विवाह पंचमी | आज का भजन!

दूधिया भैरव नाथ मंदिर - Dudhiya Bhairav Nath Mandir


May 25, 2019 20:10 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री दूधिया बाबा भैरव नाथ जी पांडवों कालीन मंदिर, बाबा भैरव नाथ जी को समर्पित है, जिन्हें भैरों तथा भैरव नाम से भी जाना जाता है। महाभारत के युद्ध से पहले भीम ने इस क्षेत्र में निवास करते हुए सिद्धियाँ प्राप्त की थी। दूधिया भैरव नाथ मंदिर इंद्रप्रस्थ, पुराण किला और प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन के निकट है।

निकटतम श्री किलकरी बाबा भैरव नाथ जी मंदिर से बिल्कुल अलग! इस मंदिर की सबसे अद्भुत मान्यता है कि यहाँ, भक्तों द्वारा बाबा भैरव नाथ पर कच्चा (बिना पका) दूध चढ़ाया जाता हैं। कुत्तों को भगवान भैरव का वाहन माना गया है, इसलिए मंदिर परिसर में कई कुत्ते विचरण करते मिल जाएंगे।

प्रचलित नाम: श्री दूधिया बाबा भैरव नाथ जी पांडवों कालीन मंदिर

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • महाभारत युद्ध से पहले भीम ने यहाँ सिद्धियाँ प्राप्त की थी।
  • श्री किलकरी बाबा भैरव नाथ जी के निकटवर्ती मंदिर

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 3:00 PM - 9:00 PM; 5:00 AM - 10:00 PM (Sunday)

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Pratham Shri Ganesh Ji on the Wall

Pratham Shri Ganesh Ji on the Wall

Shri Bhairav Nath Ji with His Ride (सवारी) on the Wall

Shri Bhairav Nath Ji with His Ride (सवारी) on the Wall

Shri Yamraj Ji on the Wall

Shri Yamraj Ji on the Wall

Beautiful First Floor Boundary of Dudhiya Bhairav Temple

Beautiful First Floor Boundary of Dudhiya Bhairav Temple

A full View of  Entire Temple Complex From Purana Kila

A full View of Entire Temple Complex From Purana Kila

A Full View of Mandir Along with Peepal Tree

A Full View of Mandir Along with Peepal Tree

Temple in Full View From Purana Kila

Temple in Full View From Purana Kila

Beautiful Sean of Morning Sunshine

Beautiful Sean of Morning Sunshine

Near by Kali Mandir From Purana Kila

Near by Kali Mandir From Purana Kila

Temple Shikhar Surrounded with Greenery

Temple Shikhar Surrounded with Greenery

Large Mata Kunti Gate, A Outer Entry

Large Mata Kunti Gate, A Outer Entry

Mata Kunti Dwar

Mata Kunti Dwar

Personal Invitation of Bhairav Jayanti and Bhandara on 11 January 2016Shri 108 Mahant Shri Gopinath and Viswanath - 9810725775, 9818969784

Personal Invitation of Bhairav Jayanti and Bhandara on 11 January 2016Shri 108 Mahant Shri Gopinath and Viswanath - 9810725775, 9818969784

Public Invitation for 17 January 2016 on Bhairav Jayanti, Pankha Shobha Yatra, Fair/Mela and A Larg BhandaraOrganizer - 9810725775, 8800969109

Public Invitation for 17 January 2016 on Bhairav Jayanti, Pankha Shobha Yatra, Fair/Mela and A Larg BhandaraOrganizer - 9810725775, 8800969109

Dudhiya Bhairav Nath Mandir in English

Shri Dudhiya Baba Bhairav Nath Ji Pandvon Kalin Mandir dedicated to Baba Bhairav Nath Ji(also called Bhairon, Bheron) an fierce incarnation of Baba Bhairav, near Indraprastha metro station, Purana Qila(Kila) and Pragati Maidan. Bheem worshipped here and got siddhis in this area.

जानकारियां - Information

धाम
Pratham Shri Ganesh JiShri Radha KrishnaShri Ram FamilyShri Gauri ShankarShri Goga Ji MaharajShri Brahma JiMaa DurgaBhagwan Shri Kalki JiShri Hanuman Ji MaharajMaa MahakaliShri Navgrah DhamGuru Gorakh Nath JiMata Kunti Satsang
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, CCTV Security, Puja Samagri, Shoe Store, Washrooms, Parking, Sitting Benches, Prasad Shop, Water Coolar
स्थापना
महाभारत से पहले
देख-रेख संस्था
श्री दूधिया भैरव समिति
समर्पित
बाबा भैरव नाथ जी
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Puran Kila, Near Pragati Maidan Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Mahatma Gandhi Marg / Mathura Road >> Bhairon Marg
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.608627°N, 77.247082°E
दूधिया भैरव नाथ मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/dudhiya-bhairav-nath-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

top