कोणार्क सूर्य मंदिर - Konark Sun Temple

यूनेस्को(UNESCO) की विश्व धरोहर कोणार्क सूर्य मंदिर भगवान श्री सूर्य देव को समर्पित है। यह मंदिर कलिंग वास्तुकला की उपलब्धि के सर्वोच्च बिंदु को अनुग्रह, खुशी एवं जीवन दर्शन की अतरंगी शैली से दर्शाता है।

कोणार्क सूर्य मंदिर के अरुण स्तंभ एवं भगवान सूर्य देव विग्रह को जगन्नाथ धाम मंदिर पुरी के सिंह द्वार पर स्थापित किया गया है, तथा मुख्य विग्रह भगवान सूर्य देव को भी वहीं स्थापित कर दिया गया है।

कोणार्क को सूर्य देवालय भी कहा जाता है, यह कलिंग वास्तुकला तथा ओडिशा वास्तुकला शैली का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। यूरोपीय नाविक खातों में, इस मंदिर को 1676 की शुरुआत में ब्लैक पैगोडा कहा जाता था क्योंकि इसका श्रेष्ठ शिखर लाल-काला दिखाई देता है। यह हिंदुओं के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल है, यहाँ प्रत्येक वर्ष फरवरी के महीने में चंद्रभागा मेले का आयोजन होता है।

कोणार्क सूर्य मंदिर के निचले भाग की तुलना मे ऊपरी भाग एवं छत मे कला के बड़े और अधिक महत्वपूर्ण कार्य किए गये हैं। जिस के अंतर्गत संगीतकारों और पौराणिक व्याख्यानों के साथ-साथ हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां भी शामिल हैं, हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों मे मायावी दैत्य महिषासुर का वध करती हुई माता दुर्गा (शक्तिरूप), विष्णु अपने जगन्नाथ रूप मे (वैष्णववाद) एवं अत्यधिक क्षतिग्रस्त शिव (शैव) हैं।

सूर्य मंदिर पूर्व की ओर उन्मुख है ताकि सूर्योदय की पहली किरणें इसके मुख्य द्वार को सर्वप्रथम स्पर्श करें। यह खोंडालिट चट्टानों से बनाया गया मंदिर है, कोणार्क सूर्य मंदिर मूल रूप से चंद्रभागा नदी के मुहाने पर बनाया गया था, परंतु तब से अब तक नदी की जलरेखा ने अपना स्थान परिवर्तित कर लिया है। रथनुमा आकर से बने मंदिर के पहिए सूर्य-घड़ी का कार्य करते हैं, जो कि एक मिनट के समय की भी सटीक गणना करने मे सक्षम हैं।

धर्म ओडिया सांस्कृतिक के केंद्र में है, तथा कोणार्क ने स्वर्ण त्रिभुज जिनके दो विंदु जगन्नाथ पुरी मंदिर एवं भुवनेश्वर का लिंगराज मंदिर है, के साथ तीसरे विंदु पर अपना महत्वपूर्ण स्थान बना रखा है, जो ओडिया मंदिरों की वास्तु शैली का प्रतिनिधित्व करता है।

10 रुपए के नये नोट में देश की सांस्कृतिक विरासत को दर्शाते हुए, सूर्य मंदिर के चक्र को नोट की पिछली ओर दर्शाया गया है।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • ओडिशा का यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल।
  • मंदिर में कोई भी मूर्ति / विग्रह नहीं है।
  • घरेलू और विदेशी पर्यटकों के लिए हॉलिडे पॉइंट।

समय - Timings

दर्शन समय
5:30 AM- 8:30 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Temple Side View

Temple Side View

Wheel As Sundials

Wheel As Sundials

Complete Temple Singh Dwar

Complete Temple Singh Dwar

Temple In Rath View

Temple In Rath View

Temple Street

Temple Street

Full View Main Temple

Full View Main Temple

Colourful Indain Tourist

Colourful Indain Tourist

Chayadevi Temple

Chayadevi Temple

Other Structure

Other Structure

2 Elephants

2 Elephants

Temple With Outer Line

Temple With Outer Line

Huge Vat Vraksh

Huge Vat Vraksh

Temple Garden

Temple Garden

Mango Tree

Mango Tree

Garden

Garden

Green Garden

Green Garden

Navgrah Dham

Navgrah Dham

Nearby Arkeshwara Temple

Nearby Arkeshwara Temple

Nearby Shiv Temple

Nearby Shiv Temple

Nearby Jagannath Temple

Nearby Jagannath Temple

Konark Sun Temple in English

UNESCO world heritage site Konark Sun Temple is dedicated to Bhagwan Shri Sury Dev. The highest point of achievement of Kalinga architecture.

जानकारियां - Information

धाम
Navgrah Dham
बुनियादी सेवाएं
Sitting Benches, Water Coolar, Shopping Complex, Power Backup, Office, Childrens Park, Free Parking, Washroom, Solar Light
धर्मार्थ सेवाएं
लाइट एंड साउंड शो
देख-रेख संस्था
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण
समर्पित
भगवान श्री सूर्य देव
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Konark Puri Odisha
सड़क/मार्ग 🚗
Konark Road / Puri-Konark Marine
रेलवे 🚉
Puri Railway Station
हवा मार्ग ✈
Biju Patnaik International Airport, Bhubaneswar
नदी ⛵
Chandrabhaga
वेबसाइट 📡
http://www.konark.nic.in
निर्देशांक 🌐
19.887566°N, 86.095327°E
कोणार्क सूर्य मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/konark-sun-temple

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी

स्तुति श्री हिंगलाज माता और श्री विंध्येश्वरी माता सुन मेरी देवी पर्वतवासनी...

आरती: माँ दुर्गा, माँ काली

अम्बे तू है जगदम्बे काली जय दुर्गे खप्पर वाली। तेरे ही गुण गाये भारती...

🔝