close this ads

कथा: हनुमान गाथा


हम आज पवनसुत हनुमान की कथा सुनाते हैं, पावन कथा सुनाते हैं
वीरों के वीर उस महावीर की गाथा गाते हैं
जो रोम-रोम में सिया राम की छवि बासाते हैं, पावन कथा सुनाते हैं
वीरों के वीर उस महावीर की गाथा गाते हैं, हम कथा सुनाते हैं

पुंजिकस्थला नाम था जिसका स्वर्ग की थी सुंदरी
वानर राज को जर के जन्मी नाम हुआ, अंजनी
कपि राज केसरी ने उससे ब्याह रचाया था
गिरी नामक संगपर क्या आनंद मंगल छाया था
राजा केसरी को अंजना का रूप लुभाया था
देख देख अंजनी को उनका मान हार्षया था
वैसे तो उनके जीवन में थी सब खुशहाली
परन्तु गोद अंजनी माता की संतान से थी खाली

अब सुनो हनुमंत कैसे पवन के पुत्र कहते हैं, पावन कथा सुनाते हैं
बजरंगबली उस महाबली की गाथा गाते है

बाकी की गाथा को जल्दी ही पूरा किया जाएगा...

Read Also:
» हनुमान जयंती - Hanuman Jayanti
» दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर!
» श्री हनुमान जी की आरती | संकट मोचन हनुमानाष्टक | श्री हनुमान चालीसा | श्री बालाजी की आरती | श्री हनुमान बाहुक | श्री हनुमान साठिका
» श्री हनुमान गाथा | भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना | भजन: बजरंगबली मेरी नाव चली

Hindi Version in English

Hanuman Janm, Baal Hanuman, Shri Ram Milan, Lanka Aagman, Seeta Ki Khoj:

Ham Aaj Pawansut Hanuman Ki Katha Sunate Hai
Pawan Khata Sunate Hai
Veeron Ke Veer Us Mahaveer Ki Gatha Gaate Hai
Jo Rom Rom Mein Siya Raam Ki Chhavi Basate Hai
Pawan Khata Sunate Hai
Veeron Ke Veer Us Mahaveer Ki Gatha Gaate Hai
Ham Katha Sunate Hai

Punikasthila Naam Tha Jisaka Swarg Ki Thi Sundari
Vanar Raaj Ko Jar Ke Janmi Naam Hua Ati Door
Kapi Raaj Kesari Ne Usase Byah Rchaya Tha
Giri Namak Sangpar Kya Anand Mangal Chhaya Tha
Raja Kesari Ko Anjana Ka Roop Lubhaya Tha
Dekh Dekh Anjani Ko Unaka Man Harsaya Tha
Vaise to Unake Jeewan Mein Thi Sab Khushhali
Parntu God Anjani Mata Ki Santan Se Thi Khali

Ab Suno Hanumant Kaise Pawan Ke Putra Kahate Hai
Pawan Khata Sunate Hai
Bajrang Bali Us Maha Bali Ki Gatha Gaate Hai

Soon Gatha will completed on this page...

KathaBy BhaktiBharat


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

गोपेश्वर महादेव की लीला

फिर क्या था, भगवान शिव अर्धनारीश्वर से पूरे नारी-रूप बन गये। श्रीयमुना जी ने षोडश श्रृंगार कर दिया।...

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा!

जब कृष्ण जी ने ये सुना तो भागते हुए आये और उन्होंने भी मोर को प्रेम से गले लगा लिया और बोले हे मोर, तू कहा से आया हैं।...

हिरण्यगर्भ दूधेश्वर ज्योतिर्लिंग प्रादुर्भाव पौराणिक कथा!

पुराणों में हरनंदी के निकट हिरण्यगर्भ ज्योतिर्लिंग का वर्णन मिलता है। हरनंदी,हरनद अथवा हिरण्यदा ब्रह्मा जी की पुत्री है...

नाग पंचमी पौराणिक कथा!

प्राचीन काल में एक सेठजी के सात पुत्र थे। सातों के विवाह हो चुके थे। सबसे छोटे पुत्र की पत्नी श्रेष्ठ चरित्र की विदूषी और सुशील थी, परंतु उसके भाई नहीं था...

प्रेरक कथा: श‌िव के साथ ये 4 चीजें जरुर दिखेंगी!

भगवान श‌िव एक हाथ में त्र‌िशूल, दूसरे हाथ में डमरु, गले में सर्प माला, स‌िर पर त्र‌िपुंड चंदन लगा हुआ है...

श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा 2

बोलो बृहस्पतिदेव की जय। भगवान विष्णु की जय॥ बोलो बृहस्पति देव की जय॥

अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा | बृहस्पतिदेव की कथा

भारतवर्ष में एक राजा राज्य करता था वह बड़ा प्रतापी और दानी था। वह नित्य गरीबों और ब्राह्‌मणों...

पाण्डव निर्जला एकादशी व्रत कथा!

निर्जला एकादशी व्रत का पौराणिक महत्त्व और आख्यान भी कम रोचक नहीं है। जब सर्वज्ञ वेदव्यास ने पांडवों को चारों पुरुषार्थ संकल्प कराया था...

वट सावित्री व्रत कथा।

भद्र देश के एक राजा थे, जिनका नाम अश्वपति था। भद्र देश के राजा अश्वपति के कोई संतान न थी...

रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा!

प्राचीन काल में दशरथ नामक प्रसिद्ध चक्रवती राजा हुए थे। राजा के कार्य से राज्य की प्रजा सुखी जीवन यापन कर रही थी...

Latest Mandir

^
top