विवाह पंचमी | आज का भजन!

श्री शिव मंदिर - Shri Shiv Mandir


Oct 16, 2016 21:46 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री शिव मंदिर (Shri Shiv Mandir) - National Highway 2, Bachhela Bachheli, Firozabad Uttar Pradesh - 283142 Sirsaganj Uttar Pradesh

A holy Shivling revealed while tilling farmland, Shri Bhagwan Singh Ji established this holy Sivling in the form of श्री शिव मंदिर (Shri Shiv Mandir) in village Bachhela (बछेला). Bhajan and Kirtan are organized on every Monday.

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
6:00 AM - 12:30 PM, 4:30 PM - 8:30 PM
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
मंदिर की स्थापना श्रीमती शान्ती देवी और श्री भगवान सिहं ने कराई

मंदिर की स्थापना श्रीमती शान्ती देवी और श्री भगवान सिहं ने कराई

मंदिर का पवित्र शिवलिंग, खेतो की जुताई करते वक्त सन् 1999 मे ज़मीन से मिला था

मंदिर का पवित्र शिवलिंग, खेतो की जुताई करते वक्त सन् 1999 मे ज़मीन से मिला था

जानकारियां - Information

मंत्र
Jai Bhole Baba!
धाम
Peepal TreeMaa Tulsi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water
संस्थापक
Smt. Shanti Devi and Shri Bhagwan Singh
स्थापना
1999
समर्पित
Lord Shiv
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
National Highway 2, Bachhela Bachheli, Firozabad Uttar Pradesh - 283142 Sirsaganj Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
National Highway 2 (NH2) >> Shukurullapur Road
निर्देशांक 🌐
26.983384°N, 78.813094°E
श्री शिव मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/shiv-mandir-bachhela

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री भैरव देव जी आरती

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा, जय काली और गौर देवी कृत सेवा॥

ॐ जय कलाधारी हरे - बाबा बालक नाथ आरती

ॐ जय कलाधारी हरे, स्वामी जय पौणाहारी हरे, भक्त जनों की नैया, दस जनों की नैया, भव से पार करे...

आरती: भगवान श्री कुबेर जी

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे, स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे। शरण पड़े भगतों के... धनतेरस के दिन देवी लक्ष्मी, भगवान कुबेर एवं श्री गणेश की पूजा-आरती प्रमुखता से की जाती है।

top