Shardiya Navratri 2022

ब्रम्हा मुहूर्त क्या होता है? (What is Brahma Muhurta?)

वेदों में ब्रह्म मुहूर्त को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। शास्त्रों में बताया गया है कि ब्रह्म मुहूर्त में निद्रा त्यागने से विद्या, बुद्दि, स्वास्थ्य और बल प्राप्त होते हैं। किसी भी काम ब्रह्म मुहूर्त में शुरू करना बहुत उत्तम माना गया है।

ब्रम्हा मुहूर्त कब शुरू होता है?
शास्त्र के अनुसार सूर्योदय से ठीक पहले का समय ब्रह्म मुहूर्त का समय होता है। ब्रह्ममुहूर्त रात का 14वां मुहूर्त काल है। एक मुहूर्त 48 मिनट की अवधि है, जिसमें पूरी रात 15 मुहूर्त होती है। सूर्योदय का समय भौगोलिक स्थिति और वर्ष के समय के अनुसार हर दिन बदलता रहता है और ब्रह्ममुहूर्त का समय इसके साथ बदलता रहता है।

उदाहरण के लिए, यदि सूर्योदय सुबह 6:00 बजे है, तो ब्रह्ममुहूर्त 4:24 बजे शुरू होता है और 5:12 बजे समाप्त होता है।

ब्रम्हा मुहूर्त में उठने के लाभ:
❀ शास्त्रों में बताया गया है कि ब्रह्म मुहूर्त काल में देव और पितर घर में विराजमान होते हैं। जिससे घर और परिवार उन्नति करता है।
❀ ब्रह्म मुहूर्त में ध्यान का अभ्यास, आत्म चिंतन और विद्या अर्जित करने के लिए बहुत लाभकारी माना गया है।
❀ इस समय उठने से शारीरिक एवं मानसिक ताकत में वृद्धि होती है। साथ ही तनाव, चिंता, अनिद्रा जैसी अनेक समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
❀ ब्रह्म मुहूर्त में वातावरण साफ़ होता है। इस समय योग का अभ्यास या सैर करने से व्यक्ति का स्वास्थ्य निरोगी रहता है।
❀ शास्त्रों में में बताया गया है कि इस समय की प्रार्थना भगवान को भी सुनाई देती है। इसलिए पूजा पाठ के लिए यह समय उत्तम माना गया है।

ब्रम्हा मुहूर्त में क्या नहीं करना है?
❀ इस समय मन में नकारात्मक भाव नहीं लाने चाहिए, अन्यथा आपको पूरे दिन तनाव रहता है। जिससे आपको मानसिक रूप से परेशानी हो सकती है।
❀ कुछ लोग सुबह को उठते ही चाय नाश्ता करने लगते हैं, ये आदत सेहत के लिहाज से बहुत खराब होती है। सुबह को उठते ही या फिर ब्रह्म मुहूर्त में भूलकर भी भोजन नहीं करना चाहिए। इससे आपको बिमारियां घेरने लगती हैं।

मान्यता है कि ब्रह्म मुहूर्त को रात के अंतिम समय को कहा गया है और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यह समय परमात्मा का समय है। इसलिए इसका महत्व अधिक है।

What is Brahma Muhurta? in English

Brahma Muhurta is considered very important in the Vedas. It has been told in the scriptures that by giving up sleep in Brahma Muhurta, one gets knowledge, intelligence, health and strength. It is considered very good to start any work in Brahma Muhurta.
यह भी जानें

Blogs Brahma Muhurta BlogsDev Muhurta BlogsHindu Scripture BlogsVed Puran BlogsPractice Yoga BlogsWorship Time Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शारदीय नवरात्रि 2022

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

नवरात्रि स्पेशल: भारत में सात शीर्ष माँ दुर्गा मंदिर

ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए स्वर्ग से आती हैं। नवरात्रि के दौरान, भारत के विभिन्न कोनों में फैले माँ के प्रसिद्ध मंदिरों में कई भक्त एकत्रित होते हैं। आपको बता दें कि वैष्णो देवी के अलावा, माँ दुर्गा के सात मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध हैं।

दुर्गा पूजा धुनुची नृत्य

धुनुची नृत्य नाच दुर्गा पूजा के दौरान किया जाने वाला एक भक्ति नृत्य है और यह बंगाल की पारंपरिक नृत्य है। मां दुर्गा को धन्यवाद प्रस्ताव के रूप में पेश किया जाने वाला नृत्य शाम की दुर्गा आरती में ढाक बाजा, उलू ध्वनि की ताल पर किया जाता है।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

घटस्थापना महोत्सव 2022

घटस्थापना 26 सितंबर 2022 को मनाई जाएगी। यह 9-दिवसीय नवरात्रि उत्सव और दशईं उत्सव के दौरान पालन की जाने वाली एक रस्म है। दशईं त्योहार भारत के पूर्वोत्तर राज्यों और पड़ोसी देश नेपाल में मनाया जाता है। घटस्थापना अनुष्ठान दोनों त्योहारों की शुरुआत का प्रतीक है।

कैसे करें आध्यात्मिक वैष्णो देवी यात्रा?

जय माता दी! की गूंज और पूरी घाटी के खूबसूरत नज़ारों के बीच पवित्र गुफा की चढ़ाई चढ़ते हुए, माता वैष्णो देवी के मंदिर की यात्रा किसी अन्य की तरह एक आध्यात्मिक यात्रा है।

पितृ पक्ष में किन भोजनों से परहेज किया जाता है?

हिंदुओं का मानना ​​है कि पितृ पक्ष मैं श्राद्ध करने से पूर्बजों को मुक्ति मिलती है और प्रसन्न होते हैं। श्राद्ध की रस्में हिंदू परंपराओं के अनुसार बहुत सारे प्रतिबंधों के तहत की जाती हैं। इस दौरान कुछ भोजनों से परहेज किया जाता है।

Durga Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App