भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

बाबा दूधाधारी मंदिर


updated: Feb 11, 2019 23:38 PM About | Timing | Highlights | Photo Gallery


बाबा दूधाधारी मंदिर () - Lahtai Sirsaganj Uttar Pradesh

सिद्ध बाबा दूधाधारी ने यहाँ रहते हुए शिवलिंग की स्थापना की, और अनेक सिद्धियों को प्राप्त किया। कालांतर में यहाँ बाबा दूधाधारी मंदिर और मंदिर से जुड़े आश्रम का निर्माण किया गया। बाबा जी गंगासागर की यात्रा के दौरान ब्रह्मलीन हुए, पर उनकी इच्छा अनुसार उनकी समधी को आश्रम में ही स्थापित किया गया, और बाबा जी आज भी अपनी समाधी के रूप में सभी मार्ग दर्शन दे रहे हैं।

मुख्य आकर्षण

  • बाबा दूधाधारी समाधि स्थल और आश्रम।
  • मुख्य मंदिर के साथ छः सहायक मंदिर।

समय सारिणी

त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Available in English - Baba Dudhadhari Mandir
Siddha Baba Dudhadhari established Shivalinga while staying here, and achieved many siddhis. In the meantime, a Baba Dudhadhari Mandir and connected Ashram was built here.

जानकारियां

धाम
Shri Radha KrishnaShri Ram PariwarMaa GangaShri HanumanShivling and Gauri ShankarBaba JharveerBaba Shamadhi (c)Shri Laxmi Narayan BhagwanAkhand JyotiYagyashalaMaa TulsiPeepal TreeBanana TreeVat Vriksh
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Hand Pump, Shose Store, Solar Panel, Sitting Benches, Well
धर्मार्थ सेवाएं
आश्रम
समर्पित
भगवान शिव
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Agra - Lucknow Expressway >> Jaimai Main Road
रेलवे: Balrai, Jaswantnagar, Etawah
पता
Lahtai Sirsaganj Uttar Pradesh
निर्देशांक
26.995587°N, 78.726429°E
बाबा दूधाधारी मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/dudhadhari-mandir

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

close this ads
^
top