कुशावर्त तीर्थ - Kushavarta Tirth Coming Soon

Kushavarta Tirth

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ नासिक कुंभ के प्रथम शाही स्नान का स्थान।
◉ गंगा-गोदावरी का उद्‍गम कुंड।

समय - Timings

त्यौहार
Gudhi Padva, Akshay Trutiya, Nag Panchami, Narali Poonam, Ganeshotsav, Vijayadashami, Narakchaturthi, Vasant Panchami, Shivaratri, Holi, Rang Panchami, Eaclipse, Vaikunth Chaturdashi, Nashik Kumbh | यह भी जानें: Shivaratri

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

कुशावर्त तीर्थ

जानकारियां - Information

बुनियादी सेवाएं
Prasad, Changing Rooms, Shoe Store, Washrooms, Parking, Sitting Benches, Prasad Shop, Water Coolar
संस्थापक
स्वयंभू
स्थापना
सतयुग
देख-रेख संस्था
श्री त्र्यंबकेश्वर देवस्थान ट्रस्ट
समर्पित
माँ गंगा
वास्तुकला
पवित्र कुंड
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Shrimant Peshwe Path Trimbak Maharashtra
सड़क/मार्ग 🚗
Nashik- Trambakeshwar Road / NH 848 > Trimbak
रेलवे 🚉
Nashik
हवा मार्ग ✈
Chhatrapati Shivaji International Airport
नदी ⛵
Godavari
निर्देशांक 🌐
19.932735°N, 73.527729°E
कुशावर्त तीर्थ गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/kushavarta-tirth

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

तुलसी आरती - महारानी नमो-नमो

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

Download BhaktiBharat App Go To Top