धौलिगिरि शांति स्तूप - Dhauligiri Shanti Stupa

दया नदी के निकट धौलीगिरी शांति स्तूप सम्राट अशोक के कलिंग युद्ध क्षेत्र का सबसे प्रसिद्ध शांति स्तूप है। जापान बुद्ध संघ ने सन् 1970 में धौलीगिरी पहाड़ी की चोटी पर एक सफेद आभा वाले मंदिर का निर्माण कराया, अब यह मंदिर कलिंग युद्ध क्षेत्र का प्रमुख आकर्षक केंद्र है।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • उड़ीसा की राजधानी से 18 किमी दूर ।
  • कलिंग युद्ध क्षेत्र का सबसे प्रमुख आकर्षक केंद्र ।

समय - Timings

त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Dhauligiri Shanti Stupa in English

Dhauligiri Shanti Stupa one of the most famous Shanti Stupa situated in Ashok Kalinga war zone near Daya river.

जानकारियां - Information

बुनियादी सेवाएं
Music House, Light and Sound Show, Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel, Washroom, Garden, Parking
संस्थापक
सम्राट अशोक
स्थापना
1970 - पुनर्निर्माण
देख-रेख संस्था
भुवनेश्वर विकास प्राधिकरण
समर्पित
भगवान बुद्ध
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Dhauli Bhubaneswar Odisha
सड़क/मार्ग 🚗
Lewis Road / Garage Road >> Dhauli Road
रेलवे 🚉
Bhubaneswar Railway Station
हवा मार्ग ✈
Biju Patnaik International Airport
नदी ⛵
Daya
निर्देशांक 🌐
20.192411°N, 85.839329°E
धौलिगिरि शांति स्तूप गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/shanti-stupa-dhauligiri

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री हनुमान जी आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे॥

श्री बालाजी आरती, ॐ जय हनुमत वीरा

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी तुम हो रनधीरा॥

श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ आरती

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

🔝