होलिका दहन | चैत्र नवरात्रि | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

धौलिगिरि शांति स्तूप Coming Soon


updated: Jun 01, 2018 08:34 AM About | Timing | Highlights | Photo Gallery | Video | How to Reach | Comments


धौलिगिरि शांति स्तूप (Dhauligiri Shanti Stupa) - Dhauli, Odisha - 752104 Bhubaneswar Odisha

धौलिगिरि शांति स्तूप (Dhauligiri Shanti Stupa) one of the most famous Shanti Stupa situated in Ashok Kalinga war zone near Daya river. Japan Buddha Sangha has build a white pagoda on the top of the Dhauligiri hill on 1970, which is now most attractive point of Kalinga war zone.

समय सारिणी

त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Dhauligiri Shanti Stupa

Dhauligiri Shanti Stupa

Dhauligiri Shanti Stupa

Dhauligiri Shanti Stupa

Dhauligiri Shanti Stupa

Dhauligiri Shanti Stupa

जानकारियां

बुनियादी सेवाएं
Music House, Light and Sound Show, Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel, Washroom, Garden, Parking
संस्थापक
Ashoka the Great
स्थापना
261 BCE
देख-रेख संस्था
Bhubaneswar Development Authority
समर्पित
Lord Buddha
वास्तुकला
Kalinga Buddhist Architecture
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो प्रदर्शनी

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Lewis Road / Garage Road >> Dhauli Road
रेलवे: Bhubaneswar Railway Station
हवा मार्ग: Biju Patnaik International Airport
नदी: Daya River
पता
Dhauli, Odisha - 752104 Bhubaneswar Odisha
निर्देशांक
20.192411°N, 85.839329°E
धौलिगिरि शांति स्तूप गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/shanti-stupa-dhauligiri

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

close this ads
^
top