Hanuman Chalisa
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Ganesh Aarti Bhajan - Ram Bhajan -

कितना खर्चा आयेगा ईशा योग केंद्र जाने के लिए ? (How much will it cost to go to Isha Yoga Center ?)

कितना खर्चा आयेगा ईशा योग केंद्र जाने के लिए ?
कोयंबटूर में ईशा योग केंद्र का दौरा करने के लिए आपको कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ता है क्योंकि प्रवेश निःशुल्क है। यदि आप ध्यानलिंग और लिंग भैरवी पर जाने के लिए कुछ घंटे या एक दिन बिताना चाहते हैं तो आपको कुछ भी भुगतान नहीं करना होगा।
कैसे पहुंचें ईशा योग केंद्र कोयंबटूर
आप सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग से कोयंबटूर पहुंच सकते हैं। बैंगलोर से कोयंबटूर ईशा योग दूरी - 364.7 किमी। चेन्नई से ईशा योग कोयंबटूर की दूरी - 505.9 किमी, यह वेल्लियांगिरी पहाड़, तमिलनाडु की सीमा में है।

यदि आप आश्रम के कॉटेज में रहना चाहते हैं तो यह अनिवार्य है कि आप कमरों की अत्यधिक मांग के कारण अपनी बुकिंग की पुष्टि पहले ही कर लें। उन कमरों की कीमत आपको लगभग ₹800 रुपये प्रति दिन होगी जिसमें नाश्ता दोपहर का पेय और रात का खाना शामिल है। दोपहर के भोजन के लिए आप पास के रेस्तरां में जा सकते हैं अपना खाना खरीद सकते हैं क्योंकि आश्रम में दोपहर का भोजन नहीं दिया जाता।

ईशा योग केंद्र में शिवरात्रि की रात
अगर आप शिवरात्रि के दौरान ईशा योग केंद्र, कोयंबटूर जाने की योजना बना रहे हैं, तो खर्च बिल्कुल अलग है। यदि आप आदियोगी प्रतिमा पर शिवरात्रि की रात की जादुई झलक पाना चाहते हैं तो आपको अपनी सीट पहले से बुक करनी होगी जो ₹0(निःशुल्क) से शुरू होकर ₹50000 रुपये तक है।

कोयंबटूर पहुंचने के बाद, आप ईशा योग केंद्र तक पहुंचने के लिए बस ले सकते हैं। मुश्किल से ₹40 रुपये खर्च होंगे। यदि आप टैक्सी या ऑटो बुक करते हैं तो इसकी कीमत लगभग ₹1000 होगी। रिटर्न कैब आप ईशा फाउंडेशन से बुक कर सकते हैं (उनके पास टैक्सी की सुविधा है, यात्रा से 4 घंटे पहले बुक करने की आवश्यकता है), जो एक ए/सी के लिए ₹900/- रुपये चार्ज करता है। लेकिन शिवरात्रि के समय वापसी वाहन मिलना बहुत कठिन है, इसलिए सतर्क रहें।

शिवरात्रि के दौरान आपको ईशा फाउंडेशन से मुफ्त भोजन मिलता है। कोई चित्र अपलोड नहीं किया जाता है क्योंकि यह प्रतिबंधित है। यह एक अच्छी जगह है, आप महसूस करेंगे कि आप भारत के सबसे स्वच्छ गांव में हैं। यहां आप शिवरात्रि की रात में शाश्वत परमात्मा को महसूस कर सकते हैं।

तो चेन्नई और बंगलौर से लगभग ₹6000 से ₹10000 लागत के साथ आप आदियोगी महाशिवरात्रि की अद्भुत रात देख सकते हैं।

How much will it cost to go to Isha Yoga Center ? in English

With around ₹6000 to ₹10000 cost from chennai and bangalore you can watch a wonderful night of adiyogi mahashivratri.
यह भी जानें

Blogs Adiyogi BlogsMahashivratri BlogsIsha Yoga Center BlogsShivratri In Isha Yoga Cetner BlogsCoimbatore Adiyogi Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

भक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

ISKCON

ISKCON संप्रदाय के भक्त भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानते हैं। इनके द्वारा गाये जाने वाले भजन, मंत्र एवं गीतों का कुछ संग्रह यहाँ सूचीबद्ध किया गया है, सभी सनातनी परम्परा के भक्त इसका आनंद लें।

भगवान श्री विष्णु के दस अवतार

भगवान विष्‍णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। भगवान श्री विष्णु के दस अवतार यानी दशावतार की प्रामाणिक कथाएं।

वृन्दावन होली कैलेंडर

होली का त्योहार देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन कान्हा की नगरी मथुरा में रंगों का यह त्योहार 40 दिनों तक चलता है, जिसकी शुरुआत वसंत पंचमी के दिन से होती है।

होली विशेष 2024

आइए जानें! भारत मे तीन दिनों तक चलने वाला तथा ब्रजभूमि मे पाँच दिनों तक चलने वाले इस उत्सव से जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ एवं भजन...

माघ मास 2024

हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ का महीना ग्यारहवां महीना होता है। माघ मास की पूर्णिमा चन्द्रमा और अश्लेषा नक्षत्र में होती है, इसलिए इस मास को माघ मास कहा जाता है। माघ मास में सुख-शांति और समृद्धि के लिए पूजा किया जाता है।

नर्मदा परिक्रमा यात्रा

हिंदू पुराणों में नर्मदा परिक्रमा यात्रा का बहुत महत्व है। मा नर्मदा, जिसे रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है, पश्चिम की ओर बहने वाली सबसे लंबी नदी है। यह अमरकंटक से निकलती है, फिर ओंकारेश्वर से गुजरती हुई गुजरात में प्रवेश करती है और खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

नर्मदा यात्रा में डिजिटल बाबा

प्रसिद्ध डिजिटल बाबा एक युवा संन्यासी हैं जिनका वास्तविक नाम स्वामी राम शंकर है। जो सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक भारतीय संस्कृति से अवगत कराते रहते हैं। वह युवाओं को जीवन में अध्यात्म का महत्व समझाते रहते हैं। डिजिटल बाबा स्वामी राम शंकर क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध नर्मदा परिक्रमा कर रहे हैं। नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस कार्य से जुड़े लोगों के बीच जाकर डिजिटल बाबा सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

Hanuman Chalisa -
Hanuman Chalisa -
×
Bhakti Bharat APP