Hanuman Chalisa

जैन धर्म विशेष (Jain Dharm Specials)

जैन धर्म विशेष

आइए जानें! जैन धर्म से जुड़ी कुछ जानकारियाँ, प्रसिद्ध भजन, जैन मंत्र, जैन मंदिर एवं जैन आरतियाँ तथा सम्वन्धित अन्य प्रेरक तथ्य। साथ ही साथ जानिए दशलक्षण पर्व के बारे में और महावीर जयंती उत्सव कहाँ और कैसे मनाये।

जैन व्रत एवं त्यौहार क्यों कब, कहाँ और कैसे?
दशलक्षण पर्व - Daslakshan Parva
महावीर जन्म कल्याणक - Mahavir Janma Kalyanak
श्रुत पंचमी - Shrut Panchami

आरती:
पंच परमेष्ठी आरती
आरती: ॐ जय महावीर प्रभु
आरती: श्री महावीर भगवान | जय सन्मति देवा
आरती: ॐ जय महावीर प्रभु
आरती: भगवान श्री शीतलनाथ जी

मंत्र:
णमोकार महामंत्र
भक्तामर स्तोत्र
सर्व भयानक रोग नाशक मंत्र

भजन:
मेरी भावना: जिसने राग-द्वेष कामादिक - जैन पाठ
तुम से लागी लगन.. पारस प्यारा
नाकोड़ा के भैरव तुमको आना होगा

मंदिर:
प्रसिद्ध जैन मंदिर
श्री शौरीपुर बटेश्वर दिगंबर जैन सिद्ध क्षेत्र
लाल मंदिर, दिल्ली
प्राचीन दिगम्बर जैन मंदिर, बड़ागाँव
जैन बड़ा मंदिर, हस्तिनापुर
जैन मंदिर, फिरोजाबाद
वसुंधरा जैन मंदिर

ब्लॉग:
जैन ध्वज क्या है?

Jain Dharm Specials in English

Lets know some related information, famous hymns and other inspiring facts related to Jainism..

Blogs Jain BlogsJainism BlogsJain Mandir Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

विजयदशमी स्पेशल

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

मैसूर दशहरा

मैसूर दशहरा 10 दिनों तक चलने वाला त्योहार है जो बहुत ही धूमधाम के साथ मैसूर में मनाया जाता है | मैसूर दशहरा कैसे मनाया जाता है? | मैसूर दशहरा महोत्सव 2022 कब शुरू होगा

आयुध पूजा

आयुध पूजा बुराई पर अच्छाई की जीत और देवी दुर्गा द्वारा राक्षस महिषासुर के विनाश के उत्सव का प्रतीक है। इसे नवरात्रि उत्सव के हिस्से के रूप में मनाया जाता है। आयुध पूजा के लिए, देवी सरस्वती, पार्वती माता और लक्ष्मी देवी को पूजा जाता है। दक्षिण भारत में विश्वकर्मा पूजा के समान लोग अपने उपकरणों और शस्त्रों की पूजा करते हैं।

कोलकाता का दुर्गा पूजा समारोह

कोलकाता में दुर्गा पूजा उत्सव का माहौल कुछ अलग ही होता है। यहाँ की दुर्गा पूजा विश्व प्रसिद्ध है और इसे 2021 में मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की यूनेस्को की प्रतिनिधि सूची में भी शामिल किया गया था। हर साल, कोलकाता दुर्गा पूजा पंडालों में एक नई थीम लाता है, जो अपने तरीके से अद्वितीय और अभिनव हैं।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

दुर्गा पूजा धुनुची नृत्य

धुनुची नृत्य नाच दुर्गा पूजा के दौरान किया जाने वाला एक भक्ति नृत्य है और यह बंगाल की पारंपरिक नृत्य है। मां दुर्गा को धन्यवाद प्रस्ताव के रूप में पेश किया जाने वाला नृत्य शाम की दुर्गा आरती में ढाक बाजा, उलू ध्वनि की ताल पर किया जाता है।

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App