भालका तीर्थ - Bhalka Tirth

भालका तीर्थ के बारे में मान्यता है कि यहाँ पर विश्राम करते समय भगवान श्री कृष्ण के बाएं पैर में शिकारी ने गलती से बाण मारा था। जिसके पश्चात् उन्होनें पृथ्वी पर अपनी लीला समाप्त करते हुए निजधाम प्रस्थान किया। बाण या तीर को भल्ल भी कहा जाता है, अतः इस तीर्थ स्थल को भालका तीर्थ के नाम से जाना गया है। श्री सोमनाथ ट्रस्ट द्वारा प्रबंधित यह भव्य तीर्थ एवं पर्यटन स्थल सोमनाथ मंदिर से ४ किलोमीटर दूर स्थित है।

पौराणिक कथा
महाभारत में एक शिकारी की कहानी के बारे में बताता गया है, जो कि दुनिया से श्री कृष्ण के प्रस्थान के लिए एक साधन के रूप में जाना जाता है। श्री कृष्ण जंगल में पीपल के एक पेड़ के नीचे ध्यान मुद्रा में लेट हुए थे। तभी एक जरा नाम का शिकारी, भगवान कृष्ण के बाएं में आंशिक रूप से दिखी मणी को हिरण की आँख समझ कर, उनके ऊपर तीर से निशाना लगाया। बाण भगवान के पैर में लगा और खून बहिने लगा। शिकारी को तब अपनी गलती का अहसास हुआ और उसने भगवान से छमा माँगी। यह घटना पृथ्वी से कृष्ण के प्रस्थान का प्रतीक है। यह घटना द्वापर युग के अंत का संकेत थी।

श्री कृष्ण निजाधम प्रस्थान लीला के बारे में महाभारत, श्रीमद भागवत, विष्णु पुराण और अन्य आध्यात्मिक पुस्तकों में उल्लेखित है। वर्तमान में यह पीपल का पेड़ अभी भी वहाँ स्थित है और इसे इस शानदार मंदिर में संरक्षित रखा गया है।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • इस जगह, एक शिकारी ने श्री कृष्ण को एक तीर मारा था।
  • श्री कृष्ण नीजधाम प्राण लीला का एक हिस्सा।
  • गुजरात के श्री सोमनाथ ट्रस्ट द्वारा संचालित।

समय - Timings

दर्शन समय
6:00 AM - 9:00 PM
त्यौहार
Janmashtami, Shivaratri, Shravan, Golokdham Utsav, Diwali|Kartik Purnima Fair, Somnath Sthapana Divas | यह भी जानें: शारदीय नवरात्रि

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Complete left side architecture with vat vriksh and other trees.

Complete left side architecture with vat vriksh and other trees.

Shri Krishna in shayan mudra with Jara hunter in chama mudra are main murti of this temple.

Shri Krishna in shayan mudra with Jara hunter in chama mudra are main murti of this temple.

Center top shikar with flag among the greenery of Peepal and Banyan tree.

Center top shikar with flag among the greenery of Peepal and Banyan tree.

As pic shows the beautiful pillars of the temple taken from left side.

As pic shows the beautiful pillars of the temple taken from left side.

Nearby Shri Prajapita Brahma Kumaris Ishwarya Vishva Vidhyalaya, college architecture is like like the shape of large Shivling.

Nearby Shri Prajapita Brahma Kumaris Ishwarya Vishva Vidhyalaya, college architecture is like like the shape of large Shivling.

Shri Pragateshwar Mahadev temple within the Bhalka Tirth, shows the bonding between Shir Narayan and Mahadev.

Shri Pragateshwar Mahadev temple within the Bhalka Tirth, shows the bonding between Shir Narayan and Mahadev.

Bhalka Tirth in English

In Bhalka Tirth a hunter had mistakenly shot Lord Shri Krishna`s left foot by an arrow. After which, He initiated His leela to left the earth.

जानकारियां - Information

धाम
Shri KrishnaShivling with GanPeepal TreeBanyan TreeMaa TulsiBanana Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shoe Store, Sitting Benches
धर्मार्थ सेवाएं
Holy Pond
स्थापना
महाभारत काल
देख-रेख संस्था
श्री सोमनाथ ट्रस्ट, गुजरात
समर्पित
श्री कृष्ण
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Prabhas Patan, Veraval, Gir Somnath Somnath Gujarat
सड़क/मार्ग 🚗
Somnath Una Highway >> Bilesware Street
रेलवे 🚉
Veraval
हवा मार्ग ✈
Sardar Vallabhbhai Patel International Airport
नदी ⛵
Hiran, Kapila
वेबसाइट 📡
निर्देशांक 🌐
20.911576°N, 70.383756°E
भालका तीर्थ गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/bhalka-tirth

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

आरती: श्री हनुमान जी

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे॥

आरती: श्री शनि - जय शनि देवा

जय शनि देवा, जय शनि देवा, जय जय जय शनि देवा। अखिल सृष्टि में कोटि-कोटि जन करें तुम्हारी सेवा।

🔝