☂️वामन जयन्ती - Vamana Jayanti

Vamana Jayanti Date: 7 September 2022
त्रेता युग में भगवान विष्णु के पाँचवें अवतार भगवान वामन के अवतरण दिवस को वामन जयंती के रूप मे मनाया जाता है।

त्रेता युग में भगवान विष्णु के पाँचवें अवतार भगवान वामन के अवतरण दिवस को वामन जयंती के रूप मे मनाया जाता है। भगवान वामन का अवतरण भाद्रपद शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को अभिजित मुहूर्त तथा श्रवण नक्षत्र में माना जाता है। अतः इस उत्सव को वामन द्वादशी के नाम से भी जाना जाता है।

वामन भगवान त्रेता युग में अवतरित प्रथम श्री विष्णु अवतार थे। इससे पहिले भगवान विष्णु के चार अवतार सतयुग में ही हुए थे। वामन भगवान प्रथम पूर्ण मानव अवतार भी हैं। भगवान वामन का अवतार माता अदिति एवं ऋषि कश्यप के पुत्र रूप इस पृथ्वी लोक में हुआ था।

श्रीजयदेव गोस्वामी द्वारा रचित श्रीगीतगोविन्दम के श्री दशावतार स्तोत्र में भी भगवान वामन को श्रीहरि का पाँचवा अवतार बताया गया है।

छलयसि विक्रमणे बलिमद्भुतवामन ।
पदनखनीरजनितजनपावन ।
केशव धृतवामनरुप जय जगदीश हरे ॥5॥

अर्थात: हे सम्पूर्ण जगतके स्वामिन् ! हे श्रीहरे ! हे केशव! आप वामन रूप धारणकर तीन पग धरतीकी याचनाकी क्रियासे बलि राजाकी वंचना कर रहे हैं। यह लोक समुदाय आपके पद-नख-स्थित सलिलसे पवित्र हुआ है। हे अदभुत वामन देव ! आपकी जय हो ॥5॥

संबंधित अन्य नाम
वामन द्वादशी

Vamana Jayanti in English

Vaman Jayanti is celebrated on the incarnation day of Lord Vamana, the fifth incarnation of Bhagwan Vishnu in Treta Yuga.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
26 September 202315 September 20244 September 202523 September 202612 September 2027
आवृत्ति
वार्षिक
सुरुआत तिथि
भाद्रपद शुक्ला द्वादशी
समाप्ति तिथि
भाद्रपद शुक्ला द्वादशी
महीना
अगस्त / सितंबर
कारण
भगवान वामन का अवतरण दिवस
उत्सव विधि
भजन, कीर्तन
महत्वपूर्ण जगह
घर, भगवान विष्णु मंदिर
पिछले त्यौहार
17 September 2021
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मंदिर

🔝