close this ads

आरती: श्री गंगा मैया जी


हर हर गंगे, जय माँ गंगे,
हर हर गंगे, जय माँ गंगे॥

ॐ जय गंगे माता श्री जय गंगे माता।
जो नर तुमको ध्याता मनवांछित फल पाता॥

चंद्र सी जोत तुम्हारी जल निर्मल आता।
शरण पडें जो तेरी सो नर तर जाता॥ ॐ जय ॥

पुत्र सगर के तारे सब जग को ज्ञाता।
कृपा दृष्टि तुम्हारी त्रिभुवन सुख दाता॥ ॐ जय ॥

एक ही बार जो तेरी शारणागति आता।
यम की त्रास मिटा कर परमगति पाता॥ ॐ जय ॥

आरती मात तुम्हारी जो जन नित्य गाता।
दास वही सहज में मुक्त्ति को पाता॥ ॐ जय ॥

ॐ जय गंगे माता श्री जय गंगे माता।
जो नर तुमको ध्याता मनवांछित फल पाता॥

Read Also:
» गंगा दशहरा - Ganga Dussehra
» श्री गंगा चालीसा
» प्रेरक कहानी: बिना श्रद्धा और विश्वास के, गंगा स्नान!

Hindi Version in English

Har Har Gange, Jai Maa Gange,
Har Har Gange, Jai Maa Gange॥

Om Jay Gange Mata Shri Jay Gange Mata।
Jo Nar Tumako Dhyata Manavanchit Phal Pata॥

Chandr Si Jot Tumhari Jal Nirmal Aata।
Sharan Paden Jo Teri so Nar Tar Jata॥ Om Jay ॥

Putr Sagar Ke Tare Sab Jag Ko Gyata।
Kripa Drshti Tumhari Tribhuvan Sukh Data॥ Om Jay ॥

Ek Hi Bar Jo Teri Sharanagati Aata।
Yam Ki Traas Mita Kar Paramagati Pata॥ Om Jay ॥

Aarti Maat Tumhari Jo Jan Nity Gata।
Das Vahi Sahaj Mein Muktti Ko Pata॥ Om Jay ॥

Om Jay Gange Mata Shri Jay Gange Mata।
Jo Nar Tumako Dhyata Manavanchit Phal Pata॥

AartiMaa Ganga AartiMata Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

श्री भगवत भगवान की है आरती!

श्री भगवत भगवान की है आरती, पापियों को पाप से है तारती।

आरती श्री भगवद्‍ गीता!

जय भगवद् गीते, जय भगवद् गीते। हरि-हिय-कमल-विहारिणि सुन्दर सुपुनीते॥

मां नर्मदाजी आरती!

ॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनंद कन्दी। ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा शिव हर‍ि शंकर, रुद्रौ पालन्ती।

प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये।

पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये। छोड़ देवें छल कपट को, मानसिक बल दीजिये॥

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

आरती: सीता माता की

आरती श्री जनक दुलारी की। सीता जी रघुवर प्यारी की॥

आरती: श्री बालाजी

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी तुम हो रनधीरा॥

Latest Mandir

^
top