श्री जगन्नाथ मंदिर - Shri Jagannath Mandir

वैशाली उप-महानगर में ओडिशा सांस्कृतिक गतिविधियों का केंद्र श्री जगन्नाथ मंदिर सेक्टर-2 मुख्य बाजार क्षेत्र में वार्षिक गुंडिचा यात्रा के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर अपने पास स्थित श्री शिव मंदिर के साथ एक ही दीवार साझा करता है।

श्री जगन्नाथ मंदिर का सबसे प्रसिद्ध उत्सव जगन्नाथ रथ यात्रा है, यह यात्रा वैशाली सेक्टर-2 से आरंम्भ होकर सेक्टर-4, सेक्टर-5 होते हुए सेक्टर-3 के शिव मंदिर पर समाप्त होती है। रथ यात्रा के लिए सेक्टर-3 का शिव मंदिर सांकेतिक रूप से गुंडिचा मंदिर का कार्य करता है।

प्रचलित नाम: वैशाली जगन्नाथ मंदिर

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • वार्षिक जगन्नाथ रथ यात्रा के लिए प्रसिद्ध।
  • कलिंग बौद्ध वास्तुकला की मदद से बनाएं।

समय - Timings

दर्शन समय
4.00 AM - 12.00 PM, 4.00 PM - 9:00 PM
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Rath Yatra 2017: Holy chandan paani and clean process with jhadu called Chera Pahara-छैरा पहंरा. It means indication of Rathyatra initiation from Jagannath Temple.

Rath Yatra 2017: Holy chandan paani and clean process with jhadu called Chera Pahara-छैरा पहंरा. It means indication of Rathyatra initiation from Jagannath Temple.

Rath Yatra 2017: First few steps towards nearby Shiv Mandir.

Rath Yatra 2017: First few steps towards nearby Shiv Mandir.

Rath Yatra 2017: Few steps ahead towards final destination of Gundicha Yatra.

Rath Yatra 2017: Few steps ahead towards final destination of Gundicha Yatra.

Rath Yatra 2017: Bhajan, Kirtan, Pooja and Geet Sangeet with all traditional instruments on reaching

Rath Yatra 2017: Bhajan, Kirtan, Pooja and Geet Sangeet with all traditional instruments on reaching

Rath Yatra 2017: Eagerness with excitement to get bhagwat prasad by Shri Jagannath devotees.

Rath Yatra 2017: Eagerness with excitement to get bhagwat prasad by Shri Jagannath devotees.

Rath Yatra 2017: Welcomed Rath Yatra in Shiv Shakti Mandir by head pujaris. Now Lord Jagannath will stay here till Bahuda-बाहुङा.

Rath Yatra 2017: Welcomed Rath Yatra in Shiv Shakti Mandir by head pujaris. Now Lord Jagannath will stay here till Bahuda-बाहुङा.

Rath Yatra 2017: Bhagwan Jagannatha with His brother Balabhadra and sister Devi Subhadra are now guest in Shiv Shakti Mandir for nine days.

Rath Yatra 2017: Bhagwan Jagannatha with His brother Balabhadra and sister Devi Subhadra are now guest in Shiv Shakti Mandir for nine days.

Shri Radha Krishna Wall Paint

Shri Radha Krishna Wall Paint

Big Lion Statue on Main Gate

Big Lion Statue on Main Gate

Big Lion and Elephant Statue with Temple Stairs. Beautiful Wall Paint of Shri Lakshmi Narayan Ji on Sheshnag Shaiya.

Big Lion and Elephant Statue with Temple Stairs. Beautiful Wall Paint of Shri Lakshmi Narayan Ji on Sheshnag Shaiya.

Shri Jagannath Mandir in English

Only place of Odisha cultural activities in Vaishali, Shri Jagannath Mandir famous for yearly Gundicha Yatra in Sector 2 main market area.

जानकारियां - Information

मंत्र
॥ जय जगन्नाथ ॥
धाम
Shri Ganesh JiShivling and Shiv FamilyMaa SarswatiMaa KaliShri Hanuman Ji MaharajNavgrah Dham
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Power Backup, Shoe Store, Parking, Drinking Water
स्थापना
15 अक्टूबर 2003
देख-रेख संस्था
जगन्नाथ कल्चरल सोसाइटी
समर्पित
भगवान जगन्नाथ
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध - Timeline

1995

भगवान श्री जगन्नाथ जी का प्रथम आशीर्वाद पास के श्री शिव मंदिर में। श्री चैतन्य महाप्रभु का दो दिवसीय कीर्तन की शुरुआत 1995 से हुई।

2000

जगन्नाथ रथ यात्रा की शुरूआत।

2001

नए स्वतंत्र मंदिर का भूमिपूजन।

2003

वर्तमान स्थान पर मंदिर प्राण प्रतिष्ठा।

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Sector 2 Vaishali Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Madan Mohan Malviya Marg / Mohan - Anand Vihar Road >> Gautam Palvi Road
रेलवे 🚉
Ghaziabad
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport
नदी ⛵
Hindon
निर्देशांक 🌐
28.637133°N, 77.340131°E
श्री जगन्नाथ मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/jagannath-mandir-vaishali

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी

स्तुति श्री हिंगलाज माता और श्री विंध्येश्वरी माता सुन मेरी देवी पर्वतवासनी...

आरती: माँ दुर्गा, माँ काली

अम्बे तू है जगदम्बे काली जय दुर्गे खप्पर वाली। तेरे ही गुण गाये भारती...

🔝