close this ads

आरती माँ लक्ष्मीजी!


भगवान विष्णु की अर्धांगिनी माता लक्ष्मी का आह्वान भक्तजन साप्ताहिक दिन शुक्रवार, गुरुवार, वैभव लक्ष्मी व्रत तथा दीपावली में लक्ष्मी पूजन के दिन मुख्यतया अधिक करते हैं, जिसके अंतरगत भक्त माँ लक्ष्मी की आरती करने है।

महालक्ष्मी नमस्तुभ्यं, नमस्तुभ्यं सुरेश्वरि।
हरि प्रिये नमस्तुभ्यं, नमस्तुभ्यं दयानिधे॥
पद्मालये नमस्तुभ्यं, नमस्तुभ्यं च सर्वदे।
सर्वभूत हितार्थाय, वसु सृष्टिं सदा कुरुं॥

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता॥

उमा, रमा, ब्रम्हाणी, तुम ही जग माता।
सूर्य चद्रंमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

दुर्गा रुप निरंजनि, सुख-संपत्ति दाता।
जो कोई तुमको ध्याता, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

तुम ही पाताल निवासनी, तुम ही शुभदाता।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशनी, भव निधि की त्राता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

जिस घर तुम रहती हो, ताँहि में हैं सद्‍गुण आता।
सब सभंव हो जाता, मन नहीं घबराता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

तुम बिन यज्ञ ना होता, वस्त्र न कोई पाता।
खान पान का वैभव, सब तुमसे आता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

शुभ गुण मंदिर सुंदर क्षीरोदधि जाता।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

महालक्ष्मी जी की आरती, जो कोई नर गाता।
उँर आंनद समाता, पाप उतर जाता॥
॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥

ॐ जय लक्ष्मी माता मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता॥

Read Also:
» नवरात्रि - Navratri | दुर्गा पूजा - Durga Puja | श्री लक्ष्मी चालीसा |
» दिल्ली के आस-पास माता के प्रसिद्ध मंदिर! | जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!
» अम्बे तू है जगदम्बे काली | जय अम्बे गौरी | आरती: श्री पार्वती माँ | आरती: माँ सरस्वती जी

Hindi Version in English

Lord Vishnu's wife Mata Lakshmi pray by devotees on Friday, Thursday, Vaibhav Laxmi fast and Deepavali. During Laxmi Pujan, devotee has to do aarti of Maa Lakshmi.

Mahalakshmi Namastubhyam, Namastubhyam Sureshvari।
Hari Priye Namastubhyam, Namastubhyam Dayanidhe॥
Padmalaye Namastubhyam, Namastubhyam Cha Sarvade।
Sarvbhoot Hitarthay, Vasu Srashtin Sada Kurum॥

Om Jai Lakshmi Mata, Maiya Jai Lakshmi Mata।
Tumako Nishidin Sevat, Hari Vishnu Vidhata॥

Uma Rama Brahmani, Tum Hi Jag-Mata।
Surya Chandrama Dhyavat Narad Rishi Gata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Durga Roop Niranjani, Sukh Sampatti Data।
Jo Koi Tumako Dhyavat, Riddhi-Siddhi Dhan Pata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Tum Patal-Nivasini, Tum Hi Shubhdata।
Karma-Prabhav-Prakashini, Bhavanidhi Ki Trata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Jis Ghar Mein Tum Rahti, Sab Sadgun Aata।
Sab Sambhav Ho Jata, Man Nahi Ghabrata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Tum Bin Yagya Na Hote, Vastra Na Koi Pata।
Khan-Pan Ka Vaibhav, Sab Tumase Aata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Shubh-Gun Mandir Sundar, Kshirodadhi Jata।
Ratna Chaturdash Tum Bin, Koi Nahi Pata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Mahalakshmi Ji Ki Aarti, Jo Koi Jan Gata।
Ur Anand Samata, Paap Utar Jata॥
॥Om Jai Lakshmi Mata...॥

Om Jai Lakshmi Mata, Maiya Jai Lakshmi Mata।
Tumako Nishidin Sevat, Hari Vishnu Vidhata॥

AartiMaa Lakshmi AartiMata Laxmi Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

आरती: श्री गणेश - शेंदुर लाल चढ़ायो!

शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको। दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।...

आरती: श्री गणेश जी

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन, भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आरती: श्री बाल कृष्ण जी

आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै। श्री यशोदा का परम दुलारा...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती: श्री पार्वती माँ

जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता...

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

Latest Mandir

^
top