गलताजी धाम - Galtaji Dham Coming Soon


Jul 16, 2018 08:26 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ▶ वीडियो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


गलताजी धाम (Galtaji Dham) - Galta Ji, Jaipur, Rajasthan - 302027 Jaipur Rajasthan

गलताजी धाम (Galtaji Dham) is the Group of temples and water kunds, inclues the Galav Rishi Temple, Krishna Temple, Surya Temple, Balaji Temple, Shiv Mandir and the Sita Ram Temple and three holy water kunds. Galtaji Dham is the tapobhumi of Rishi Galav and His 100 yeras of maditaion, yoga, dhyan and tpasya, therefore named as Galta Ji.

प्रचलित नाम: गलता जी, गलताजी मंदिर, मंकी टेंपल

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • Tapobhumi of Rishi Galav.
  • Established By Shri Rao Krishna Ramji.
  • Having Gurukul and Gaushala.

समय सारिणी - Timings

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Rishi Galav Temple with Brahma, Shri Vishnu, Mahesh and Shri Ganesh.

Rishi Galav Temple with Brahma, Shri Vishnu, Mahesh and Shri Ganesh.

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

Galtaji Dham

जानकारियां - Information

धाम
Shivling with GanYagyashalaAkhand DhuniMaa TulsiPeepal TreeVat Vriksh
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shose Store, Solar Panel, Sitting Benches, Fountain, Jan Suvidha
धर्मार्थ सेवाएं
Gaushal, Gurukul
संस्थापक
Rishi Galav / Shri Rao Krishna Ramji
स्थापना
18th Century
समर्पित
Shri Vishnu
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो प्रदर्शनी - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Galta Ji, Jaipur, Rajasthan - 302027 Jaipur Rajasthan
सड़क/मार्ग 🚗
Alwar-Jaipur Road
रेलवे 🚉
Jaipur
निर्देशांक 🌐
26.917802°N, 75.856617°E
गलताजी धाम गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/galtaji-dham

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती: श्री विश्वकर्मा जी

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

🔝