Hanuman Chalisa

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती (Avimukteshwaranand Saraswati)


भक्तिमल | अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती
वास्तविक नाम - उमाशंकर
गुरु - स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती
आराध्या - शिव जी
जन्म - 15 अगस्त 1969
जन्म स्थान - ब्राह्मणपुर गांव, प्रतापगढ़ जिला। यूपी
वैवाहिक स्थिति - अविवाहित
भाषा - गुजराती, हिंदी, अंग्रेजी
पिता - पं. रामासुर पाण्डेय
माता - श्रीमती। अनारा देवी
प्रमुख : ज्योतिष पीठ मठ के शंकराचार्य

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कक्षा 6 तक गांव में अध्ययन करने के बाद, उनके परिवार के सदस्यों ने उन्हें आगे की पढ़ाई के लिए बाहर भेज दिया। एक बार उनके पिता उन्हें गुजरात ले गए जहां उनकी मुलाकात काशी के संत रामचैतन्य से हुई। उसने बेटे को वहीं छोड़ दिया। यहीं रहकर उमाशंकर पूजा-पाठ करने लगे।

स्वामी करपात्री जी महाराज अस्वस्थ होने पर ब्रह्मचारी राम चैतन्य के साथ काशी आए और यहाँ स्वामी करपात्री जी के ब्रह्मलीन होने तक उनकी सेवा की। स्वामी करपात्री जी महाराज की सेवा में लगे रहते हुए उन्हें पुरी के पीठाधीश्वर स्वामी निरंजन देव तीर्थ तथा ज्योतिष पीठाधीश्वर स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के दर्शन व सान्निध्य प्राप्त हुआ। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से दीक्षा ली और उनके शिष्य बन गए। फिर उमाशंकर पांडे से वे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद बने। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के निधन के बाद उन्हें ज्योतिष पीठ मठ का शंकराचार्य घोषित किया गया।

पवित्र कार्य:
गंगा को राष्ट्रीय नदी घोषित करने की मांग को लेकर 2008 में उन्होंने काशी में लगातार 112 दिनों तक अनशन किया। इस दौरान उन्होंने अन्न जल का त्याग कर गंगा को राष्ट्रीय नदी घोषित करने और उसे स्वच्छ रखने के लिए ठोस पहल करने की मांग की थी। बाद में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के निर्देश पर उन्होंने अनशन समाप्त किया।

Avimukteshwaranand Saraswati in English

After the demise of Swami Avimukteshwaranand Saraswati, Swami Swaroopanand Saraswati was declared the Shankaracharya of Jyotish Peeth Math.
यह भी जानें

Bhakt Swami Avimukteshwaranand Saraswati BhaktShankaracharya Of Jyotish Peeth Math BhaktDwarka Shankaracharya Bhakt

अगर आपको यह भक्तमाल पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भक्तमाल को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देवनारायण जी

देवनारायण जी राजस्थान के स्थानीय देवता, शासक और महान योद्धा थे। उन्हें एक सिद्ध पुरुष के रूप में माना जाता है जिन्होंने अपनी उपलब्धियों का उपयोग लोक कल्याण के लिए किया था।

चैतन्य महाप्रभु

चैतन्य महाप्रभु 15वीं शताब्दी के एक भारतीय संत थे, जिन्हें उनके शिष्यों और विभिन्न शास्त्रों द्वारा राधा और कृष्ण का संयुक्त अवतार माना जाता है।

नीब करौरी बाबा

भक्तमाल | नीब करौरी बाबा | अपभ्रंश नाम - नीम करोली बाबा | वास्तविक नाम - लक्ष्मी नारायण शर्मा | आराध्य - श्री हनुमान जी

स्वामी राम शंकर

पूरी दुनिया में डिजिटल बाबा के नाम से मशहूर स्वामी राम शंकर डिजिटल और सोशल मीडिया पर अपनी आध्यात्मिक गतिविधियों के लिए जाने जाते हैं। युवाओं के बीच भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देकर लुप्त होती भारतीय परंपराओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के उनके प्रयास रंग ला रहा है।

रविदास

संत रविदास एक भारतीय रहस्यवादी, कवि, समाज सुधारक और आध्यात्मिक गुरु थे जिन्होंने भक्ति गीत, कविता और आध्यात्मिक शिक्षाओं के माध्यम से भक्ति आंदोलन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने सिख धर्म के पवित्र ग्रंथ आदि ग्रंथ के लिए 40 कविताएं भी लिखीं।

बाबा रामदेव

बाबा रामदेव एक प्रसिद्ध भारतीय योग शिक्षक हैं। उन्होंने योगासन और प्राणायाम योग के क्षेत्र में काफी योगदान दिया है। स्वामी रामदेव अब तक प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से देश-विदेश में करोड़ों लोगों को योग की शिक्षा दे चुके हैं। रामदेव खुद जगह-जगह योग शिविर लगाते हैं, जिनमें लगभग हर समुदाय के लोग आते हैं। स्वामी रामदेव टेलीविजन और अपने सामूहिक योग शिविरों के माध्यम से भारतीयों के बीच योग को लोकप्रिय बनाने के लिए प्रसिद्ध हैं।

रामभद्राचार्य

जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य भारत के चित्रकूट में स्थित एक भारतीय हिंदू आध्यात्मिक नेता, शिक्षक, संस्कृत विद्वान, बहुभाषाविद, कवि, लेखक, नाटककार और कथा कलाकार हैं।

Hanuman Chalisa - Shiv Chalisa -
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App