Hanuman Chalisa
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Shiv Chalisa - Ram Bhajan -

तुलसी पूजन दिवस (Tulsi Pujan Diwas)

तुलसी पूजन दिवस
तुलसी पूजन दिवस प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है, इसकी छोटी-मोटी शुरुआत काफी सालों पहले से होगई थी, परंतु वर्ष 2014 से इसकी व्यापकता कुछ अधिक हुई। 2014 से पहिले तुलसी पूजन को प्रचारित करने का श्रेय सबसे अधिक संत श्री आसाराम बापू को जाता है। तुलसी के पौधे के औषधीय और धार्मिक महत्व को समझते हुए साधु-संतों और आम लोगों ने हर साल 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस के रूप में मनाना शुरू कर दिया है।
तुलसी सिर्फ एक पौधा नहीं बल्कि धरती के लिए वरदान है और इसी वजह से इसे हिंदू धर्म में पूजनीय माना जाता है। आयुर्वेद में तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण अमृत कहा गया है।

तुलसी के पौधे का धार्मिक महत्व
❀ कहा जाता है कि जिस घर में विधि-विधान से तुलसी की पूजा की जाती है और जल चढ़ाया जाता है, उस घर में दरिद्रता कभी नहीं आती है। माता लक्ष्मी की कृपा उस घर में हमेशा बनी रहती है। इसके अलावा तुलसी विवाह के दिन विशेष रूप से पूजा करने से व्यक्ति के विवाह संबंधी बाधा समाप्त होती है।
❀ हिंदू धर्म में कोई भी कर्मकांड, पूजा या शुभ कार्य तुलसी के बिना अधूरा माना जाता है। भगवान विष्णु को तुलसी अत्यंत प्रिय है। इसलिए भगवान के भोग में तुलसी के पत्ते जरूर शामिल किए जाते हैं।
❀ हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि जिन घरों में तुलसी का पौधा होता है और नियमित पूजा और दीपक जलाया जाता है, वहां हमेशा मां लक्ष्मी का वास रहता है।
❀ जिन घरों में तुलसी का पौधा लगाया जाता है, वहां भगवान कृष्ण की भक्ति का आनंद प्राप्त होता है और ब्रह्मा और लक्ष्मीजी भी सभी देवताओं के साथ विराजमान होते हैं।
❀ जिस घर में तुलसी का पौधा लगाया जाता है वहां से नकारात्मक ऊर्जा दूर भागती है।

श्री तुलसी पूजन दिवस विशेष
तुलसी आरती - Tulsi Aarti [Maharani Namo Namo]
❀ आरती: जय जय तुलसी माता - Aarti: Jai Jai Tulsi Mata
श्री तुलसी चालीसा - Shri Tulasi Chalisa
श्री तुलसी स्तुति - Shri Tulsi Stuti
श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ - Shri Tulsi Stotram
श्री तुलसी नामाष्टक स्तोत्रम् - Shri Tulsi Namashtakam Strotam
माँ तुलसी अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली - Tulsi Ashtottara Shatnam Namavali

अधिकतर हिन्दू त्योहार चन्द्रमा के आधारित पंचांग अथवा संक्रांति आधारित पंचांग के अनुसार मनाये जाते हैं। परन्तु नवीन परंपरा होने के कारण यह तुलसी पूजन उत्सव 25 दिसंबर को ही मनाया जाता है।

Tulsi Pujan Diwas in English

For worship of Shri Tulsi Maharani! today`s special.. Tulsi Aarti [Maharani Namo Namo] Aarti: Jai Jai Tulsi Mata
यह भी जानें
तुलसी के पौधे का औषधीय महत्व

❀ अनुसंधान से पता चला है कि तुलसी के पौधे में जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो शरीर को संक्रमण से लड़ने में सक्षम बनाते हैं।
❀ संक्रामक रोगों से निपटने के लिए तुलसी बहुत ही कारगर उपाय है।
❀ जिन घरों या स्थानों पर तुलसी का पौधा लगाया जाता है, उनके आसपास की हवा शुद्ध हो जाती है।
❀ तुलसी के नियमित सेवन से शरीर में ऊर्जा का प्रवाह होता है और व्यक्ति की उम्र बढ़ती है।

वास्तु शास्त्र में भी तुलसी का विशेष महत्व है। घर में हरी तुलसी सुख-समृद्धि और सौभाग्य की सूचक तो होती ही है, साथ ही इसे परिवार की आर्थिक स्थिति के लिए भी शुभ माना जाता है।

Blogs Tulsi Pujan Diwas BlogsTulsi BlogsTulsi Maharani BlogsTulsi Pujan BlogsShri Tulsi BlogsTulsi Diwas BlogsTulsi Mata BlogsTulsi Maa BlogsTulsi Aarti Blogs25 December Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

भक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

ISKCON

ISKCON संप्रदाय के भक्त भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानते हैं। इनके द्वारा गाये जाने वाले भजन, मंत्र एवं गीतों का कुछ संग्रह यहाँ सूचीबद्ध किया गया है, सभी सनातनी परम्परा के भक्त इसका आनंद लें।

भगवान श्री विष्णु के दस अवतार

भगवान विष्‍णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। भगवान श्री विष्णु के दस अवतार यानी दशावतार की प्रामाणिक कथाएं।

वृन्दावन होली कैलेंडर

होली का त्योहार देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन कान्हा की नगरी मथुरा में रंगों का यह त्योहार 40 दिनों तक चलता है, जिसकी शुरुआत वसंत पंचमी के दिन से होती है।

होली विशेष 2024

आइए जानें! भारत मे तीन दिनों तक चलने वाला तथा ब्रजभूमि मे पाँच दिनों तक चलने वाले इस उत्सव से जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ एवं भजन...

माघ मास 2024

हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ का महीना ग्यारहवां महीना होता है। माघ मास की पूर्णिमा चन्द्रमा और अश्लेषा नक्षत्र में होती है, इसलिए इस मास को माघ मास कहा जाता है। माघ मास में सुख-शांति और समृद्धि के लिए पूजा किया जाता है।

नर्मदा परिक्रमा यात्रा

हिंदू पुराणों में नर्मदा परिक्रमा यात्रा का बहुत महत्व है। मा नर्मदा, जिसे रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है, पश्चिम की ओर बहने वाली सबसे लंबी नदी है। यह अमरकंटक से निकलती है, फिर ओंकारेश्वर से गुजरती हुई गुजरात में प्रवेश करती है और खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

नर्मदा यात्रा में डिजिटल बाबा

प्रसिद्ध डिजिटल बाबा एक युवा संन्यासी हैं जिनका वास्तविक नाम स्वामी राम शंकर है। जो सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक भारतीय संस्कृति से अवगत कराते रहते हैं। वह युवाओं को जीवन में अध्यात्म का महत्व समझाते रहते हैं। डिजिटल बाबा स्वामी राम शंकर क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध नर्मदा परिक्रमा कर रहे हैं। नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस कार्य से जुड़े लोगों के बीच जाकर डिजिटल बाबा सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP