Hanuman Chalisa
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Om Jai Jagdish Hare Aarti - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

✨गायत्री जयंती - Gayatri Jayanti

Gayatri Jayanti Date: Friday, 6 June 2025
Gayatri Jayanti

हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को गायत्री जयंती मनाई जाती है। हिन्दू शास्त्रों में माता गायत्री को वेदों की माता कहा गया है। मां गायत्री के 10 हाथ और 5 मुख हैं। जिनमें से 4 मुख वेदों के प्रतीक हैं और पांचवां मुख सर्वशक्तिमान शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। वही दस हाथ भगवान विष्णु के प्रतीक हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, गायत्री देवी भगवान ब्रह्मा की पत्नी हैं और उनका मूल रूप श्री सावित्री देवी है।

देवी गायत्री कौन हैं?
ऐसा माना जाता है कि सृष्टि के आरंभ में गायत्री मंत्र भगवान ब्रह्मा को प्रकट हुआ था। माता गायत्री की कृपा से ब्रह्मा जी ने अपने चार मुखों से चार वेदों के रूप में गायत्री मंत्र की व्याख्या की। उन्हें सावित्री और वेदमाता (वेदों की माता) के रूप में भी जाना जाता है। गायत्री को अक्सर वेदों में सौर देवता सावित्री के साथ जोड़ा जाता है। स्कंद पुराण, सरस्वती या उनके रूप जैसे कई ग्रंथों के अनुसार गायत्री का दूसरा नाम है और भगवान ब्रह्मा की पत्नी है।

संबंधित अन्य नामगायत्री जयंती
शुरुआत तिथिज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि
कारणमाता गायत्री
उत्सव विधिघर में प्रार्थना, भजन, कीर्तन

Gayatri Jayanti in English

According to Hindu calendar, every year on Ekadashi tithi of Shukla Paksha of Jyestha month is celebrated as Gayatri Jayanti. In Hindu scriptures, mata Gayatri has been called the mata of the Vedas. Maa Gayatri has 10 hands and 5 faces. Out of which 4 faces symbolize the Vedas and the fifth face represents the almighty power. The same ten hands are the symbol of Bhagwan Vishnu. According to mythology, Gayatri Devi is the consort of Bhagwan Brahma and her original form is Shri Savitri Devi.

गायत्री मंत्र का क्या महत्व है?

गायत्री मंत्र के जाप से हम अपने क्रोध को शांत कर सकते हैं, गायत्री मंत्र के जाप से हम शरीर के कई रोगों से छुटकारा पा सकते हैं। मान्यता है कि इसके उच्चारण से रक्त का संचार ठीक प्रकार से होता है, इसके अलावा इसका जाप भी दमा के रोगियों के लिए अत्यंत लाभकारी बताया गया है।

गायत्री जयंती पूजा विधि

❀ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सभी कार्यों से निवृत्त होकर स्नान करें।
❀ अब मां गायत्री का ध्यान करते हुए लाल रंग का साफ कपड़ा चौकी में या पूजा घर में बिछा दें। अब मां गायत्री की मूर्ति या चित्र स्थापित करें।
❀ अब माता गायत्री को जल, फूल, माला, सिंदूर, अक्षत अर्पित करें।
❀ फिर धूप-दीप जलाकर माता का ध्यान करते हुए गायत्री मंत्र का जाप करें।
❀ अंत में माता गायत्री जी की आरती उतारें और गलती के लिए क्षमा मांगें।

गायत्री मंत्र

'ऊं भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि। धियो यो न: प्रचोदयात्।।

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
25 June 202614 June 20273 June 202822 June 2029
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
शुरुआत तिथि
ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि
महीना
मई - जून
कारण
माता गायत्री
उत्सव विधि
घर में प्रार्थना, भजन, कीर्तन
पिछले त्यौहार
17 June 2024, 31 May 2023
अगर आपको यह त्योहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस त्योहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP