दीपम उत्सव 2020 (Deepam Utsav 2020)


दीपों का यह त्यौहार इस वर्ष 29 नवंबर को सुवह 3:19 बजे शुरू होगा और 30 नवंबर को प्रातः 6:04 बजे समाप्त होता है।

दीपम उत्सव या कार्तिगाई दीपम एक हिंदू त्योहार है जो मुख्य रूप से दक्षिण भारत में तमिल और तेलुगु समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है। यह बहुत पुराना त्योहार है और पड़ोसी राज्यों जैसे केरल, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में भी मनाया जाता है।

Deepam Utsav 2020 in English

Deepam Utsav or Karthigai Deepam is a Hindu festival celebrated mainly by the people of Tamil and Telugu communities in South India.
यह भी जानें

BlogsDeepam Utsav BlogsKarthigai Deepam Blogs


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

Authentic way to donate/contribute for Ram Mandir Ayodhya

In Ayodhya after Bhoomi Pujan of Shri Ram Janmbhoomi by Hon'ble Prime Minister, the work for construction of a Bhavya and Divya Shri Ram Mandir has finally commenced. Now Bhakts can contribute wholeheartedly to the cause.

महा शिवरात्रि विशेष 2021

11 मार्च 2021 को संपूर्ण भारत मे महा शिवरात्रि का उत्सव बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाएगा। महा शिवरात्रि क्यों, कब, कहाँ और कैसे? | आरती: | चालीसा | मंत्र |नामावली | कथा | मंदिर | भजन

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2021

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | 9 January 2021 Sunday सफला एकादशी व्रत कथा - Saphala Ekadasi Vrat Katha

Importance of Sawan Somvar Vrat and its benefits?

Monday is considered special in the month of Sawan. The day of Monday is dedicated to Bhagwan Shiv, so the importance of Monday in the month of Sawan increases considerably.

How To Register Vaishno Devi Darshan?

The holy journey of mata Vaishno Devi has started once again. Some special rules have also been made to visit the mata Vaishno Devi to be safe from the corona virus.

दीवाली विशेष 2021

दीवाली/दीपावली क्यों, कब, कहाँ और कैसे? आरती माँ लक्ष्मीजी, भगवान श्री कुबेर जी की आरती, आरती श्री गणेश जी, आरती श्री रामचन्द्र जी की कीजै, श्री गोवर्धन महाराज आरती

🔝