साँची स्तूप - Sanchi Stupa

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • भारत के सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है।
  • साँची स्तूप सम्राट अशोक द्वारा स्थापित है।
  • UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थलों के तहत सूचीबद्ध।
  • 200 रुपये के नोट में सांची स्तूप का चित्रण।

सांची स्तूप को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। यह पहले से ही भारत के सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है। सांची एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है, जिसमें कई बौद्ध संरचनाएं, स्तंभ और मठ हैं। यह स्थान बौद्ध धर्म के बारे में बताता है, जो भोपाल (मध्य प्रदेश) से लगभग 52 किमी की दूरी पर स्थित है।

इनमें से अधिकांश स्मारक तीसरी और 12वीं शताब्दी के बीच के युग के हैं, और अब सांची को UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थलों के तहत सूचीबद्ध किया गया है। 200 रुपये के नोट में सांची स्तूप का चित्रण है, जो देश की सांस्कृतिक विरासत को दर्शाता है।

सांची स्तूप का इतिहास
मौर्य साम्राज्य के सम्राट अशोक सांची के सभी स्तूपों के सर्जक थे। ये स्तूप भगवान बुद्ध को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। सांची स्तूप एक अर्धवृत्ताकार चट्टान से बना है जिसे हम गोल गुंबद भी कह सकते हैं। यह सभी स्तूपों में सबसे महत्वपूर्ण और प्रभावशाली है।

यह महान स्मारक भगवान बुद्ध के अवशेषों के आधार पर बनाया गया था। सांची प्रसिद्ध स्थानों में से एक है, जिसे न केवल भारत में पहचान मिली है, बल्कि आज यह पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। यह स्थान बौद्ध धर्म का एक बड़ा केंद्र बन गया है।

सांची स्तूप की वास्तुकला
सांची स्तूप एक विशाल अर्ध-गोलाकार, गुंबद के आकार का कक्ष है जो शांति से भगवान बुद्ध के अवशेषों को दर्शाता है। स्तूप के विकास के दौरान की रूपरेखा और डिजाइन प्रेम की प्रकृति और ऐतिहासिक काल को दर्शाती है।

वास्तुकला को नर और मादा वृक्ष के रूप में प्रवेश द्वार के रूप में दर्शाया गया है, जो देखने में बहुत आकर्षक लगता है। सांची स्तूप स्थापत्य प्रतिष्ठा की एक समृद्ध विरासत है। यह श्रद्धा और शांति के साथ धन्य एक पवित्र स्थान है। भारत में बौद्ध धर्म की पूरी श्रृंखला को शामिल करते हुए, यह बौद्ध भिक्षुओं के विभिन्न कलात्मक कार्यों के लिए एक अद्भुत गवाही का प्रतिनिधित्व करता है।

इस स्थान को बौद्ध धर्म के महत्वपूर्ण केंद्र बनाया गया था, जिसकी पूजा न केवल भारतीय लोग करते हैं, बल्कि दुनिया भर के लोग भी करते हैं। इस जगह की नींव सम्राट अशोक ने रखी थी और आज यह भारत के लिए एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्मारक बन गया है।

कैसे पहुंचे सांची स्तूप
सांची स्तूप मध्य प्रदेश के भोपाल शहर के पास स्थित है, जो यातायात के मामले में देश के कई अन्य शहरों से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, चाहे वह रेल, सड़क या हवाई परिवहन हो।

समय - Timings

Sanchi Stupa in English

Sanchi Stupa needs no introduction. It is already marked as one of the most important places in India.

जानकारियां - Information

संस्थापक
सम्राट अशोक
स्थापना
12वीं शताब्दी से पहिले
समर्पित
भगवान बुद्ध
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

सड़क/मार्ग 🚗
Bhopal Vidisha Highway
रेलवे 🚉
Salamatpur, Vidisha
हवा मार्ग ✈
Raja Bhoj Airport Bhopal
नदी ⛵
Betwa
सोशल मीडिया
Download App
निर्देशांक 🌐
23.4826235°N, 77.7320272°E
साँची स्तूप गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/sanchi-stupa

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

श्री राम स्तुति

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel