होलिका दहन | चैत्र नवरात्रि | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

राजा-रानी मंदिर


updated: Apr 23, 2018 08:36 AM About | Timing | Highlights | Video | How to Reach | Comments


राजा-रानी मंदिर (Raja-Rani Temple) -  Rajarani Colony Bhubaneswar, Odisha - 751002 Bhubaneswar Odisha

राजा-रानी मंदिर (Raja-Rani Temple) constructed with red and golden-yellow sand stones which is locally known as Raja Rani therefore named as Rajarani temple. Also called as Love Temple because of the erotic carvings of women and couples on the wall of the temple. There is no murti or idol and no puja perform in the temple premises, but no known authentic reason behind the absence of an idol.

Archaeological Survey of India (ASi) stamped Rs.15 as monument entry fee for adult. Scenes of marriage of Lord Shiva, Nataraja, Parvati are some of the important cult images of the temple. A huge well maintained garden surrounds with this ancient monument. The Odisha Government Tourism Department has organized a Rajarani music festival every year on 18-20 January. Read in Hindi

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 7:00 PM
त्यौहार
Rajarani Music Festival | Read Also: होलिका दहन 2019

राजा-रानी मंदिर हिन्दी में

मंदिर का निर्माण सुस्त लाल और पीले बलुआ पत्थर से किया गया था, जिसे स्थानीय लोग राजा-रानी के नाम से बुलाते हैं अतः मंदिर का नाम राजा-रानी मंदिर पड़ा है। मंदिर में महिलाओं और जोड़ों के कामुक नक्काशी की वजह से स्थानीय रूप से प्रेम मंदिर के रूप में जाना जाता है। पवित्र के अंदर कोई मुर्ति, विग्रह या छवि नहीं है, इसलिए यह हिंदू धर्म के एक विशिष्ट संप्रदाय के साथ नहीं जुड़ा है, लेकिन मंदिर की दीवारों पर हुई चित्रकारी के आधार पर शैव मत के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

राजारानी मंदिर भारत के पुरातात्विक सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा टिकटयुक्त(Rs 15) स्मारक के रूप में वर्गीकृत किया गया है। मंदिर के चारों ओर की दीवारों पर विभिन्न मूर्तियां और शिव, नटराज, पार्वती के विवाह के दृश्यों का चित्रण, और विभिन्न भूमिकाओं और मूड में लंबा, पतला, परिष्कृत नायिका शामिल हैं, जैसे कि उसके सिर को क्षीणित संन्यासी से बदलना, अपने बच्चे से प्यार करते हुए, पेड़ की एक शाखा पकड़कर, उसके शौचालय में भाग लेते हुए, एक दर्पण की तलाश में, अपने पायल को बंद करने, अपने पालतू पक्षी को निहारना और संगीत वाद्ययंत्र बजाना। मंदिर की खूबसूरती, उसके चारों ओर फैला विशाल हरा-भरा बगीचा और भी बढ़ा देता है। ओडिशा सरकार के पर्यटन विभाग के द्वारा हर साल १८-२० जनवरी तक मंदिर में एक राजारणी संगीत समारोह का आयोजन किया है।

जानकारियां

प्रचलित नाम
प्रेम मंदिर, Love Temple
बुनियादी सेवाएं
Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel, Washroom, Garden
स्थापना
11th Century
देख-रेख संस्था
Archaeological Survey of India
समर्पित
Shri Shiv Parvati
वास्तुकला
Kalinga Buddhist Architecture
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो प्रदर्शनी

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Lewis Road / Garage Road >> Tankapani Road
रेलवे: Bhubaneswar Railway Station
हवा मार्ग: Biju Patnaik International Airport
नदी: Mahanadhi
पता
Rajarani Colony Bhubaneswar, Odisha - 751002 Bhubaneswar Odisha
वेबसाइट
http://asi.nic.in/asi_monu_tktd_orissa_rajarani.asp
निर्देशांक
20.243453°N, 85.843597°E
राजा-रानी मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/rajarani-temple

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

close this ads
^
top