करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

नोयडा कालीबाड़ी - Noida Kalibari


updated: Sep 14, 2019 17:33 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📜 इतिहास | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


नोएडा में सबसे पहले, श्री दुर्गा पूजा का आयोजन नोएडा क्लब सेक्टर- 27 में, नोएडा दुर्गा पूजा समिति के प्रयासों से सन् 1983 हुआ। इसके उपरांत नोएडा बंगाली कल्चरल एसोसिएशन (NBCA) की स्थापना एवं पंजीकरण 1984 कराया गया।

नोयडा कालीबाड़ी की परिकल्पना से स्थापना तक पहुँचाने का श्रेय नोएडा बंगाली कल्चरल एसोसिएशन की अथक प्रयासों को ही जाता है। कालीबाड़ी की स्थापना के बाद शिवधाम एवं श्री राधा कृष्णा धाम की भी स्थापना हुई।

मंदिर से त्रैमासिक पत्रिका एवं धर्मशाला का संचालन भी किया जाता है। मंदिर परिसर में होम्योपैथी क्लीनिक, ड्राइंग क्लासेस, संगीत क्लासेस, धर्मार्थ औषधालय एवं लाइब्ररी का भी संचालन किया जाता है।

प्रचलित नाम: নয়ডা কালীবাড়ি

मुख्य आकर्षण

  • नोयडा का प्रमुख मंदिर कालीबारी।
  • विशाल धर्मशाला की स्थापना।

समय सारिणी

दर्शन समय
Summer (April - September): 05.00 AM - 01.00 PM, 05.30 PM - 09.30 PM ; Winter (October - March): 06.00 AM - 01.00 PM, 05.00 PM - 09.00 PM
5.00 AM (S), 6.00 AM (W): मंगला आरती
7.00 AM (S), 8.00 AM (W): पूजा
10:00 AM - 12:00 PM: होम्योपैथी क्लीनिक (शनिवार छुट्टी)
12.30 PM: भोग
5 PM - 6 PM: ड्राइंग क्लासेस (शुक्रवार), संगीत क्लासेस (मंगलवार)
6 PM - 9 PM: स.न. बेनर्जी मेमोरियल लाइब्ररी (सोमवार छुट्टी)
6.30 PM - 8.30 PM: धर्मार्थ औषधालय (रविवार छुट्टी)
7.30 PM (S), 7.00 PM (W): संध्या आरती
त्यौहार
Durga Puja, Navratri, Diwali|Kali Puja, Saraswati Puja, Shivaratri, Janmashtami, Laxmi Puja | Read Also: नवरात्रि

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Three Shikhar with first floor of main temple

Three Shikhar with first floor of main temple

Full closeup view of main temple

Full closeup view of main temple

Full temple view with Dharmsala

Full temple view with Dharmsala

Full temple view including three shikhar

Full temple view including three shikhar

Main / Middle Shikar

Main / Middle Shikar

Top of Main / Middle Shikar

Top of Main / Middle Shikar

Three Shikhar with first floor of main temple

Three Shikhar with first floor of main temple

Closeup of Maa Kali Dham on first floor

Closeup of Maa Kali Dham on first floor

Noida Kalibari - Available in English

First in Noida, Shri Shri Durga Puja was celebrated in Oct 1983 under the banner of Noida Durga Puja Samiti, at Noida Club, Sector 27. Subsequently Noida Bengali Cultural Association(NBCA) was established and registered in 1984. which was initiation of Noida Kalibari with Shivling and Shri Radha Krishna dham.

जानकारियां

धाम
Shivling with Lord Shiv FamilyShri Radha KrishnaPeepal TreeTulsi PlantBanana Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Puja Samagri, Drinking Water, RO, Power Backup, Shoe Store, Washrooms, CCTV Security, Sitting Benches, Music System
धर्मार्थ सेवाएं
त्रैमासिक पत्रिका, धर्मशाला
स्थापना
16 अगस्त 1986
देख-रेख संस्था
NBCA - नोएडा बंगाली कल्चरल असोसियेशन
समर्पित
माँ काली
वास्तुकला
टेराकोटा बंगाली वास्तुकला
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध

1984

NBCA - नोएडा बंगाली कल्चरल असोसियेशन की स्थापना।

16 August 1986

16 August 1986 / Diwali Nov 1988 / 13 May 1994

30 November 2000

धर्मशाला की नीव रखी गई।

9 October 2005

धर्मशाला की स्थापना।

14 June 1999

श्री राधा कृष्ण मंदिर की स्थापना।

कैसे पहुचें

पता 📧
E 5C, Kalibari Marg, Sector 26 Noida Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Ashok Marg >> Shaheed Arjun Sarona Marg
रेलवे 🚉
Ghaziabad, New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
वेबसाइट 📡
http://www.noidakalibari.com
निर्देशांक 🌐
28.578606°N, 77.334581°E
नोयडा कालीबाड़ी गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/noida-kalibari

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top