भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा! (Bharat Ke Liye Bhagwan Ka Ek Vardan Hai Maa Ganga)


भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा!

भारत के लिए भगवन का
एक वरदान है गंगा
सच पूछो तो इस देश की
पहचान है गंगा

हर हर गंगे, हर हर गंगे !
हर हर गंगे, हर हर गंगे !

गिरिराज हिमालय की बेटी
ये महान है गंगा
भारत माता के मस्तक का
अभिमान है गंगा

इस धरती के बेटो पर
एक अहसान है गंगा
लाखो करोडो होठो की
मुस्कान है गंगा

गंगा ही हिंदुस्तान
हिंदुस्तान है गंगा
सच पूछो तो इस देश की
पहचान है गंगा

हर हर गंगे, हर हर गंगे !
हर हर गंगे, हर हर गंगे !

है कोटि कोटि देवो के मदिर
इसके किनारे
मंगल ध्वनिया होती है
जहा पर सांझ सतरे

जुग जुग से इस माता ने
हमारे भाग्य सवेरे
ये जहा गयी बन गए
वह पर तीरथ प्यारे

इस अपनी प्यारी जन्म भूमि
की जान है गंगा
सच पूछो तो इस देश की
पहचान है गंगा

हर हर गंगे, हर हर गंगे !
हर हर गंगे, हर हर गंगे !

भारत के लिए भगवन का
एक वरदान है गंगा
सच पूछो तो इस देश की
पहचान है गंगा

हर हर गंगे, हर हर गंगे !
हर हर गंगे, हर हर गंगे !

Bharat Ke Liye Bhagwan Ka Ek Vardan Hai Maa Ganga in English

Bharat Ke Lie Bhagwan Ka, Ek Vardan Hai Ganga, Sach Puchho to Is Desh Ki, Pahachan Hai Ganga, Har Har Gange, Har Har Gange
यह भी जानें

Bhajan Ganga BhajanMaa Ganga BhajanPradeep Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ: भजन

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ, मैया जब तक जियु मैं सुहागन जियु,..

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया: भजन

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया । उनके घर में आनंद ही आनंद हो गया..

घर में पधारो गजानन जी: भजन

घर में पधारो गजाननजी, मेरे घर में पधारो, ग्रह प्रवेश के समय गाए जाने वाला पॉपुलर श्री गणेश भजन...

बाबा का दरबार सुहाना लगता है: भजन

बाबा का दरबार सुहाना लगता है, भक्तों का तो दिल दीवाना लगता है ॥...

अवध में छाई खुशी की बेला: भजन

​अवध में छाई खुशी की बेला, लगा है, अवध पुरी में मेला । चौदह साल वन में बिताएं..

राधा के मन में, बस गए श्याम बिहारी: भजन

श्याम रंग में रंग गई राधा, भूली सुध-बुध सारी रे, राधा के मन में...

बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई: भजन

बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई, लाडला कन्हैया मेरा कृष्ण कन्हाई, कुञ्ज गली में ढूंढें तुम्हे राधा प्यारी..

मंदिर

Download BhaktiBharat App Go To Top