Download Bhakti Bharat APP

मंडला पूजा क्या है? (What is Mandala Puja?)

मंडला पूजा, शास्त्रों में निर्धारित सभी तपस्या और दिनचर्या के साथ 41 दिनों की लंबी अवधि पूरे कठोर रीती रिवाज़ के साथ पालन किया जाने वाला अनुष्ठान है। मंडला पूजा के दौरान भक्त व्रत रखता है, वह उसकी आत्मा को शुद्ध करने और दृष्टि की स्पष्टता को बढ़ाने में मदद करता है। मंडला पूजा के माध्यम से भक्त को अविश्वसनीय पवित्र वरदान मिलता है। आमतौर पर मंडला पूजा भक्त देवता को प्रसन्न करने के लिए की जाती है, चाहे वह भगवान का कोई भी रूप हो। हिंदू धर्म में मंडला शब्द 41 दिनों की लंबी अवधि से मेल खाता है। अक्सर कई खेत्रो मैं पूजा, अनुष्ठान के लिए मंडला अवधि निर्धारित की जाती है।

मंडला पूजा के नियम:
मंडला पूजा करने वाले भक्त को 41 दिनों के दौरान प्रक्रियाओं, दिनचर्या और अनुशासन पालन करने की आवश्यकता होती है। मंडला पूजा आमतौर पर एक कुशल गुरु से दीक्षा प्राप्त करने के साथ शुरू होती है, जो वेदों और शास्त्रों में बहुत बड़ा गुणी हो।

मंडला पूजा का पालन कैसे करें
❀ भक्त को प्रतिदिन सुबह जल्दी स्नान करना चाहिए, एक विशेष प्रकार के कपड़े और तुलसी की माला को उस देवता के साथ धारण करना चाहिए जिसे भक्त प्रसन्न करना चाहता है। आमतौर पर, इस माला को गुरु द्वारा आशीर्वाद दिया जाता है और मंडला पूजा की शुरुआत में उम्मीदवार को दिया जाता है।
❀ मंडला पूजा करने के लिए मन्नत लेने के बाद, भक्त दिन में दो बार सुबह और शाम घर पर पूजा करता है और देवता के मंदिर में भी जाता है।
❀ मंडला पूजा के समापन के बाद, भक्त अपने पसंदीदा देवता के मंदिर की तीर्थ यात्रा करता है।
❀ मंडला पूजा अवधि के दौरान मांसाहारी भोजन, किसी भी तरह का भोग, मनोरंजन, मसालेदार भोजन, झूठ, अनैतिक कार्य, बुरी संगति, बुरे विचार और अनुचित व्यवहार सभी निषिद्ध हैं।

मंडला पूजा का समापन
❀ मंडला पूजा अवधि के दौरान, गुरुवायुर के मंदिर में लगभग उसी समय विशेष समारोह और नियमित समारोह आयोजित किए जाते हैं जैसे सबरीमाला में किया जाता है। दैनिक आधार पर, देवता को पंचगव्य के साथ पवित्र स्नान दिया जाता है।
❀ 41 दिनों के बाद भक्त अपना मंडला पूजा बिधि समाप्त करने के लिए मंदिर दर्शन करने जाता है और नतमस्तक होकर अपना पूजा समाप्त करता है।

पूरी अवधि के दौरान, तीर्थ स्थल पर आने वाले भक्तों के साथ मंदिर उत्सव मुखरित रहता है। यह पूजा बिधि के तरीके दक्षिण भारत में ज्यादातर प्रचलित है जो की अभी पुरे भारत बर्ष में प्रचलित होने लगा है।

What is Mandala Puja? in English

Mandala Puja, a long period of 41 days with all the austerities and routines prescribed in the scriptures, is followed with strict rituals.
यह भी जानें

Blogs Mandala Puja Blogs41 Day Worship BlogsAyyappa Swami BlogsSabarimala BlogsSouth India Festival BlogsSwami BlogsGanesh Bhagwan Mandala Puja BlogsShiv Ji Mandala Puja Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अष्ट सिद्धि और नौ निधियों के दाता का क्या अर्थ है?

भगवान श्री राम के प्रिय भक्त प्रभु हनुमान जी को अष्ट सिद्धि और नौ निधि के दाता के रूप में जाना जाता है। हनुमान चालीसा की एक चौपाई भी है “अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता अस बर दीन जानकी माता”। अर्थात हनुमान जी की भक्ति से व्यक्ति के जीवन में आठ प्रकार की सिद्धियाँ और नौ प्रकार की निधियाँ प्राप्त होती हैं।

विजयदशमी स्पेशल

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

मैसूर दशहरा

मैसूर दशहरा 10 दिनों तक चलने वाला त्योहार है जो बहुत ही धूमधाम के साथ मैसूर में मनाया जाता है | मैसूर दशहरा कैसे मनाया जाता है? | मैसूर दशहरा महोत्सव 2022 कब शुरू होगा

आयुध पूजा

आयुध पूजा बुराई पर अच्छाई की जीत और देवी दुर्गा द्वारा राक्षस महिषासुर के विनाश के उत्सव का प्रतीक है। इसे नवरात्रि उत्सव के हिस्से के रूप में मनाया जाता है। आयुध पूजा के लिए, देवी सरस्वती, पार्वती माता और लक्ष्मी देवी को पूजा जाता है। दक्षिण भारत में विश्वकर्मा पूजा के समान लोग अपने उपकरणों और शस्त्रों की पूजा करते हैं।

कोलकाता का दुर्गा पूजा समारोह

कोलकाता में दुर्गा पूजा उत्सव का माहौल कुछ अलग ही होता है। यहाँ की दुर्गा पूजा विश्व प्रसिद्ध है और इसे 2021 में मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की यूनेस्को की प्रतिनिधि सूची में भी शामिल किया गया था। हर साल, कोलकाता दुर्गा पूजा पंडालों में एक नई थीम लाता है, जो अपने तरीके से अद्वितीय और अभिनव हैं।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

Durga Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App