अहोई अष्टमी | दिवाली 2019 | आज का भजन!

श्री गौरी शंकर मंदिर - Shri Gauri Shankar Mandir


updated: Mar 13, 2018 23:04 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री गौरी शंकर मंदिर (Shri Gauri Shankar Mandir) - 30, Main Chandni Chowk Road, Delhi 110006 Delhi New Delhi

श्री गौरी शंकर मंदिर (Shri Gauri Shankar Mandir) dedicated to Lord Shiv and Maa Adishakti, an 800 year old Lingam made of a brown coloured Phallus Stone that is wrapped within a marble structure that represents the form of a female organ. Oldest Shiv Parvati Temple in Delhi, Ghaziabad, Noida, Gurugram, Faridabad. Read Temple History

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5.00 AM - 10.00 AM, 5.00 PM - 10.00 PM
आरती
7:00 AM, 7:00 PM, Bhole Baba Aarti: 8:00 PM

About Temple in Hindi

किंवदंती है कि, गौरी शंकर मंदिर का निर्माण आपा गंगाधर जी, जो कि एक मराठा सैनिक और भगवान शिव के एक अनन्य भक्त थे, उनके द्वारा किया गया था। एक बार गंभीर रूप से लड़ाई में घायल हो गंगाधर जी, और जब उसके जीवित रहने की भी संभावना कम से कम थी, उन्होंने अपने बचने की भगवान शिव से प्रार्थना की, और वचन लिया कि अपने प्राण बचते ही वह भगवान शिव का भव्य मंदिर का निर्माण करेंगे। अत्यंत बाधाओं के बावजूद, आपा गंगाधर जी बच गये और बाद में अपने वचनानुसार इस खूबसूरत प्राचीन मंदिर का निर्माण कराया। चमत्कारिक ढंग से इन आठ सदियों से समय की कसौटी पर बचे रहिते हुए, यह मंदिर आज भी आपनी द्रढता की गाथा सुनाता है।

About Temple in English

Legend has that the Gauri Shankar Temple was constructed by Apa Ganga Dhar who was a Maratha Soldier and an avid devotee of Lord Shiva. He was once severely injured in a battle and chances of his survival was minimal, in fact, it was none whatsoever and he prayed to Lord Shiva requesting that his life be spared and should his wish be granted, he would construct a beautiful temple in the name of Lord Shiva. Despite the odds, Apa Ganga Dhar survived and later went on to build this beautiful ancient temple that has miraculously survived the test of times over these eight centuries.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Om, Trishul, Sher and Shri Nandi (photo taken after permission)

Om, Trishul, Sher and Shri Nandi (photo taken after permission)

Front Shikar in Shri Gauri Shankar Mandir

Front Shikar in Shri Gauri Shankar Mandir

Shri Shivalay

Shri Shivalay

One more Shikar with Shri Ram

One more Shikar with Shri Ram

Trishul on main shikhar

Trishul on main shikhar

A full view of Shri Gauri Shankar Mandir

A full view of Shri Gauri Shankar Mandir

Two decorative shikar

Two decorative shikar

जानकारियां - Information

धाम
Shivling with Lord Shiv FamilyShri Ram FamilyShri Suryanarayan BhagwanShri Radha KrishnaShri Laxmi Narayan
Lord GaneshShri Kalki JiMaa SarswatiShri Hanuman JiMaa Durga
Shri Garun DevShri Yamuna MaiyaShri Ganga MaharaniBhakt Shri DhruvShri Ram Setu Stone
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water, Prasad, Puja Samagri, CCTV Security, Office, Shoe Store
धर्मार्थ सेवाएं
Satsang Hall
संस्थापक
Apa Ganga Dhar (Renovate: Seth Jaipuria)
स्थापना
Around 1200 (Renovate: 1959)
देख-रेख संस्था
Managing Committee of Shivala Apa Gangadhar
समर्पित
Lord Shiv and Maa Adishakti
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
30, Main Chandni Chowk Road, Delhi 110006 Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Chandni Chowk Road, Near Bhai mati Das Chowk
निर्देशांक 🌐
28.65563°N, 77.235621°E
श्री गौरी शंकर मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/Shri-Gauri-Shankar-Mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री गौमता जी की आरती

आरती श्री गैय्या मैंय्या की, आरती हरनि विश्‍व धैय्या की ॥ अर्थकाम सद्धर्म प्रदायिनि, अविचल अमल मुक्तिपददायिनि। सुर मानव सौभाग्य विधायिनि...

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

top