👶जितिया - Jitiya

Jitiya Date: 18 September 2022

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक वर्ष आश्विन मास की कृष्ण अष्टमी को सुहागन स्त्रियां द्वारा जितिया व्रत रखा जाता है। मान्यता के अनुसार जितिया व्रत करने से संतान को सुख-समृद्धि एवं दीर्घायु की प्राप्ति होती है। जितिया व्रत को जीवित्पुत्रिका एवं जिउतिया व्रत भी कहा जाता है।

जितिया व्रत के अंतर्गत व्रती महिलाएं पूरे दिन निर्जला व्रत का पालन करतीं हैं। व्रत पारण के समय करने के समय भगवान सूर्य को अर्घ्य देने के पश्चात ही अन्न को ग्रहण करती हैं। जितिया व्रत का पारण प्रायः अगले दिन अर्थात नवमी तिथि को ही होता है। जितिया व्रत की परंपराएँ छठ पूजा की तरह ही मिलती-झुलती हैं। जीवित्पुत्रिका व्रत प्रमुख रूप से उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड एवं पश्चिम बंगाल में बड़ी ही प्रमुखता से मनाया जाता है।

संबंधित अन्य नाम
Jeevitputrika Vrat, Jiutiya Vrat

Jitiya in English

According to the Hindu calendar, every year on Krishna Ashtami of the month of Ashwin, married women keep the fast of Jitiya. Jitiya Vrat is also known as Jivitputrika and Jiutiya Vrat.

पौराणिक कथा

जितिया व्रत की प्रथम कथा:
पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार एक गरुड़ और एक मादा लोमड़ी नर्मदा नदी के पास एक हिमालय के जंगल में रहते थे।...

जितिया व्रत की दूसरी कथा:
जितिया व्रत की कथा महाभारत काल की घटना से जुड़ी है। कथाओं के अनुसार, महाभारत युद्ध में अपने पिता गुरु द्रोणाचार्य की मृत्यु का बदला लेने की भावना से अश्वत्थामा पांडवों के शिविर में घुस गया।...
पूर्ण जितिया व्रत कथा जानने के लिए लिंक पर क्लिक करें!

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
6 October 202325 September 202415 September 20253 October 202623 September 2027
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
आश्विन कृष्ण अष्टमी
समाप्ति तिथि
आश्विन कृष्ण अष्टमी
महीना
सितंबर / अक्टूबर
कारण
संतान के सुख-समृद्धि एवं दीर्घायु हेतु।
उत्सव विधि
व्रत, पूजा, व्रत कथा, भजन-कीर्तन, नदी स्नान।
महत्वपूर्ण जगह
घर, नदी घाट।
पिछले त्यौहार
29 September 2021
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मंदिर

Download BhaktiBharat App Go To Top