श्री राम जन्मभूमि - Shri Ram Janmabhoomi

श्री राम जन्मभूमि मंदिर भगवान विष्णु के सातवें अवतार श्रीरामचंद्र जी का अवतरण / जन्म स्थल है। उनका अवतरण त्रेता युग मे हुआ था।

भगवान श्री राम को भारत के लोग अपने आदर्श पुरुष के रूप मानते हैं, तथा उनके प्रशासनिक कौशल को दुनियाँ मे सबसे उत्तम माना जाता है, और इस कौशल को राम-राज्य के नाम से संबोधित किया जाता है। मंदिर के ही समीप स्थित नदी को, भगवान श्रीराम के मानव रूप त्याग कर वैकुण्ठ लोक प्रस्थान गमन स्थान के रूप मे मानते है।

प्रचलित नाम: श्री राम जन्मभूमि मंदिर

समय - Timings

त्यौहार
Ram Navami, Diwali, Tulsi Vivah, Makar Sankranti, Hanuman Jayanti|Hanuman Janmotsav | यह भी जानें: शारदीय नवरात्रि

जानकारियां - Information

मंत्र
जय श्री राम
स्थापना
त्रेतायुग
देख-रेख संस्था
श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र
समर्पित
श्री राम
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध - Timeline

3 Aug 2020

श्री राम मंदिर भूमि पूजन हेतु गौरी-गणेश पूजा प्रारम्भ।

5 Aug 2020

श्री राम मंदिर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संभावित भूमि पूजन।

5 Feb 2020

राम मंदिर ट्रस्ट श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की संसद मे घोषणा।

वीडियो - Video Gallery

Bhoomi Punaj Live

रामलला अस्थायी मंदिर में शिफ्ट, विशेष पूजा अर्चना के साथ शुरु हुआ।

कैसे पहुचें - How To Reach

सड़क/मार्ग 🚗
Kosi Parikrama Road
रेलवे 🚉
Ayodhya Junction, Faizabad Junction
हवा मार्ग ✈
Faizabad Airport
नदी ⛵
Ghaghara
निर्देशांक 🌐
26.795462°N, 82.194216°E
श्री राम जन्मभूमि गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/ram-janmabhoomi

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी

स्तुति श्री हिंगलाज माता और श्री विंध्येश्वरी माता सुन मेरी देवी पर्वतवासनी...

श्री हनुमान जी आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे॥

🔝