पागल बाबा मंदिर - Pagal Baba Mandir

भगवान श्री कृष्ण की प्रेममय लीलास्थली के प्रति लोगों को प्रेरित करने के हेतु वृंदावन में एक भव्य मंदिर लीलाधाम की स्थापना की गई। 221 फीट ऊँचे, सफेद पत्थरों वाले मंदिर इस नौ मंजिला मंदिर की स्थापना सन् 1969 में श्रीमद लीलानंद ठाकुर जी (पागलबाबा) द्वारा की गई। चूँकि श्रीमद लीलानंद ठाकुर जी महाराज स्वयं पागलबाबा के नाम से प्रसिद्ध थे अतः इस श्री राधा-कृष्ण को लोग पागलबाबा मंदिर के नाम से पुकारते हैं।

मंदिर का स्वर्णिम इतिहास:
सन् 1969 में बाबा श्री को एसी प्रेरणा हुई की आगरा का ताजमहल देखने के लिए देश विदेश से लाखों करोड़ों पर्यटक आगरा आते हैं, मगर श्रीकृष्ण की प्रेममयी लीलास्थली होने के उपरांत भी तथा आगरा के निकट होते हुए भी वृंदावन आने की प्रेरणा लोगों को नहीं हो पाती।

देश विदेश के पर्यटकों का ध्यान वृंदावन की ओर आकर्षित करने के लिए एक भव्य मंदिर बनाने की परियोजना बनाई। वृंदावन मथुरा मार्ग पर एक विशाल भू-खंड लेकर अल्पावधि में ही, जहाँ केवल सूखा खेत था, वहाँ एक विशाल संगमरमर के नौ मंज़िला मंदिर लीलाधाम की स्थापना की।

चारों तरफ शस्य श्यामला हरित भूमिपर श्वेत प्रस्तर जडित अतुलनीय मंदिर भारतवर्ष में अपने ढंग का प्रथम मंदिर है। इसकी चौड़ाई करीब 150 फीट (छेत्रफल 1800वर्गफुट) तथा उँचाई 221 फीट है। इसके कर मंज़िल पर विभिन्न देव मंदिर है। इस आश्रम का नाम लीलाधाम रखा गया। यह अनूठा मंदिर भारतवासियों को तो आकर्षित करता ही है, विदेशी पर्यटकों को भी मुग्ध करता है और भक्ति प्रधान देश की महत्ता को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सिद्ध भी करता है।

मंदिर में सुबह आठ से रात आठ बजे तक इलेक्ट्रॉनिक पद्धति से कृष्णलीला, रामलीला और पागल बाबा लीला अनवरत होती रहती है।

प्रचलित नाम: लीलाधाम

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • नौ मंजिल, हर मंजिल पर अलग-अलग धाम के साथ 221 फीट की विशाल संरचना।
  • अखंड ज्योति, इलेक्ट्रॉनिक झाँकी, कुंड, बगीचा, पानी का फव्वारा एवं धर्मशाला।

समय - Timings

दर्शन समय
गर्मी: 5:00 AM - 11:30 PM, 3:00 - 9:00 PM; सर्दी: 6:00 AM - 12:00 PM, 3:30 - 8:30 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Both left and right side of main welcome area are surrounded with Dharamshala which is handled by mandir trust prabandh samiti.

Both left and right side of main welcome area are surrounded with Dharamshala which is handled by mandir trust prabandh samiti.

Nine floor white marbled beautifully crafted temple. Pure white depicts shanti and shadgi in our life.

Nine floor white marbled beautifully crafted temple. Pure white depicts shanti and shadgi in our life.

One of the most famous and crowded manokamana purn temple of Mathura - Vrindavan.

One of the most famous and crowded manokamana purn temple of Mathura - Vrindavan.

Nagara style of temple architecture can be discribe in this photo frame. Beautiful garden with fountain followed by water pond.

Nagara style of temple architecture can be discribe in this photo frame. Beautiful garden with fountain followed by water pond.

24*7 akhand jyoti is illuminated in a seprate glass chamber seen from main entry gate, and come before automated jhankis on ground floor.

24*7 akhand jyoti is illuminated in a seprate glass chamber seen from main entry gate, and come before automated jhankis on ground floor.

Circular window on first floor balcony, looking like Shri Vishnu sudarshan chakra. It will also increase the look of main temple.

Circular window on first floor balcony, looking like Shri Vishnu sudarshan chakra. It will also increase the look of main temple.

Left side of temple towards entering main prayer hall, there are few green area covered with bail trees

Left side of temple towards entering main prayer hall, there are few green area covered with bail trees

Under the concept of `Mandir Se Mandir Tak`, near by temple

Under the concept of `Mandir Se Mandir Tak`, near by temple

Shiv Dham

Shiv Dham

Gaur Nitai Mandir

Gaur Nitai Mandir

Shri Ganesh Mandir

Shri Ganesh Mandir

Form The Top View

Form The Top View

Pagal Baba Mandir in English

To motivate people towards the loving Leelasthli of Shri Krishna a magnificent temple Leeladham was established in Vrindavan.

जानकारियां - Information

मंत्र
हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे! हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे!!
धाम
Shri Shiv Mandir with ShivlingMaa Durga DhamMaa KaliBaba Bhairav NathSrimad Lilanand DhamAkhand JyotiShri Radha KrishnaShri Ganesh JiShri Krishna Balram DhamShri Nand Yashoda DhamShri Ram DarwarShri Vaman Avtar MandirShri Narayan MandirShri Om Dham
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water RO and Coolar, CCTV Security, Office, Shoe Store, Washrooms, Parking
धर्मार्थ सेवाएं
धर्मशाला, श्री लीलानंद विद्यापीठ
संस्थापक
श्रीमद लीलानंद ठाकुर
स्थापना
1969
देख-रेख संस्था
श्रीमद लीलानंद ठाकुर ट्रस्ट प्रबंध समिति
समर्पित
श्री राधा कृष्णा
क्षेत्रफल
18000 sq Feet
वास्तुकला
नागरा
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध - Timeline

1. Ground Floor

Shri Shiv Mandir with Shivling, Maa Durga Dham, Maa Kali with Baba Bhairav and Srimad Lilanand Thakur Dham, Akhand Jyoti, Samadhi Sthal, Electronic Jhanki

2. First Floor

Shri Radha Krishna, Shri Ganesh Ji

3. Second Floor

Shri Krishna Balram Dham

4. Third Floor

Shri Nand Yashoda Dham

5. Fourth Floor

Shri Ram Darwar

6. Fifth Floor

Shri Vaman Avtar Mandir

7. Sixth Floor

Shri Narayan Mandir

8. Seventh Floor

Shri Om Dham

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Mathura Road Vrindavan Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Yamuna Expressway Link Rd >> Mathura Vrindavan Marg / Bhuteshwar Road
रेलवे 🚉
Mathura, Agra
हवा मार्ग ✈
Kanpur Civil Airport Kanpur, Pandit Deen Dayal Upadhyay Airport Agra
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
27.559993°N, 77.678721°E
पागल बाबा मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/pagal-baba-mandir-vrindavan

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन, भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आरती: श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं..

श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं, हे गिरिधर तेरी आरती गाऊं।...

🔝