जी आरती

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा, जय काली और गौर देवी कृत सेवा॥

top