माँ छिन्नमस्ता मंदिर - Maa Chinmastike Mandir

छिन्नमस्ता मंदिर झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 80 किमी दूर रजरप्पा में स्थित है। यह भारत के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। भैरवी-भेरा और दामोदर नदियों के संगम पर स्थित, माता छिन्नमस्तिका का दिव्य रूप दक्षिण की ओर मंदिर की उत्तरी दीवार के साथ स्थित चट्टान पर देखा जाता है।

छिन्नमस्ता मंदिर का निर्माण और वास्तुकला:
इस मंदिर का निर्माण करीब छह हजार साल पहले हुआ था। मंदिर के अंदर की चट्टान में देवी की तीन आंखें हैं। उनका कंठ सर्पमाला और मुंडमल से सुशोभित है। खुले बाल, बाहर जिह्या, आभूषणों से सजी देवी नग्न हैं। उनके दाहिने हाथ में तलवार और बाएं हाथ में कटा हुआ सिर है। उनके दोनों ओर डाकिनी और शाकिनी खड़ी हैं, जिन्हें वह अपना खून पिला रही हैं और खुद भी ऐसा ही कर रही हैं। उसके गले से खून की तीन धाराएं निकलती हैं। मंदिर का मुख्य द्वार पूर्व दिशा में है। सामने बलि का स्थान है, जहाँ प्रतिदिन बकरे की बलि दी जाती है। यहां मुंडन कुंड भी है। पापनाशिनी कुंड भी है, जो भक्तों के रोगों को दूर करता है।

मंदिर के चारों ओर प्राचीन ईंटें, पौराणिक मूर्तियाँ और यज्ञ कुंड और पौराणिक साक्ष्य थे, जो नष्ट हो गए या भूमिगत हो गए। इस मंदिर का निर्माण वास्तुकला के अनुसार किया गया है। इसके गोलाकार गुंबद की मूर्ति असम के कामाख्या मंदिर के समान है।

माँ छिन्नमस्ता के साथ-साथ मंदिर प्रांगण में माँ दुर्गा का लोटस टेंपल, संगम तट पर रजरप्पा मंदिर, सूर्य मंदिर, कृष्ण मंदिर एवं नौलखा मंदिर भी स्थापित हैं।

छिन्नमस्ता मंदिर की पूजा विधि
माँ छिन्नमस्ता की सबसे पहले आरती, चावल, गुड़, घी और कपूर से पूजा की जाती है। दोपहर 12 बजे खीर का भोग लगाया जाता है। भोग के समय मंदिर के द्वार कुछ समय के लिए बंद रहते हैं। शाम के समय श्रृंगार के समय पूजा की जाती है। आरती के बाद मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं। अमावस्या और पूर्णिमा को ही मंदिर आधी रात तक खुला रहता है।

असम में माँ कामरूप कामाख्या और बंगाल में माँ तारा के बाद झारखंड का माँ छिन्नमस्ता मंदिर तांत्रिकों का प्रमुख स्थान है। देश-विदेश से बहुत से साधक यहां नवरात्रि की रात और हर महीने की अमावस्या को साधना करने आते हैं। तंत्र साधना से हमें माता छिन्नमस्ता की कृपा प्राप्त होती है। यह असम में मां कामाख्या मंदिर के बाद दूसरा सबसे बड़ा शक्तिपीठ है।

कैसे पहुंचें छिन्नमस्ता मंदिर
रजरप्पा, माँ छिन्नमस्ता शक्तिपीठ तक पहुँचने के लिए बसें, टैक्सी और ट्रेकर्स उपलब्ध हैं।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ माँ छिन्नमस्ता का सबसे प्रसिद्ध मंदिर।
◉ भेरा तथा दामोदर नदी के संगम पर स्थित मंदिर।
◉ मंदिर के साथ ही लोटस टेंपल, सूर्य मंदिर एवं नौलखा मंदिर भी।

समय - Timings

दर्शन समय
Winter: 5:30 AM - 9:30 PM; Summer: 4:00 AM - 10:00 PM

माँ छिन्नमस्ता की पौराणिक कथा

हजारों साल पहले इंसानों और देवताओं को राक्षसों और राक्षसों ने आतंकित किया था। साथ ही मनुष्य माता शक्ति को याद करने लगे। तब पार्वती (शक्ति) ने 'छिन्नमस्ता' के रूप में अवतार लिया था। छिन्नमस्ता का दूसरा नाम 'प्रचंड चंडिका' भी है। तब माता छिन्नमस्तिका खडग से राक्षसों और राक्षसों का संहार करने लगी। यहाँ तक कि भूख-प्यास का भी ध्यान नहीं रखा गया, केवल पापियों का नाश करना चाहते थे। खून की नदियां बहने लगीं। धरती पर कोहराम मच गया। माता ने अपना भयंकर रूप धारण कर लिया था। उसने पापियों के अलावा निर्दोषों को भी मारना शुरू कर दिया। तब सभी देवता प्रचंड शक्ति से भयभीत होकर भगवान शिव के पास गए, देवताओं की प्रार्थना सुनकर भगवान शिव मां छिन्नमस्ता के पास पहुंचे।

भगवान शिव को देखकर माता छिन्नमस्तिका ने कहा - \"हे नाथ! मुझे भूख लगी है। मैं अपनी भूख कैसे संतुष्ट कर सकता हूँ?\" भगवान शिव ने कहा कि- \"आप पूरे ब्रह्मांड की देवी हैं। आप स्वयं एक शक्ति हैं। तब भगवान शिव ने उपाय बताया कि अगर आप खडग से अपनी गर्दन काटकर 'शोणित' (खून) पीते हैं, तो आपकी भूख खत्म हो जाएगी। । जाऊँगा।\" तब माता छिन्नमस्तिका ने शिव की बात सुनकर तुरंत ही चाकू से उसकी गर्दन काट दी और उसका सिर अपने बाएं हाथ में ले लिया। गर्दन और सिर के अलग होने से गर्दन से खून की तीन धाराएं निकलीं, जो बाईं और दाईं ओर 'डाकिनी'-'शाकिनी' थीं। दोनों के मुख में दो धाराएँ चलीं और बीच में तीसरी धारा माता के मुख में चली गई, जिससे माता तृप्त हुई।

Maa Chinmastike Mandir in English

Chinnamasta Temple is located in Rajrappa, about 80 km from Ranchi, the capital of Jharkhand. It is one of the oldest temples in India. Situated at the confluence of Bhairavi-Bheda and Damodar river.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
माँ छिन्नमस्ता मंदिर

माँ छिन्नमस्ता मंदिर

माँ छिन्नमस्ता मंदिर

माँ छिन्नमस्ता मंदिर

जानकारियां - Information

धाम
Maa DurgaSun TempleNau Lakha MandirShri Krishna KrishnaShivlingRajrappa Mandir
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Shoe Store, Washrooms, Sitting Benches, Music System
समर्पित
माँ छिन्नमस्ता
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Lerhitongri Rajrappa Jharkhand
सड़क/मार्ग 🚗
Rajrappa Chitarpur Road
नदी ⛵
Damodar, Bhera
सोशल मीडिया
Download App
निर्देशांक 🌐
23.632107°N, 85.709942°E
माँ छिन्नमस्ता मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/maa-chinmastike-mandir

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री गणेश आरती

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

श्री हनुमान आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

श्री बालाजी आरती, ॐ जय हनुमत वीरा

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी तुम हो रनधीरा॥

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App