Hanuman Chalisa
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Om Jai Jagdish Hare Aarti - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

अधर पणा (Adhara Pana)

अधर पणा
अधर पणा, पुरी जगन्नाथ का एक अनुष्ठान है जो रथ यात्रा उत्सव के दौरान पुरी जगन्नाथ मंदिर में मनाया जाता है। अधर पणा अनुष्ठान आषाढ़ महीने त्रयोदशी तिथि पर आयोजित किया जाता है, जिसमें विशेष रूप से निर्मित मिटटी के बर्तनों में देवताओं को 100 लीटर पणा (मीठा पेय) परोसा जाता है।
अधर पणा अनुष्ठान कैसे आयोजित किया जाता है?
❀ आमतौर पर, अधर पणा आषाढ़ महीने त्रयोदशी तिथि पर मध्याह्न धूप (दोपहर-भोजन) के बाद दिया जाता है, जिसके बाद सोडाशा उपचार पूजा (16 प्रकार की पूजा) होती है। अधर पणा अनुष्ठान के दौरान, 12वीं शताब्दी के मंदिर के सिंह द्वार के पास खड़े प्रत्येक रथ पर मिटटी के बर्तन रखे जाते हैं। ये प्रभु के होठों तक पहुँचते हैं।

❀ बर्तन में दूध की मलाई, पनीर, चीनी, केला, कपूर, जायफल, काली मिर्च और ऐसे अन्य मसालों का 100 लीटर मिश्रण किया जाता है। फिर रथों में रहने वाली आत्माओं भूत, पिशाच, मानव, दानब को मुक्त करने के लिए इन्हें तोड़ दिया जाता है।

❀ जलपान केवल उन देवी-देवताओं के लिए है, जो रथ यात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ, देवी सुभद्रा और भगवान बलभद्र की रक्षा के लिए रथों पर रहते हैं, यही कारण है कि उन्हें 'रथ रक्षक' के नाम से जाना जाता है। भक्तों को यह पणा ग्रहण करना मना है।

❀ विशाल मिटटी के बर्तन कुंभारपाड़ा के कुम्हारों द्वारा तैयार किये जाते हैं। पहले, इस उद्देश्य के लिए 12 मिट्टी के बर्तनों का उपयोग किया जाता था। हालाँकि, सेवक अब केवल नौ बर्तनों में पणा परोसते हैं।

अधर पणा अनुष्ठान कौन तैयार करता है?
परंपरा के अनुसार, श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन और राघब दास मठ और बदौदिया मठ के अधिकारी स्थानीय कुम्हारों से मिट्टी के बर्तनों की व्यवस्था करते हैं, जो इन्हें बनाने के लिए तीन बोरी मिट्टी और एक बोरी रेत का उपयोग करते हैं। अनुष्ठान के लिए तीन विशेष मिट्टी के बर्तनों को आकार देने में उन्हें कम से कम एक महीने का समय लगता है।

अधर पणा के बाद अगले दिन नीलाद्रि बिजे का अनुष्ठान आयोजित किया जाता है।

Adhara Pana in English

Adhar Pana ritual is conducted at Puri Jagannath temple on Trayodashi tithi in the month of Ashadha.
यह भी जानें

Blogs Adhara Pana BlogsSnana Yatra BlogsDevasnana Purnima BlogsSnana Purnima BlogsGajanan Besh BlogsNiladri Bije BlogsPuri Rath Yatra Festival BlogsGundicha Yatra BlogsJagannath Rath BlogsChariot Festival BlogsRath Yatra Dates BlogsNetrautsav BlogsHera Panchami BlogsSuna Besh Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

रुक्मिणी हरण एकादशी

रुक्मिणी हरण एक ऐसी घटना है जो मदनमोहन और रुक्मिणी के बीच विवाह का त्यौहार है। यह पुरी जगन्नाथ मंदिर, ओडिशा में एक भव्य त्योहार है। यह निर्जला एकादशी दिवस (ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी) के दौरान आती है।

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2024

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | ISKCON एकादशी कैलेंडर 2024

ज्योष्ठ माह 2024

पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में ज्योष्ठ माह वर्ष का तीसरा महीना होता है। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में ज्येष्ठ सूर्य के वृष राशि में प्रवेश के साथ शुरू होता है, और वैष्णव शास्त्र के अनुसार यह वर्ष का दूसरा महीना होता है।

जैन ध्वज क्या है?

जैन धर्म में जैन ध्वज महत्वपूर्ण है और इसके अनुयायियों के लिए एकता के प्रतीक के रूप में कार्य करता है। विभिन्न समारोहों के दौरान जैन ध्वज मंदिर के मुख्य शिखर के ऊपर फहराया जाता है।

स्नान यात्रा

स्नान यात्रा जो कि देवस्नान पूर्णिमा या स्नान पूर्णिमा नाम से भी जाना जाता है।

कृष्ण दास

कृष्णा दास एक भक्ति गायक हैं जो भारतीय मंत्रों को कीर्तन तरीके से प्रस्तुत करते हैं।

ISKCON

ISKCON संप्रदाय के भक्त भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानते हैं। इनके द्वारा गाये जाने वाले भजन, मंत्र एवं गीतों का कुछ संग्रह यहाँ सूचीबद्ध किया गया है, सभी सनातनी परम्परा के भक्त इसका आनंद लें।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP