करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

श्री विमलाम्बा शक्ति पीठ - Shri Vimalamba Shakti Peeth


updated: Sep 14, 2019 22:24 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📜 इतिहास | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ▶ वीडियो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री विमलम्बा शक्ति पीठ गोवर्धन मठ के गुरु शंकराचार्य द्वारा प्रतिस्थापन मंदिर है। जिसे पूरी के सामान्य भक्त श्री विमला मंदिर के नाम से जानते हैं। इस स्थान पर माँ सती की नाभि का रूप में जाना जाता है। कुछ विद्वान इसको जगन्नाथपुरी में भगवान श्री जगन्नाथ जी के मंदिर के प्रांगण में स्थित भैरव जगन्नाथ को पीठ मानते हैं। जबकि कुछ विद्वान पूर्णागिरि में नाभि का निपात मानते हैं। यहाँ की शक्ति विमला तथा भैरव जगन्नाथ पुरुषोत्तम हैं।

उल्कले नाभिदेशस्तु विरजाक्षेत्रनुच्यते। विमला सा महादेवी जगन्नाथस्तु भैरवः॥ [तंत्र चूड़ामणी]

जगन्नाथ धाम, हिन्दी मे जानें!
भारत के चार धाम आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार वैष्णव तीर्थ हैं। जहाँ हर हिंदू को अपने जीवन काल मे अवश्य जाना चाहिए, जो हिंदुओं को मोक्ष प्राप्त करने में मदद करेंगे। विस्तार से जानें! भारत के चार धामों के बारे में

जगन्नाथ धाम या गोवर्धन मठ?
भारत के पूर्व दिशा में स्थित जगन्नाथ पुरी उड़ीसा राज्य में स्थित है। पुरी भार्गवी व धोदिया नदी के बीच में बसा हुआ है और बंगाल की खाड़ी में विलीन हो जाती है। पुरी जगन्नाथ रथ यात्रा के लिए विश्‍व प्रसिद्ध है। द्वारका की तरह पुरी में शंकराचार्य मठ मंदिर के साथ-साथ जुड़ा नहीं है। गोवर्धन मठ मंदिर से कुछ दूरी पर देवी विमला मंदिर के साथ स्थित है।

आदि गुरु शंकराचार्य के अनुसार जगन्नाथ धाम को गोवर्धन मठ का नाम दिया गया है। गोवर्धन मठ के अंतर्गत दीक्षा प्राप्त करने वाले सन्यासियों के नाम के पीछे आरण्य नाम विशेषण लगाया जाता है। इस मठ का महावाक्य है प्रज्ञानं ब्रह्म तथा इसके अंतर्गत आने वाला वेद ऋग्वेद को रखा गया है। गोवर्धन मठ के प्रथम मठाधीश पद्मपाद थे। पद्मपाद जी आदि शंकराचार्य के प्रमुख चार शिष्यों में से एक थे।

प्रचलित नाम: श्री विमलाम्बा मंदिर, पुरी शक्ति पीठ, श्री विमला मंदिर

मुख्य आकर्षण

  • गुरु शंकराचार्य द्वारा जाग्रत श्री विमलम्बा शक्ति पीठ मंदिर।
  • गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार मठों में से एक।

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00-11:30 AM, 3:00-9:00 PM
6:00 AM: कपूर आरती
6:30 AM: मंगल आरती, स्नान
8:00 AM: बाल भोग आरती
11:30 AM: मध्यायन भोग और शयन आरती
3:00 PM: कपूर आरती
6:00 PM: संध्या आरती
8:15 PM: संध्या भोग
9:00 PM: शयन आरती
त्यौहार
Makar Sankranti, Vasant Panchami, Shivaratri, Holi, Ram Navami, Akshay Trutiya, Rukmani Vivah, Jagannath Rathyatra, Vaman Jayanti, Guru Purnima, Raksha Bandhan, Randhan Chatth, Janmashtami, Ganeshotsav|Ganesh Chaturthi, Navratri, Vijya Dashmi, valmiki jayanti|Sharad Poonam, Diwali, Tulsi Vivah | Read Also: नवरात्रि

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Shri Vimalamba Shakti Peeth - Available in English

Sri Vimalamba Shakti Peeth also known as Shri Vimla Mandir is the replacement temple by Guru Shankaracharya of Govardhan Math.

जानकारियां

धाम
YagyashalaMaa TulasiPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Prasad Shop, Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel, Washroom
धर्मार्थ सेवाएं
धर्मशाला, भोजनालय
देख-रेख संस्था
श्री गोवर्धन मठ
समर्पित
माँ सती
क्षेत्रफल
Height: 55 Feet
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध

2012

मंदिर का प्रारंभ

20 January 2017

मंदिर प्राण प्रतिष्ठा।

वीडियो प्रदर्शनी

कैसे पहुचें

पता 📧
Govardhan Math Puri Odisha
रेलवे 🚉
Puri Railway Station
हवा मार्ग ✈
Biju Patnaik International Airport
नदी ⛵
Dhaudia
वेबसाइट 📡
http://govardhanpeeth.org/
facebook
govardhanpeeth
twitter
govardhanmath
instagram
govardhanmathpuripeeth
निर्देशांक 🌐
19.794899°N, 85.817053°E
श्री विमलाम्बा शक्ति पीठ गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/vimalamba-shakti-peeth

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top