close this ads

तुलसी महारानी नमो-नमो!


तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो।

धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।
जाके पत्र मंजरी कोमल, श्रीपति कमल चरण लपटानी॥

धूप-दीप-नवैद्य आरती, पुष्पन की वर्षा बरसानी।
छप्पन भोग छत्तीसों व्यंजन, बिन तुलसी हरि एक ना मानी॥

सभी सखी मैया तेरो यश गावें, भक्तिदान दीजै महारानी।
नमो-नमो तुलसी महारानी, तुलसी महारानी नमो-नमो॥

Read Also:
» तुलसी विवाह - Tulsi Vivah
» जय जय तुलसी माता!
» माता श्री तुलसी चालीसा | माँ तुलसी अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली

Hindi Version in English

Tulsi Maharani Namo-Namo, Hari ki Patrani Namo-Namo।
Dhan Tulsi Puran Tap Kino, Shaligram Bani Patrani।
Jake Patra Manjari Komal, Shripati Kamal Charan Laptani॥

Dhoop-Deep-Navaidya Aarti, Pusphpan ki Varsha Barsani।
Chappan Bhog Chatisau Vyanjan, Bin Tulsi Hari Ek Na Mani॥

Sabhi Sakhi Maiya Tero Yash Gave, Bhaktidan Deejay Maharani।
Namo-Namo Tulsi Maharani, Tulsi Maharani Namo-Namo॥

AartiTulsi Maa AartiMata Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

आरती: श्री गणेश - शेंदुर लाल चढ़ायो!

शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको। दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।...

आरती: श्री गणेश जी

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन, भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आरती: श्री बाल कृष्ण जी

आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै। श्री यशोदा का परम दुलारा...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती: श्री पार्वती माँ

जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता...

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

Latest Mandir

^
top