वे मनमोनेआ बालक नाथा - भजन (Ve Manmoneya Balak Natha)


वे मनमोनेआ बालक नाथा - भजन
Add To Favorites

वे मनमोनेआ बालक नाथा कदों बुलावेंगा ।
तेरा शाहतलाईया डेरा, बाबा कादो बुलावेंगा ॥

एक चिमटा बनाया बाबा तेरे नाम दा ।
ओह भी धूने विच पाया बाबा तेरे नाम दा ॥

वे मनमोनेआ बालक नाथा कदों बुलावेंगा ।
तेरा शाहतलाईया डेरा, बाबा कादो बुलावेंगा ॥

एक चोली बनायी बाबा तेरे नाम दी ।
ओह मुंडे विच पायी बाबा तेरे नाम दी ॥

वे मनमोनेआ बालक नाथा कदों बुलावेंगा ।
तेरा शाहतलाईया डेरा, बाबा कादो बुलावेंगा ॥

एक सिंघी बनायी बाबा तेरे नाम दी ।
ओह वी गले विच पायी बाबा तेरे नाम दी ॥

वे मनमोनेआ बालक नाथा कदों बुलावेंगा ।
तेरा शाहतलाईया डेरा, बाबा कादो बुलावेंगा ॥

एक रोट बनाया बाबा तेरे नाम दा ।
ओह वी मंदिर चढ़ाया बाबा तेरे नाम दा ॥

वे मनमोनेआ बालक नाथा कदों बुलावेंगा ।
तेरा शाहतलाईया डेरा, बाबा कादो बुलावेंगा ॥

वे मनमोनेआ बालक नाथा कदों बुलावेंगा ।
तेरा शाहतलाईया डेरा, बाबा कादो बुलावेंगा ॥

यह भी जानें

Bhajan Baba Balaknath BhajanBalaknath BhajanBaba Ki BhajanKalaghari BhajanGuru BhajanGurudev BhajanGuru Purnima BhajanVyasa Purnima BhajanGuru Nanak Jayanti BhajanSant Ravidas BhajanShabad Kirtan BhajanGurbani BhajanKripa BhajanPunjabi Bhajan

अन्य प्रसिद्ध वे मनमोनेआ बालक नाथा - भजन वीडियो

Baby Sanjana

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel