बुद्ध पूर्णिमा 2021 (Buddha Purnima 2021)

बुद्ध पूर्णिमा 2021

बुद्ध पूर्णिमा को वैशाख पूर्णिमा भी कहा जाता है। यह गौतम बुद्ध की जयंती है और उनका निर्वाण प्राप्ति दिवस भी है। इसी दिन भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। आज विश्व में बौद्ध धर्म को मानने वाले 50 करोड़ से अधिक लोग इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। बुद्ध हिंदू धर्म के लिए विष्णु के नौवें अवतार हैं। इसलिए इस दिन को हिंदुओं के लिए भी पवित्र माना जाता है।

बिहार में बोधगया नामक स्थान हिंदुओं और बौद्धों के लिए एक पवित्र तीर्थ स्थान है। यहां भगवान बुद्ध ने कठोर तपस्या की और अंत में वैशाख पूर्णिमा के दिन बोधि वृक्ष के नीचे उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई। तभी से इस दिन को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है।

बुद्ध पूर्णिमा बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे बड़ा त्योहार है। विभिन्न देशों में, देश के रीति-रिवाजों और संस्कृति के अनुसार बुद्ध पूर्णिमा समारोह आयोजित किए जाते हैं।

शुभ मुहूर्त
बुद्ध पूर्णिमा 26 मई 2021, बुधवार को मनाई जायेगी
वैशाख पूर्णिमा शुभ मुहूर्त की शुरुआत - 25 मई 2021 (रात 8:20 बजे से)
वैशाख पूर्णिमा शुभ मुहूर्त की समाप्ति - 26 मई 2021 (शाम 04:40 बजे तक)

हिंदू धर्म के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है बुद्ध पूर्णिमा:
हिंदू शास्त्रों में वर्णित है कि इस दिन भगवान बुद्ध ने अवतार लिया था, जो भगवान विष्णु के नौवें अवतार है। इसलिए बुद्ध पूर्णिमा न केवल बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए बल्कि हिंदू धर्म को मानने वालों के लिए भी महत्वपूर्ण है। कहा जाता है कि इस दिन दान करने से बहुत लाभ होता है।

हिंदू धर्म के अनुयायी इस दिन पूर्वजों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। पितरों की आत्मा की शांति के लिए दान करते हैं।

बुद्ध पूर्णिमा के दिन बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के घरों में रोशनी की जाती है और घर को फूलों से सजाया जाता है। मान्यता है कि इस दिन धार्मिक कार्य करने से विशेष लाभ मिलता है।

Buddha Purnima 2021 in English

Buddha Purnima is also called Vaishakh Purnima. It is the birth anniversary of Gautam Buddha and also his Nirvana day. Bhagwan Buddha attained enlightenment on this day.
यह भी जानें
बुद्ध पूर्णिमा 2021 - Buddha Purnima 2021

Blogs Buddha Purnima BlogsVaishakh Purnima BlogsBhagwan Buddha Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

वैदिक पौराणिक शंख

वैदिक पौराणिक शंख, शंख के नाम एवं प्रकार, शंख की महिमा, भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन, भीमसेन, युधिष्ठिर, नकुल, सहदेव, सहदेव, भीष्म के शंख का क्या नाम था?

राहुकाल क्या होता है?

ग्रहों के गोचर में हर दिन सभी ग्रहों का एक निश्चित समय होता है, इसलिए राहु के लिए भी हर समय एक दिन आता है, जिसे राहु काल कहा जाता है।

पंडित जी, वैशाली गाज़ियाबाद

वैशाली, इंदिरापुरम एवं वसुंधरा क्षेत्र के प्रतिष्ठित पंडित जी से आप भक्ति-भारत के द्वारा सम्पर्क कर सकते हैं।

`तिथि` क्या है और इसकी गणना कैसे की जाती है?

तिथि को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि 'चंद्र रेखा' को 'सूर्य रेखा' से 12 अंश ऊपर जाने में लगने वाला समय को तिथि कहते हैं।

(कृष्ण और शुक्ल) पक्ष क्या है?

हिन्दू पंचांग में एक महीने को 30 दिनों में विभाजित किया गया है। इसे 30 दिनों को फिर दो पक्षों में बांटा गया है। 15 दिनों के एक पक्ष को शुक्ल पक्ष और शेष 15 दिनों को कृष्ण पक्ष माना जाता है। चन्द्रमा की आकार के अनुसार शुक्ल और कृष्ण पक्ष गणना किया गया है।

सावित्री अमावस्या उत्सव

सावित्री व्रत ओडिशा और भारत के पूर्वी हिस्सों में विवाहित महिलाओं द्वारा पति के लिए मनाया जाता है।

पंचांग का अर्थ क्या है?

हिंदू कैलेंडर में पंचांग एक अनिवार्य हिस्सा है, जो हिंदू रीति-रिवाजों की पारंपरिक इकाइयों का पालन करता है, और महत्वपूर्ण तीथियां प्रस्तुत करता है और एक सारणीबद्ध रूप में गणना करता है।

🔝