श्री कृष्ण जन्माष्टमी | आज का भजन!

कर्ण घाट मंदिर - Karn Ghat Mandir


updated: Mar 19, 2019 07:14 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


कर्ण घाट मंदिर पर सूर्यपुत्र दानवीर कर्ण भगवान शिव की पूजा करने के पश्‍चात, सवामन सोना प्रतिदिन दान किया करते थे। मान्यता के अनुसार, उसी स्थान 2012 की दीपावली को शिवलिंग की पुनः स्थापना कर दी गयी है। ऐसा माना जाता है कि पास ही मे एक देवी माँ का मंदिर था। जो कर्ण को सोना दिया करतीं थीं, आज वो मंदिर विलुप्त हो चुका है या धरती मे समा गया है।

हस्तिनापुर का पुनर्विकास, आज़ादी के बाद पंडित जवाहर लाल नेहरू ने किया था। उसी के अंतर्गत राज्य सरकार की मदद से मंदिर का पुनर्घटन किया गया। आज के मंदिर का यह स्वरूप स्वामी शंकर देव जी की अनन्य भक्ति, सेवा और परिश्रम का फल है।

आज का कर्ण मंदिर बूढ़ी गंगा के पुल के पास स्थित है। माना जाता है कि, महाभारत काल मे गंगाजी, इसी घाट से होकर गुजरती थीं। गंगा जी का प्रवाह इस स्थान से दूर होजाने की वजह से, अब इस विलुप्त धारा को बूढ़ी गंगाजी के नाम से जाना जाने लगा है। कर्ण घाट से थोड़ा ही दूर, दौपदी घाट को बूढ़ी गंगा पुल के विपरीत दिशा मे देखा जा सकता है

प्रचलित नाम: कर्ण मंदिर

मुख्य आकर्षण

  • सूर्यपुत्र दानवीर कर्ण यहाँ 50 किलो सोना दैनिक दान किया करते थे।
  • बूढ़ी गंगा पुल के निकट।

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 9:00 PM

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
New temple is the result of exclusive devotion, dedication and hard work of Swami Shankar Dev Ji.

New temple is the result of exclusive devotion, dedication and hard work of Swami Shankar Dev Ji.

On this ghat, Sun`s son Karan used to donate daily Savanama gold.

On this ghat, Sun`s son Karan used to donate daily Savanama gold.

Karn Ghat Mandir - Available in English

On this holy place Karn Ghat Mandir, Suryaputra Karn used to donate daily 50kg gold on the bank of river Ganga. Now a days Gangaji move 5km away from this temple therefore this place called now Budhi Ganga.

जानकारियां

धाम
ShivlingMaa SherawaliSinduri Shri HanumanMaa Tulsi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water
संस्थापक
महाभारत काल से
स्थापना
सूर्यपुत्र दानवीर कर्ण
समर्पित
भगवान शिव
वास्तुकला
चालुक्य शैली
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

पता 📧
Hastinapur Hastinapur Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Ganeshpur - Hastinapur Road
रेलवे 🚉
Meerut
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport
नदी ⛵
Ganga
निर्देशांक 🌐
29.162706°N, 78.01168°E
कर्ण घाट मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/karn-ghat-mandir

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री बाल कृष्ण जी

आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै। श्री यशोदा का परम दुलारा...

भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन, भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…

श्री खाटू श्याम जी आरती।

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

top