Hanuman Chalisa

महाकाल लोक क्या है? (What is Mahakal Lok?)

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवन शिव को समर्पित एक हिंदू मंदिर है और बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, तीर्थस्थल जिन्हें शिव का सबसे पवित्र निवास कहा जाता है। यह भारत के मध्य प्रदेश राज्य के प्राचीन शहर उज्जैन में स्थित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्जैन में महाकाल कॉरिडोर 'महाकाल लोक' का उद्घाटन किया। उज्जैन में महाकाल लोक ऐसे आकर्षक और सुविधाजनक मंदिर परिसर के रूप में सामने आ रहा है, जो आलौकिक आनंद की अनुभूति करवाएगा।

महाकाल लोक की वास्तुकला
❀ महाकाल कॉरिडोर 900 मीटर लंबा है, इस कॉरिडोर में 190 मूर्तियां हैं, जो भगवान शिव के अलग-अलग रूपों को दिखाती है।
❀ यहां दो भव्य प्रवेश द्वार- नंदी द्वार और पिनाकी द्वार बने हैं। इसमें त्रिशूल के डिजाइन के 108 स्तंभ हैं। साथ ही शिव पुराण की कहानियों को दर्शाने वाले 50 भित्ति चित्र बनाए गए हैं।
❀ यहां पर कालिदास के 'अभिज्ञान शकुंतलम' में उल्लेखित बागवानी प्रजातियों को भी गलियारे में लगाया गया है. इसमें रुद्राक्ष, बकुल, कदम, बेलपत्र और सप्तपर्णि जैसी धार्मिक महत्व वाली 40-45 प्रजातियां हैं।
❀ राजस्थान के बंसी पहाड़पुर से मंगाए गए खास बलुआ पत्थर यहां लगाए गए हैं। राजस्थान, गुजरात और ओडिशा के कलाकारों ने इस कॉरिडोर को तैयार किया है।
❀ महाकाल लोक मैं प्रथम चरण के तहत पैदल यात्री, भीड़ प्रबंधन, तीर्थ यात्री सुविधाएं, संस्कृति और विरासत सुरक्षा एवं पर्यावरण को ध्यान रखकर ही मंदिर विस्तार की योजना बनाई गई है।

महाकाल लोक में सुविधाएं
महाकाल लोक में एक समय में करीब 20 हजार तीर्थ यात्री आ सकते हैं। इसमें दो द्वार, मूर्तियों के साथ लैंडस्केप, गार्डन क्षेत्र, रूद्रसागर तट क्षेत्र, शिव स्तम्भ, सप्तऋषि स्थापित हैं। यहां ओपन एयर थियेटर और मुक्त आकाश मंच भी है। यहां फूड कोर्ट, हस्तशिल्प कलाकृति, धार्मिक वस्तुओं एवं फूलों की करीब 130 दुकानों का निर्माण किया गया है। 400 कार की क्षमता वाली पार्किंग के साथ ई-रिक्शा की भी सुविधा है।

पुराणों में बताए गए 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। जब भगवान श्रीकृष्ण शिक्षा लेने के लिए उज्जैन आए थे, तब उन्होंने महाकाल स्त्रोत का गान किया था। तुलसीदास ने भी महाकाल मंदिर का उल्लेख किया है।

कई काव्य कथाओं में भी महाकाल मंदिर का उल्लेख मिलता है। चौथी शताब्दी में लिखे गए मेघदूतम के पहले भाग में भी महाकाल का उल्लेख है। कालिदास ने भी महाकाल का उल्लेख है। कालिदास ने भी महाकाल मंदिर के बारे में बताया है। उज्जैन भी शिक्षा का बड़ा केंद्र रहा है। प्राचीन समय में इसे अवंतिका कहा जाता था।

What is Mahakal Lok? in English

Mahakaleshwar Jyotirlinga is a Hindu temple dedicated to Bhagwan Shiva and is one of the twelve Jyotirlingas, shrines that are said to be the holiest abode of Shiva. It is located in the ancient city of Ujjain in the state of Madhya Pradesh, India.
यह भी जानें

Blogs Shiv BlogsMahakal Lok BlogsBholenath BlogsMahadev BlogsShivaratri BlogsSavan BlogsMonday BlogsSomvar BlogsSolah Somvar BlogsSawan Specials Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

कपूर जलाने के क्या फायदे हैं?

भारतीय रीति-रिवाजों में कपूर का एक विशेष स्थान है और पूजा के लिए प्रयोग किया जाता है। कपूर का उपयोग आरती और पूजा हवन के लिए भी किया जाता है। हिंदू धर्म में कपूर के इस्तेमाल से देवी-देवताओं को प्रसन्न करने की बात कही गई है।

श्रीमद भगवद गीता पढ़ने का वैज्ञानिक कारण क्या है?

श्रीमद्भगवद्गीता, इस पवित्र ग्रंथ को कम से कम एक बार अवश्य पढ़ना चाहिए। कई मानते हैं कि गीता की शिक्षाओं का भी पालन करना चाहिए। लेकिन कुछ ही लोग गीता के वास्तविक उद्देश्य को पहचान पाते हैं। किसी अन्य पवित्र ग्रंथ की तुलना में खासकर सनातन संस्कृति में गीता पर अधिक जोर क्यों है...

आठ प्रहर क्या है?

हिंदू धर्म के अनुसार दिन और रात को मिलाकर 24 घंटे में आठ प्रहर होते हैं। औसतन एक प्रहर तीन घंटे या साढ़े सात घंटे का होता है, जिसमें दो मुहूर्त होते हैं। एक प्रहर 24 मिनट की एक घाट होती है। कुल आठ प्रहर, दिन के चार और रात के चार।

रुद्राभिषेक क्या है ?

अभिषेक शब्द का शाब्दिक अर्थ है – स्नान कराना। रुद्राभिषेक का अर्थ है भगवान रुद्र का अभिषेक अर्थात शिवलिंग पर रुद्र के मंत्रों के द्वारा अभिषेक करना।

प्रसिद्ध स्कूल प्रार्थना

भारतीय स्कूलों में विद्यार्थी सुवह-सुवह पहुँचकर सबसे पहिले प्रभु से प्रार्थना करते है, उसके पश्चात ही पढ़ाई से जुड़ा कोई कार्य प्रारंभ करते हैं। इसे साधारण बोल-चाल की भाषा में प्रातः वंदना भी कहा जाता है।

बाली जात्रा उत्सव

बाली जात्रा ओडिशा के सबसे बड़े व्यापार मेलों में से एक है और यह आठ दिनों तक चलता है। बाली जात्रा का अर्थ है बाली की यात्रा। यह कार्तिक के महीने में पूर्णिमा के दिन आयोजित किया जाता है..

भक्ति भारत हाई रैंकिंग 2022

bhaktibharat.com को ऑनलाइन रैंकिंग साइट similarweb.com में उच्च रैंक देने के लिए सभी दर्शकों और पाठकों का धन्यवाद।

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App
not APP