भजन: बालाजी मने राम मिलन की आस.. (Balaji Mane Ram Milan Ki Aas)


भजन: बालाजी मने राम मिलन की आस..

बालाजी मने राम मिलन की आस,
बतादो कद* मिलवाओगे ।
बालाजी मने राम मिलन की आस,
बतादो कद मिलवाओगे ।

राम रटा था जब शबरी ने,
छोड़कें# आए रामनगरी ने ।
आए वह रघुनंदन के दास,
बतादो कद मिलवाओगे ।

बालाजी मने राम मिलन की आस,
बतादो कद मिलवाओगे ।

सुग्रीव राजा ने जमाना,
तेरे कारण हुया याराना ।
ओ.. बाली की काटी सास+,
बतादो कद मिलवाओगे ।

बालाजी मने राम मिलन की आस,
बतादो कद मिलवाओगे ।

रावण का वो भाई विभीषण,
रहा करें वह दिशा दक्षिण ।
अरे.. वो रहा राम के पास,
बतादो कद मिलवाओगे ।

बालाजी मने राम मिलन की आस,
बतादो कद मिलवाओगे ।
बालाजी मने राम मिलन की आस,
बतादो कद मिलवाओगे ।

*कद = कब
#छोड़कें: छोड़कर
+सास: साँस / श्वांश

Balaji Mane Ram Milan Ki Aas in English

vEER HANUMANA ATI BALWANA, RAM NAAM RASIYO RE, PRABHU MAN BASIYO RE ।
यह भी जानें

BhajanShri Hanuman BhajanBajrangbali BhajanHanuman Jayanti BhajanBalaji BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanNarender Kaushik Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

भजन: ऐसे मेरे मन में विराजिये

ऐसे मेरे मन में विराजिये, कि मै भूल जाऊं काम धाम, गाऊं बस तेरा नाम...

धन जोबन और काया नगर की..

धन जोबन और काया नगर की, कोई मत करो रे मरोर॥ - विधि देशवाल

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए: भजन

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए । हँसते मुस्कुराते हुये, जिंदगी गुजारिए ॥ काम ऐसे कीजिये कि..

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन

नमस्कार भगवन तुम्हें, भक्तों का बारम्बार हो, श्रद्धा रुपी भेंट हमारी..

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार, यहाँ पे भी जो हारा, कहाँ जाऊंगा सरकार॥

भजन: आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..

आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.., रोवे अकेली मीरा..आ.., आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. - विधि देशवाल

भजन: जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

🔝