Hanuman Chalisa

शरण बसवेश्वर मंदिर - Sharan Basaveshwara Temple

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ दुनियाँ में लिंगायत संप्रदाय की सर्वोच्च पीठ।
◉ गुरु बसवेश्वर जी को समर्पित सबसे लोकप्रिय मंदिर।
◉ गुलबर्ग शहर का सबसे प्रसिद्ध मंदिर।

शरण बसवेश्वर मंदिर (ಶ್ರೀ ಶರಣಬಸವೇಶ್ವರ ದೇವಸ್ಥಾನ), गुलबर्गा शहर कर्णाटक राज्य में स्थित है। जो कि 18 वीं शताब्दी के विख्यात हिंदू संप्रदाय लिंगायत के धार्मिक गुरु एवं दार्शनिक श्री शरण बसवेश्वर को समर्पित है। मंदिर बसवेश्वर को श्रद्धांजलि देता है जिन्होंने निस्वार्थ और अथक रूप से किसी भी प्रकार के भेदभाव को समाप्त करके समाज के उत्थान की दिशा में काम किया यानी अपना जीवन दसोहा और कयाक को समर्पित कर दिया।
गुलबर्गा अथवा गुलबर्ग शहर को आधिकारिक तौर पर कलबुरगी ही कहा जाता है।

मंदिर के शिखर का ऊपरी भाग सुनहरे रंग से सुशोभित है। मंदिर के निकट अपपाना झील पर्यटकों को और भी आकर्षित करती है। मंदिर परिसर में कार पार्किंग की उचित व्यवस्था है।

शरण बसवेश्वर मंदिर का महत्व
मान्यता है की भक्त मंदिर में आशीर्वाद लेने और अच्छी शिक्षा प्राप्त करने आदि अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए शरण बसवेश्वर मंदिर आते हैं।

शरण बसवेश्वर मंदिर की इतिहास और वास्तुकला:
मंदिर के केंद्र में शरण बसवेश्वर की समाधि है जिसे गर्भ गुड़ी कहा जाता है। इसके बगल में एक झील भी है जो कई भक्तों और पर्यटकों को आकर्षित करती है।

मंदिर का निर्माण लगभग दो शताब्दी पूर्व हुआ था। कई स्तंभों और मेहराबों से सुसज्जित, 12वीं शताब्दी के मंदिर में हाथियों, गरुड़, फूलों और तोतों की उत्कृष्ट नक्काशी है। अन्य मुख्य आकर्षण में दीवारों पर विभिन्न कलाकारों द्वारा बसवेश्वर का चित्रण, मोर की नक्काशी, नाग की मूर्तियां और कांच के दर्पणों से सजाए गए इंटीरियर, सोने और निज़ामी शैली के झूमर शामिल हैं। मंदिर मुगल और साथ ही हिंदू वास्तुकला का मिश्रण है।

शरण बसवेश्वर मंदिर का वार्षिक उत्सव
⦿ भारत और विदेशों के भक्त, ऐतिहासिक वार्षिक उत्सव को देखने के लिए मंदिर परिसर में एकत्रित होते हैं।
⦿ भक्तों को इस मौके पर संत द्वारा इस्तेमाल की गई चांदी की थाली (प्रसाद बटाला) की भी एक झलक देखने को मिलती है।
⦿ प्रसाद बटाला के साथ, भक्तों को चंदन में बने और शरणभास्वेश्वर द्वारा इस्तेमाल किए गए लिंग सज्जिक (लिंग को धारण करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला आवरण) देखने का मौका मिलती है।
⦿ लोग, विशेष रूप से क्षेत्र के किसान, मंदिर में आने वाले तीर्थयात्रियों को मुफ्त भोजन प्रदान करने के लिए अपनी फसल का एक हिस्सा मंदिर को दान करने की प्रथा जारी रखते हैं।

कैसे पहुंचें शरण बसवेश्वर मंदिर
गुलबर्गा बैंगलोर से लगभग 574 किमी दूर है। गुलबर्गा से शरण बसवेश्वर मंदिर टैक्सी या ऑटो रिक्शा के माध्यम से पहुंचा जा सकता है। रेल द्वारा बैंगलोर से गुलबर्गा तक सीधी ट्रेन में 10 घंटे की यात्रा गुलबर्गा पहुंचने का एक व्यवहार्य तरीका है।

यहाँ से 3 किलो मीटर दूर कलबुरगी में ही श्री हनुमान जी की विशाल मूर्ति के साथ श्री कोरंती हनुमान मंदिर स्थित है।

प्रचलित नाम: शरण बसवेश्वर टेम्पल

समय - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 9:00 PM

Sharan Basaveshwara Temple in English

Sharan Basaveshwara Temple is located in Gulbarga city of Karnataka state. It is dedicated to the famous 18th century Hindu philosopher, teacher and saint named Basaveshwara.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Naag Dev - Sharan Basaveshwara Temple

Naag Dev - Sharan Basaveshwara Temple

जानकारियां - Information

बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shoe Store, Washrooms, CCTV Security, Sitting Benches, Music System, Prasad Shop, Gift Shop, Fountain, Parking, State Bank of India, Super Market
धर्मार्थ सेवाएं
गौशाला, संग्रहालय
समर्पित
श्री शरण बसवेश्वर

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Raghavendra Colony, Brhampur Kalaburagi Karnataka
सड़क/मार्ग 🚗
Aland Road / Saw Mill Road >> SB Temple Road
रेलवे 🚉
Kalaburagi
हवा मार्ग ✈
Kalaburagi Airport
सोशल मीडिया
Download App
निर्देशांक 🌐
17.336267°N, 76.826127°E
शरण बसवेश्वर मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/sharan-basaveshwara-temple

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

हनुमान आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App