(कृष्ण और शुक्ल) पक्ष क्या है? (What is (Krishna and Shukla) Paksha?)

हिन्दू शास्त्र में तिथि, दिनांक का विशेष महत्व है। पंचांग को हिन्दू कैलेण्डर माना जाता है और दैनिक पंचांग में, जहां एक विशेष दिन का, मासिक पंचांग में पूरे महीने का विवरण दिया जाता है। हिन्दू पंचांग में एक महीने को 30 दिनों में विभाजित किया गया है। इसे 30 दिनों को फिर दो पक्षों में बांटा गया है। 15 दिनों के एक पक्ष को शुक्ल पक्ष और शेष 15 दिनों को कृष्ण पक्ष माना जाता है। चन्द्रमा की आकार के अनुसार शुक्ल और कृष्ण पक्ष गणना किया गया है।

आइए जानते हैं वैदिक शास्त्रों में इन दोनों पहलुओं का महत्व।

कृष्ण पक्ष:
कृष्ण पक्ष पूर्णिमा और अमावस्या के बीच के भाग को कहते हैं। पूर्णिमा के अगले दिन कृष्ण पक्ष की शुरुआत होती है, जो अमावस्या के दिन तक 15 दिनों तक चलती है।

कृष्ण पक्ष में शुभ कार्य निषेध हैं, ऐसा माना जाता है कि जब भी कृष्ण पक्ष होता है तो उस दौरान कोई भी शुभ कार्य करना उचित नहीं होता है। दरअसल, इसके पीछे ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा के घटते चरण को बताया गया है।

जैसे-जैसे पूर्णिमा के बाद दिन बढ़ता है, चंद्रमा की रोशनी कमजोर होने लगती है। चंद्रमा के आकार और प्रकाश के कम होने के साथ ही रातें काली पड़ने लगती हैं। इस कारण भी कृष्ण पक्ष को शुभ नहीं माना जाता है। कृष्ण पक्ष तिथियां की गणना - 15 दिन (पूर्णिमा, प्रतिपदा, प्रतिपदा, तृतीया, चतुर्थी, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी, चतुर्दशी)

शुक्ल पक्ष:
अमावस्या और पूर्णिमा के बीच का भाग शुक्ल पक्ष कहलाता है। अमावस्या के बाद के 15 दिनों को शुक्ल पक्ष कहा जाता है। अमावस्या के अगले ही दिन से चन्द्रमा उदय होने लगता है और अँधेरी रात चन्द्रमा के प्रकाश में चमकने लगती है।

पूर्णिमा के दिन चंद्रमा बहुत बड़ा और प्रकाश से भरा होता है। इस समय के दौरान चंद्रमा अपने पूर्ण आकार में रहते हैं, इसलिए यह पहलू किसी भी शुभ कार्य को करने के लिए शुक्ल पक्ष उपयुक्त माना जाता है। शुक्ल पक्ष तिथियां की गणना- 15 दिन (अमावस्या, प्रतिपदा, प्रतिपदा, तृतीया, चतुर्थी, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी, चतुर्दशी)

यदि आपकी भी पंचांग में आस्था है तो अपना विशेष कार्य शुक्ल पक्ष में ही करें।

What is (Krishna and Shukla) Paksha? in English

Monthly Panchang i.e. a month in the Hindu calendar is divided into 30 days. These 30 days is divided into two sides. In which one Paksha of 15 days is called Shukla Paksha and the remaining 15 days is called Krishna Paksha. The more and lesser phases of the Moon are called Shukla and Krishna Paksha.
यह भी जानें

Blogs Paksh BlogsKrishna Paksha BlogsShukla Paksha BlogsPanchang Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

वैदिक पौराणिक शंख

वैदिक पौराणिक शंख, शंख के नाम एवं प्रकार, शंख की महिमा, भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन, भीमसेन, युधिष्ठिर, नकुल, सहदेव, सहदेव, भीष्म के शंख का क्या नाम था?

राहुकाल क्या होता है?

ग्रहों के गोचर में हर दिन सभी ग्रहों का एक निश्चित समय होता है, इसलिए राहु के लिए भी हर समय एक दिन आता है, जिसे राहु काल कहा जाता है।

पंडित जी, वैशाली गाज़ियाबाद

वैशाली, इंदिरापुरम एवं वसुंधरा क्षेत्र के प्रतिष्ठित पंडित जी से आप भक्ति-भारत के द्वारा सम्पर्क कर सकते हैं।

`तिथि` क्या है और इसकी गणना कैसे की जाती है?

तिथि को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि 'चंद्र रेखा' को 'सूर्य रेखा' से 12 अंश ऊपर जाने में लगने वाला समय को तिथि कहते हैं।

(कृष्ण और शुक्ल) पक्ष क्या है?

हिन्दू पंचांग में एक महीने को 30 दिनों में विभाजित किया गया है। इसे 30 दिनों को फिर दो पक्षों में बांटा गया है। 15 दिनों के एक पक्ष को शुक्ल पक्ष और शेष 15 दिनों को कृष्ण पक्ष माना जाता है। चन्द्रमा की आकार के अनुसार शुक्ल और कृष्ण पक्ष गणना किया गया है।

सावित्री अमावस्या उत्सव

सावित्री व्रत ओडिशा और भारत के पूर्वी हिस्सों में विवाहित महिलाओं द्वारा पति के लिए मनाया जाता है।

पंचांग का अर्थ क्या है?

हिंदू कैलेंडर में पंचांग एक अनिवार्य हिस्सा है, जो हिंदू रीति-रिवाजों की पारंपरिक इकाइयों का पालन करता है, और महत्वपूर्ण तीथियां प्रस्तुत करता है और एक सारणीबद्ध रूप में गणना करता है।

🔝