विवाह पंचमी | आज का भजन!

श्री राम मंदिर - Shri Ram Mandir


Nov 10, 2019 08:25 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


शिकोहाबाद के मेला वाले बाग में टुईयाँ वाले मंदिर के सामने स्थित है, यह नवनिर्मित श्री राम मंदिर जिसे टुईयाँ वाले राम मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

मंदिर के सत्संग भवन की दीवारों पर सम्पूर्ण रामायण, हनुमान चालीसा एवं हनुमान अष्टक लेख रूप मे अंकित किया गया है। सत्संग हॉल में प्रवेश करने हेतु, 7 (सात) प्रवेश द्वारों का निर्माण किया गया है, जोकि रामायण के सात काण्ड को दर्शाते हैं।

प्रतिवर्ष, पितृ पक्ष / श्राद्ध / कानागत के दौरान मंदिर में सप्त-दिवसीय राम कथा का आयोजन किया जाता है, जिसका आनंद लेने के लिए भक्त दूर-दूर से रामकथा में सम्लित होते हैं।

प्रचलित नाम: टुईयाँ वाला राम मंदिर

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 4:00 - 9:30 PM
7:00 AM: सुवह आरती
as per sun set: संध्या आरती
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Shri Ram Mandir in English

Shri Ram Mandir Shikohabad located in front of the Tuiyun Temple in the Mela Wala Bagh of Shikohabad, this newly constructed Shri Ram Temple is also known as the Tuiyyan Wale Ram Mandir.

जानकारियां - Information

समर्पित
श्री रामचंद्र जी
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Mela Wala Bagh Shikohabad Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Station Road >> Mela Wala Bagh Road
रेलवे 🚉
Shikohabad(J)
हवा मार्ग ✈
Pandit Deen Dayal Upadhyay Airport, Agra
नदी ⛵
Sirsa, Yamuna
निर्देशांक 🌐
27.099520°N, 78.577333°E
श्री राम मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/ram-mandir-shikohabad

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

top