इन सब के लिए भगवान तेरा धन्यवाद (In Sabke liye Bhagwan Tera Dhanyavad)


इन सब के लिए भगवान तेरा धन्यवाद
Add To Favorites

एक पक्षी था जो रेगिस्तान में रहता था, बहुत बीमार, कोई पंख नहीं, खाने-पीने के लिए कुछ नहीं, रहने के लिए कोई आश्रय नहीं था। एक दिन एक गरुड़ उधर से गुजर रहा था, उस बीमार और दुःखी पक्षी ने गरुड़ को रोका और पूछा: तुम कहाँ जा रहे हो?
गरुड़ ने उत्तर दिया: मैं स्वर्ग जा रहा हूँ।

बीमार पक्षी ने कहा: कृपया मेरे लिए पता करें, मेरी पीड़ा कब तक समाप्त हो जाएगी?

गरुड़ ने कहा: निश्चित ही मैं पता करूँगा।

गरुड़ ने इतना कह कर बीमार पक्षी से विदा ली। गरुड़ स्वर्ग पहुंचा और प्रवेश द्वार पर देवदूत को बीमार पक्षी का संदेश दिया।

देवदूत ने कहा: पक्षी के जीवन में अगले सात वर्ष तक इसी तरह कष्ट लिखा हुआ है उसे ऐसे ही सात वर्ष तक कष्ट भोगना पड़ेगा, तब तक उसके जीवन में कोई खुशी नहीं है।

गरुड़ ने कहा: जब बीमार पक्षी यह सुनेगा तो वह निराश हो जाएगा क्या आप इसके लिए कोई उपाय बता सकते हैं।

देवदूत ने उत्तर दिया: उससे कहो कि इस वाक्य को हमेशा बोलता रहे। इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।

वापसी पर जब वह बीमार पक्षी गरुड़ से फिर मिला तो गरुड़ ने उस स्वर्गदूत का संदेश दिया। सात-आठ दिनों के बाद गरुड़ जब फिर उधर से गुजर रहा था, तब उसने देखा कि पक्षी बहुत खुश था उसके शरीर पर पंख उग आए थे। उस रेगिस्तानी इलाके में एक छोटा सा पौधा लगा हुआ था, वहां पानी का एक छोटा सा तालाब भी बना हुआ था, चिड़िया खुश होकर चह-चहा रही थी।

गरुड़ चकित था देवदूत ने कहा था कि अगले सात वर्षों तक पक्षी के लिए कोई खुशी नहीं होगी इस सवाल को ध्यान में रखते हुए गरुड़ स्वर्ग के द्वार पर देवदूत से मिलने पहुंच गया।

गरुड़ ने देवदूत से अपने मन में उठते हुए सवालों का समाधान पूछा तो देवदूत ने उत्तर दिया: हाँ ! यह सच है कि पक्षी की जिन्दगी में सात साल तक कोई खुशी नहीं लिखी थी लेकिन क्योंकि पक्षी हर स्थिति में इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है। बोल रहा था और भगवान का शुक्र कर रहा था, इस कारण उसका जीवन बदल गया।

जब पक्षी गर्म रेत पर गिर गया तो उसने कहा: इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है। जब यह उड़ नहीं सकता था तो उसने कहा-इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है। जब उसे प्यास लगी और आसपास पानी नहीं था, तो उसने कहा: इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।

जो भी स्थिति हो, पक्षी दोहराता रहा: इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है। और इसलिए सात साल सात दिनों में समाप्त हो गए।

जब मैंने यह कहानी सुनी तो मैंने अपने जीवन को महसूस करने, सोचने, स्वीकार करने और देखने के तरीके में एक जबरदस्त बदलाव महसूस किया। मैंने अपने जीवन में इस को अपना लिया।

इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है। इसने मुझे मेरे विचार को, मेरे जीवन में शिफ्ट करने में मदद की, जो मेरे पास नहीं है।

उदाहरण के लिए, अगर मेरा सिर दर्द करता है तो मुझे लगता है कि मेरा बाकी शरीर पूरी तरह से ठीक और स्वस्थ है और मैं कहता हूं: इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है

और मुझे लगता है कि सिरदर्द मुझे बिल्कुल परेशान नहीं करता।

उसी तरह मैंने अपने रिश्तों, वित्त, सामाजिक जीवन, व्यवसाय और हर उस चीज का उपयोग करना शुरू कर दिया, जिसके साथ मैं संबंधित हो सकता हूं। जिसके साथ भी मैं संपर्क में आया, मैंने इस कहानी को सबके साथ साझा किया और इस कहानी से उनके व्यवहार में भी एक बड़ा बदलाव आया।

इस भगवान के शुक्राने का मेरे जीवन पर वास्तव में गहरा प्रभाव पड़ा, मुझे लगने लगा कि मैं कितना धन्य हूँ, मैं कितना खुश हूँ, जीवन कितना अच्छा है।

यह भी जानें

Prerak-kahaniSwarg Prerak-kahaniGarun Prerak-kahaniRegistan Prerak-kahaniDevdoot Prerak-kahaniDesert Prerak-kahaniGod Prerak-kahaniThanks Good Prerak-kahaniBhagwan Prerak-kahani


अगर आपको यह prerak-kahani पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस prerak-kahani को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

प्रेरणादायक महाराजा रणजीत सिंह की कहानियाँ!

एक बार महाराजा कहीं जा रहे थे, तभी उनके माथे पर पत्थर आकार लगा। उनके माथे पर से खून बहने लगा।...

प्रेरक कहानी: जब मुँह खोलोगे ही नहीं तो फँसोगे कैसे?

एक मछलीमार कांटा डाले तालाब के किनारे बैठा था। काफी समय बाद भी कोई मछली कांटे में नहीं फँसी, ना ही कोई हलचल हुई तो वह सोचने लगा...

व्यवहार की सुंदरता पर ध्यान दें: प्रेरक कहानी

आप मुम्बई मेँ जुहू चौपाटी पर चल रहे हैं और सामने से एक सुन्दर लडकी आ रही है, तो आप क्या करोगे?

प्रभु भोग का फल: प्रेरक कहानी

सेठजी के होश उड़ गए, वो तो बैठ गए वहीं पर। रात हो गई, सेठजी वहीं सो गए कि कहीं संतजी की तबियत बिगड़ गई तो कम से कम बैद्यजी को दिखा देंगे..

बुरी स्मृतियाँ भुला ही देनी चाहिए: प्रेरक कहानी

दो भाई थे। परस्पर बडे़ ही स्नेह तथा सद्भावपूर्वक रहते थे। पर एक दिन किसी बात पर दोनों में कहा सुनी हो गई..

सभी के कर्म एक समान नहीं हैं: प्रेरक कहानी

समाज में कभी एकरूपता नहीं आ सकती, क्योंकि हमारे कर्म कभी भी एक समान नहीं हो सकते। और जिस दिन ऐसा हो गया उस दिन समाज-संसार की सारी विषमतायें समाप्त हो जायेंगी।...

यह भटकाव ही इंसान को थका रहा है: प्रेरक कहानी

इंसान अपने लक्ष्य से भटक रहा है और यह भटकाव ही इंसान को थका रहा है। यह लक्ष्य प्राप्ति में सबसे बड़ी बाधा है।

🔝