💦गंगा सागर मेला - Gangasagar Mela

Gangasagar Mela Date: Saturday, 14 January 2023
गंगासागर मेला मकर संक्रांति से 2-3 दिन पूर्व से प्रारंभ होकर, मकर संक्रांति के दिन अपनी चर्म सीमा पर होता है। गंगासागर मेला को अध्यात्मिक जन के बीच गंगासागर स्नान अथवा गंगासागर यात्रा के रूप में जाना जाता है।

गंगासागर मेला मकर संक्रांति से 2-3 दिन पूर्व से प्रारंभ होकर, मकर संक्रांति के दिन अपनी चर्म सीमा पर होता है। गंगासागर मेला को अध्यात्मिक जन के बीच गंगासागर स्नान अथवा गंगासागर यात्रा के रूप में जाना जाता है। गंगासागर मेला संक्रांति के आधार पे मनाया जाता है अतः यह स्नान पर्व तिथि के अनुसार ना मानते हुए, प्रत्येक वर्ष आमतौर पर 14 तथा 15 जनवरी के बीच मनाया जाता है।

गंगासागर, बंगाल की खाड़ी में कई एकड़ खुले आकाश के नीचे फैला गंगा के डेल्टा द्वारा निर्मित रेत का एक द्वीप है। गंगासागर स्नान की व्याख्या आपको इस एक कथन से पूर्णरूप से प्राप्त होजाएगी, सब तीर्थ बार बार, गंगासागर एक बार

अनुष्ठान से जुड़ी सभी लाइव जानकारियों को जानने के लिए पश्चिम बंगाल राज्य सरकार द्वारा चलाई गई अधिकृत वेबसाइट पर संपर्क करें: gangasagar.in

संबंधित अन्य नाम
गंगासागर स्नान, गंगासागर यात्रा

Gangasagar Mela in English

Gangasagar Mela starts from 2-3 days before Makar Sankranti and takes place at its peak on the day of Makar Sankranti. Gangasagar Mela is known among the spiritual masses as Gangasagar Snan or Gangasagar Yatra.

महत्वपूर्ण अनुष्ठान

❀ गंगासागर के धार्मिक प्रमुख एवं महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में प्रातः गांगजी में स्नान ही है।
❀ सर्वप्रथम नागा साधुओं एवं हिमालय से आए संत-संन्यासी शाही स्नान लेते हैं।
❀ उसके उपरांत ही भक्तगण गंगासागर स्नान का आनंद लेते हैं।
❀ श्रद्धालु सूर्य देवकी आराधना एवं अपने पूर्वजों का तर्पण करते हैं।
❀ कपिल मुनि के मंदिर में यज्ञ के साथ महापूजा का आयोजित किया जाता है।
❀ संध्याकालीन समुद्र देव की आरती के साथ दीपदान का विशाल कार्यक्रम देखने को मिलता है।

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
14 January 202414 January 2025
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
पौष / माघ
समाप्ति तिथि
पौष / माघ
महीना
जनवरी
कारण
मकर संक्रांति का पवित्र दिन।
उत्सव विधि
सूर्य भगवान की उपासना, गंगा स्नान, दीपदान।
महत्वपूर्ण जगह
गंगा सागर।
पिछले त्यौहार
Snan: 14 January 2022, Yatra Begins: 10 January 2022
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

Download BhaktiBharat App