राहुकाल क्या होता है? (What is Rahu Kaal?)

राहु ग्रह को एक पाप ग्रह माना गया है। हमारे धार्मिक ग्रंथों में राहु को शुभ कार्यों में बाधक ग्रह बताया गया है, इसलिए राहुकाल में कोई भी शुभ कार्य या यात्रा शुरू नहीं करनी चाहिए।

राहु कलाम दिन का सबसे प्रतिकूल समय है, इस समय किए गये कार्य अनुकूल परिणाम नहीं देते हैं। ग्रहों के गोचर में हर दिन सभी ग्रहों का एक निश्चित समय होता है, इसलिए राहु के लिए भी हर समय एक दिन आता है, जिसे राहु काल कहा जाता है।

राहुकाल का समय:
राहु काल कभी भी दिन के पहले भाग में नहीं आता है। यह कभी दोपहर में तो कभी शाम को आती है और सूर्यास्त से पहले गिर जाता है। राहुकाल कभी रात में नहीं आता

राहुकाल का समय कैसे पता करें:
राहु काल को खोजने के लिए ज्योतिष में एक नियम बनाया गया है। इसके अनुसार सूर्योदय से सूर्यास्त तक के पूरे दिन को आठ बराबर भागों में बांटा गया है। इसमें सूर्योदय का प्रातः ६ बजे तथा सूर्यास्त का सायं ६ बजे का मानक समय होता है। इसलिए सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक का समय 12 घंटे था।

अगर आप इस 12 घंटे को 8 बराबर भागों में बांट दें तो एक हिस्सा करीब डेढ़ घंटे का होता है। ज्योतिषी हमेशा शुभ मुहूर्त की गणना करते समय इन 90 मिनटों को छोड़ देते हैं। अलग-अलग जगहों पर सूर्योदय-सूर्यास्त का अलग-अलग समय होने के कारण इस समय में कुछ मिनटों का अंतर हो सकता है।

ज्योतिष के अनुसार राहुकाल को कैसे विभाजित करें:
दिन का दूसरा भाग सोमवार को सुबह 7.30 बजे से रात 9 बजे तक
शनिवार को दिन के तीसरे भाग में सुबह 9 बजे से 10.30 बजे तक
शुक्रवार को दिन के चौथे पहर सुबह 10.30 बजे से दोपहर 12 बजे तक
बुधवार को दिन के पांचवें पहर दोपहर 12 बजे से 1.30 बजे तक।
गुरुवार को दिन का छठा भाग दोपहर 1.30 बजे से दोपहर 3 बजे तक
मंगलवार को दिन का सातवां भाग दोपहर 3 बजे से शाम 4.30 बजे तक
रविवार को, दिन का आठवां भाग, शाम 4.30 बजे से शाम 6 बजे तक

राहु काल की अवधि भी अलग-अलग स्थानों पर सूर्योदय और सूर्यास्त के समय के अनुसार बदलती रहती है।

What is Rahu Kaal? in English

In the transit of planets, all the planets have a fixed time each day, so every time a day comes for Rahu also, which is called Rahu Kaal.
यह भी जानें

Blogs Rahu Kaal BlogsAsubh Kaal BlogsRahu Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

वैदिक पौराणिक शंख

वैदिक पौराणिक शंख, शंख के नाम एवं प्रकार, शंख की महिमा, भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन, भीमसेन, युधिष्ठिर, नकुल, सहदेव, सहदेव, भीष्म के शंख का क्या नाम था?

राहुकाल क्या होता है?

ग्रहों के गोचर में हर दिन सभी ग्रहों का एक निश्चित समय होता है, इसलिए राहु के लिए भी हर समय एक दिन आता है, जिसे राहु काल कहा जाता है।

पंडित जी, वैशाली गाज़ियाबाद

वैशाली, इंदिरापुरम एवं वसुंधरा क्षेत्र के प्रतिष्ठित पंडित जी से आप भक्ति-भारत के द्वारा सम्पर्क कर सकते हैं।

`तिथि` क्या है और इसकी गणना कैसे की जाती है?

तिथि को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि 'चंद्र रेखा' को 'सूर्य रेखा' से 12 अंश ऊपर जाने में लगने वाला समय को तिथि कहते हैं।

(कृष्ण और शुक्ल) पक्ष क्या है?

हिन्दू पंचांग में एक महीने को 30 दिनों में विभाजित किया गया है। इसे 30 दिनों को फिर दो पक्षों में बांटा गया है। 15 दिनों के एक पक्ष को शुक्ल पक्ष और शेष 15 दिनों को कृष्ण पक्ष माना जाता है। चन्द्रमा की आकार के अनुसार शुक्ल और कृष्ण पक्ष गणना किया गया है।

सावित्री अमावस्या उत्सव

सावित्री व्रत ओडिशा और भारत के पूर्वी हिस्सों में विवाहित महिलाओं द्वारा पति के लिए मनाया जाता है।

पंचांग का अर्थ क्या है?

हिंदू कैलेंडर में पंचांग एक अनिवार्य हिस्सा है, जो हिंदू रीति-रिवाजों की पारंपरिक इकाइयों का पालन करता है, और महत्वपूर्ण तीथियां प्रस्तुत करता है और एक सारणीबद्ध रूप में गणना करता है।

🔝