श्री कैलाशपति मंदिर - Shri Kailashpati Mandir


Mar 19, 2020 00:39 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


कैलाश पर्वत को पृथ्वी पर भगवान शिव का निवास स्थान माना जाता है, अतः शिव का एक नाम कैलाशपति भी है, अर्थात कैलाश के अधिपति/स्वामी। 20 टन बजन का विशाल, दिल्ली का सबसे बड़ा शिवलिंग श्री कैलाशपति मंदिर के प्रथम पूज्य हैं। इतनी विशाल शिवलिंग को रखने के लिए मंदिर मे विशेष आधारशिला रखी गई है। स्थापना के समय यह विशाल शिवलिंग मद्रास / चेन्नई महानगर से लाई गई थी।

कलिंग बौद्ध वास्तुकला से निर्मित भगवान शिव का यह मंदिर वास्तुशात्र को ध्यान मे रखकर बनाया गया है। मंदिर के मुख्य भवन मे बने सभी स्तंभो पर अंदर की ओर अष्टलक्ष्मी तथा बाहरी ओर भगवान विष्णु के सभी दसावतार का मूर्ति चित्रण किया गया है। अष्टलक्ष्मी एवं दसावतार के चित्रण के साथ-साथ पंचमुखी श्री गणेश, माँ गायत्री एवं श्री कृष्ण कालिया मर्दन का भी मंदिर के स्तभों पर मूर्ति-चित्रण अंकित है।

माह की प्रत्येक पूर्णिमा को सुवह 10 बजे से सत्यनारायण कथा का वाचन एवं श्रवण किया जाता है। शिवरात्रि के पावन पर्व पर मंदिर की भव्यता एवं भक्तों का उत्साह देखते ही बनता है। मई महिने मे मंदिर का वार्षिक उत्सव मनाया जाता है।

माँ दुर्गा के पवित्र नवरत्रों मे, सभी नौ दिन विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। गणेश-उत्सव यहाँ बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। दीवाली के अगले ही दिन आने वाले अन्नकूट उत्सव पर मंदिर मे भंडारे का आयोजन किया जाता है।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • 20 टन बजन का विशाल, दिल्ली का सबसे बड़ा शिवलिंग।
  • मंदिर मे वास्तु के अनुसार अष्टलक्ष्मी एवं दसावतार का मूर्ति-चित्रण।

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
Winter: 6:30 AM - 1:00 PM, 4:00 - 8:30 PM; Sumner: 6:00 - 1:00 PM, 5:00 - 9:00 PM
7:00 AM: ग्रीष्म ऋतु: सुवह आरती
7:30 PM: शीत ऋतु: सुवह आरती
7:00 PM: शीत ऋतु: संध्या आरती
7:30 PM: ग्रीष्म ऋतु: संध्या आरती
त्यौहार
Vasant Panchami, Shivaratri, Holi, Navratri, Ram Navami, Hanuman Jayanti, Akshaya Tritiya|Parshuram Jayanti, Nirjala Ekadashi, Janmashtami, Ganeshotsav, Diwali, Kartik Poornima|Dev Diwali, Karwa Chauth, Tulsi Vivah | Read Also: नवरात्रि

अष्टलक्ष्मी

आदिलक्ष्मी, धनलक्ष्मी, धान्यलक्ष्मी, गजलक्ष्मी, सन्तानलक्ष्मी, वीरलक्ष्मी, विजयलक्ष्मी, विद्यालक्ष्मी।

भगवान विष्णु दशावतार:
मत्स्य, कूर्म, वराह, नरसिंह, वामन, परशुराम, राम, कृष्ण, विट्ठल / जगन्नाथ, कल्कि।

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Shri Kailashpati Mandir in English

The huge 20 ton weight largest Shivaling of Delhi is the first worshiper of Shri Kailashpati Temple..

जानकारियां - Information

धाम
Shri Lakshmi NarayanMaa SarswatiShri GaneshGauri ShankarShri KartikeShivling with GanMaa DurgaShri Radha KrishnaShri Ram DarwarShri HanumanSinduri Hanuman Ji
Maa TulsiBanana TreePeepal TreeVat Vraksh
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Power Backup, Shoe Store, Washrooms, Limited Parking, CCTV Security, Sitting Benches, Music System, Office, Garden
देख-रेख संस्था
श्री कैलाशपति मंदिर सभा
समर्पित
भगवान शिव
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
C-3, Block C 4, Safdarjung Development Area, Hauz Khas Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Outer Ring Road >> Sri Aurobindo Marg >> Gate Number 1 Road
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.549166°N, 77.199741°E
श्री कैलाशपति मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/kailashpati-mandir-hauz-khas

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

🔝