आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..: भजन (Ajaa Nand Ke Dulare)


आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..: भजन

आजाआ... ओओओ...
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..
रोवे अकेली मीरा..आ..
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..
रोवे अकेली मीरा..आ..

बालक सी न ब्याह करवाया
तेरे संग ब्याही हो..हो..
पिहर छोड़ सासरे आगी
लदी कुल क शाही हो..हो.. ॥
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..॥

रोम रोम मे रम होया से..
नही रोम टेन न्यारा हो
दुष्टों का संघार किया
बन्यां भक्तो का तू प्यारा हो.. ॥
रोम रोम मे रम होया से.. ॥

जंग जोवे अकेली मीरा..आ.. ॥
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. ॥

आदम देह के चोले संग
दूत रहें सयम हो.. हो..
सतरंग सेज बिछा रखी से
लगे गाळीचे गम के हो..हो.. ॥
आदम देह के चोले संग ॥

सोवे अकेली मीरा..आ.. ॥
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. ॥

माँगेराम राम ने टोहेवे
कोन्यों पाया दर पे हो..हो..
लख़मिचंद सुरग मे जालिये
फेर भी बोझा सिर पे हो..हो..॥
माँगेराम राम ने टोहेवे ॥

ढोवे अकेली मीरा..आ.. ॥
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. ॥

आजाआ... ओओओ...
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..
रोवे अकेली मीरा..आ..
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..
रोवे अकेली मीरा..आ..

Lead Singer: विधि देशवाल
Lyrics: Lt Pandit Sh. Mange Ram Sangi Ji, Panchi, Haryana
Chorus: Rinku, Muskan, Manisha, Sheetal, Isha
Music: Sh. Somesh Jangra ji, Hisar, Haryana

Ajaa Nand Ke Dulare in English

Aajaaaa Oooooooo.. Ajaaa Nand Ke Dulaare Ho Rowe Akeli Meeraaa… Ohhh Aaja Nand K Dulaare Ho Ro
यह भी जानें

Bhajan Shri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanShri Shayam BhajanMeera BhajanHaryanavi BhajanVidhi Deshwal Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण । राम भजो, राम रटो..

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन

जिनके हृदय श्री राम बसे, उन और को नाम लियो ना लियो । जिनके हृदय श्री राम बसे..

भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमजोर हो ना..

भजन: मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे, राम आएँगे, राम आएँगे आएँगे..

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी।

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी । कलियुग का तो जीव उद्धार्या, मस्तक धरिया हाथ जी..

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

🔝