किले वाली माता - Kile Wali Mata

किले वाली माता को माँ आदि शक्ति के रूप में समर्पित किया गया था, जिसकी स्थापना 1000 साल पहले 1000 - 1200 के आसपास हुई थी। यह पुरानी ध्वस्त सासनी किला (किला) पर स्थित है। भारत सरकार ने इस स्थान को एक प्राचीन स्मारक और पुरातात्विक स्थल के रूप में घोषित किया, और इस क्षेत्र में लगभग 100 मीटर की दूरी पर नया निर्माण निषिद्ध है।

समय - Timings

दर्शन समय
5:30 AM - 9:00 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Main Mata Temple

Main Mata Temple

Maa Santoshi

Maa Santoshi

Monument declaration by Government

Monument declaration by Government

Greenery in  Kile Wali Mata

Greenery in Kile Wali Mata

Main Shikhar in Kile Wali Mata

Main Shikhar in Kile Wali Mata

Beautiful Green View

Beautiful Green View

Green View in Kile Wali Mata

Green View in Kile Wali Mata

Lord Shiv Mandir with Shivling

Lord Shiv Mandir with Shivling

Banyan Tree(वट वृक्ष, बरगद)

Banyan Tree(वट वृक्ष, बरगद)

Shri Hanuman Mandir

Shri Hanuman Mandir

Kile Wali Mata in English

किले वाली माता (Kile Wali Mata) dedicated to a form of Maa Aadi Shakti, founded 1000 years back around 1000 - 1200.

जानकारियां - Information

धाम
Shri Ram FamilyLord Hanuman JiMaa Durga JiShivling with Lord Shiv FamilyHawan ShalaPeepal TreeBanyan Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Sitting Benches
स्थापना
1000 - 1200
समर्पित
माँ आद्य शक्ति
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Sasni Fort, Sasni Dehat Sasni Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
NH 39 >> Railway Station Road
रेलवे 🚉
Railway Station Road towards
हवा मार्ग ✈
Pandit Deen Dayal Upadhyay Airport Agra
निर्देशांक 🌐
27.703911°N, 78.093158°E
किले वाली माता गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/kile-wali-mata

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment


अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

श्री खाटू श्याम जी आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥

🔝