Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Ganesh Aarti Bhajan - Ram Bhajan -

बटगणेश मंदिर, पुरी जगन्नाथ मंदिर में गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi at Batganesh Mandir, Puri Jagannath Temple)

जगन्नाथ मंदिर पुरी के बटगणेश मंदिर में हर साल गणेश चतुर्थी का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस गणेश मंदिर को बटगणेश मंदिर कहा जाता है और यह कल्पबट (इच्छा पूर्ति बरगद के पेड़) के पास जगन्नाथ मंदिर के दक्षिण की ओर है। मूर्ति पत्थर की बनी है और इसका मुख दक्षिण दिशा की ओर है।
यह मंदिर कल्पबट की जड़ में स्थित है। इस मंदिर की ऊंचाई 12 फीट है। मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट है। भगवान गणेश शांत मुद्रा में अपने सिंहासन पर विराजमान हैं। उनकी चार भुजाएँ हैं। दाहिने दो हाथ रुद्राक्ष की माला, लेखनी (पेन), एक हाथी का टूटा हुआ दांत से सुशोभित हैं। बाएं दो हाथ एक हथियार (परशु) और लड्डू (मीठा) से सुशोभित हैं। उनका बहक चुहा ग्रेनिट पथर से बना हुआ है, उनके सामने स्थित है। ग्रेनाइट चुहा के पिछले हिस्से को छूते हुए कुछ सेकंड वास्तविक चुहा दृश्य की भावना महसूस की जा सकती है। ऐसा माना जाता है कि भगवान गणेश कल्पतरु की तरह सभी इच्छाओं को पूरा करते हैं।

श्री मंदिर निर्माण के बाद सबसे पहले बटगणेश की पूजा की गई। श्री बटगणेश के दैनिक अनुष्ठानों का प्रबंधन श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन द्वारा किया जाता है। भाद्रब मास के महीने में, गणेश चतुर्थी का दिन पवित्र रूप से मनाया जाता है।

गणेश उत्सव के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

Ganesh Chaturthi at Batganesh Mandir, Puri Jagannath Temple in English

Every year Ganesh Chaturthi festival celebrate with huge pomp at Batganesh Mandir, Jagannath Temple Puri.
यह भी जानें

Blogs Ganesh Chaturthi BlogsVinayak Chaturthi BlogsGanesh Puja BlogsBatganesh Mandir Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

भक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

वृन्दावन होली कैलेंडर

होली का त्योहार देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन कान्हा की नगरी मथुरा में रंगों का यह त्योहार 40 दिनों तक चलता है, जिसकी शुरुआत वसंत पंचमी के दिन से होती है।

होली विशेष 2024

आइए जानें! भारत मे तीन दिनों तक चलने वाला तथा ब्रजभूमि मे पाँच दिनों तक चलने वाले इस उत्सव से जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ एवं भजन...

माघ मास 2024

हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ का महीना ग्यारहवां महीना होता है। माघ मास की पूर्णिमा चन्द्रमा और अश्लेषा नक्षत्र में होती है, इसलिए इस मास को माघ मास कहा जाता है। माघ मास में सुख-शांति और समृद्धि के लिए पूजा किया जाता है।

नर्मदा परिक्रमा यात्रा

हिंदू पुराणों में नर्मदा परिक्रमा यात्रा का बहुत महत्व है। मा नर्मदा, जिसे रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है, पश्चिम की ओर बहने वाली सबसे लंबी नदी है। यह अमरकंटक से निकलती है, फिर ओंकारेश्वर से गुजरती हुई गुजरात में प्रवेश करती है और खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

नर्मदा यात्रा में डिजिटल बाबा

प्रसिद्ध डिजिटल बाबा एक युवा संन्यासी हैं जिनका वास्तविक नाम स्वामी राम शंकर है। जो सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक भारतीय संस्कृति से अवगत कराते रहते हैं। वह युवाओं को जीवन में अध्यात्म का महत्व समझाते रहते हैं। डिजिटल बाबा स्वामी राम शंकर क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध नर्मदा परिक्रमा कर रहे हैं। नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस कार्य से जुड़े लोगों के बीच जाकर डिजिटल बाबा सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

लता मंगेशकर

स्वर कोकिला' के नाम से विख्यात भारत रत्न लता मंगेशकर एक प्रसिद्ध भारतीय पार्श्व गायिका, भजन गायिका और सामयिक संगीतकार थीं।

लता मंगेशकर जी - शत् शत् नमन

भारत की कोकिला लता मंगेशकर जी के निधन पर उन्हें शत् शत् नमन। उनके द्वारा गाये हुए भजनों को सुनकर भक्त अक्सर भाव विभोर हो जाते हैं। आइये उनके द्वारा गाये हुए कुछ भजनों को सुनते हैं। यही उनकी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

Hanuman Chalisa -
Hanuman Chalisa -
×
Bhakti Bharat APP